Eid Ke Din Padhne Ki Dua

May 2nd, 2022

Eid ke din ya eid ane se pahle Eid ke din padhne ki dua ke bare me yahan zarur parhiyega. Eid sirf khushi manane ka naam nahi balki Nabi-e-Kareeem ﷺ ki sunnaton par amal kar ALLAH ko raazi karne ka naam bhi hai.

Eid Ke Din Padhne Ki Dua

Eid ke din padhne wali dua ki fazilat aur inaam kya hai?

Jis tarha pure ramazan ke ibadato se ALLAH Azzawajal ko raazi karne ki koshish ki hai. Usi tarha Eid par bhi ALLAH ke Nabi ki sunnaton ka ikhtiyar kar aur Eid ki khas dua padh kar ALLAH se azeem ajar-o-sawab payen! Zarur dekhiye→ Qurbani Rules and Issues on Eid ul Adha

Eid-ul-fitr Ke Din Kya-Kya Karna Sunnat Hai?

Aur Kaunsi Dua Padhna Sunnat Hai?

Sab se Pahle Aap sabhi ko hamare yaALLAH Team ki taraf se Eid ki bahut bahut Mubarakbad. ALLAH paak Aap sabhi ki tamam mushkilon pareshaniyon door farmaye. Aur Aap sabhi ko halal aur achhi nematon khushiyon se nawaze. Ameen!

Lekin sath-sath puri hindustan mein aur duniya me jahan-jahan bhi musalmano par zulm ho rahe hai. Apne un bhai-behno aur buzurgon ki ALLAH Ta’ala se hifazat dua zarur karein! Zarur dekhiye→ Shaban Ke Mahine Ki Fazilat

Khas Dua!

ya ALLAH ya Muntaqimo TU un zalimon se sabse behtar badla lene wala hai! ham par aise zalim baddhah musallat na kar aur na unhe ham par ghalib kar!

Eid-ul-Fitr Ki Sunnatein Kya Hai?

Eid-ul-fitr ki kuch sunnaton par amal karte hue ye arkan pure karte hue ham khoob ajr-o-sawab hasil kar sakte hai!

  1. Subah jaldi uthna.

  2. Nakhun Katna.

  3. Hajamat banaana (Shariat ke mutabik baal katarwana).

  4. Miswak karna.

  5. Ghusl karna. Ghusl Karne Ki Dua Aur Niyyat Zarur dekhiye→ Ghusl Karne Ki Dua Aur Niyyat

  6. Achche kapde pahenna.
  7. Attar (Ittr) lagana (Alcohol wale spray na lagayen).

  8. Namaz-e-fajar Mohalle ke Masjid mein padhna.
  9. Eid ki namaz ke liye jane se pahle Taak (1, 3, 5, ya 7) khujoore khana.

  10. Namaz-e-Eid se pahle sadqa-e-fitr ada karna. Zarur dekhiye→ Isale Sawab Ka Tariqa Aur Fazilat
  11. Eid-ul-Fitr ki namaz ke liye Eidgaah paidal jana. (Majbur aur maazoor shakhs sawari ka ikhtiyar bhi kar sakte hai).

  12. Ek raste se jana aur dusre raste se wapas ana.

  13. Nichi nazar kar ke jana aur wapas ana.

  14. Namaz-e-Eid ke liye jate huye raaste mein Takbir-e-Tashreeq ahista awaz mein padhte huye jana.

Takbeer-e-Tashreeq Kya Hai?

Eid Ke Din Padhne Ki Dua Hi Takbeer-e-Tashreeq Hai.

eid ke din padhne ki dua tasbeeh tashreeq

ALLAHu Akbar
ALLAH Bahot Bada Hai

ALLAHu Akbar
ALLAH Bahot Bada Hai

La ilaha Illah
ALLAH Ke Siwa Koi ‘Ibadat Ke Layaq Nahi

Wallahu Akbar
Aur ALLAH Bahot Bada Hai

ALLAHu Akbar
ALLAH Bahot Bada Hai

Wa lillahil-‘Hamd
Aur Tamam Ta’areefein ALLAH Hi Ke Liye Hai

  1. Namaz-e-Eid se pehle koyi nifli namaz na padhna.

  2. Eid-ul-Fitr ki namaz Eid gaah mein ada karna. Zarur dekhiye→ Ayat-e-Sakina Ki Fazilat

  3. Namaz-e-Eid ke bad Musafah aur Mu’aanaqa karna.

  4. Apas mein Mubarak-baad dena.

  5. Khushi zahir karna.

  6. Kasrat se sadqa dena.
  7. Rishtedaron, doston aur padosiyon ke ghar jana, unko apne ghar bolana.

Eid ke din in sunnaton par amal karein aur khoob sawab kamaye. ALLAH Rabbul izzat hamare pyare Aaqa Muhammad ﷺ ke sadqe Aapse aur ham sab se razi ho jayega. Insha ALLAH.

Zarur Padhiye:

→ Bakra Zibah Qurbani Karne Ki Dua With All Translations

→ Itikaf Ka Tarika Aurton Ke Liye

→ Safar Ki Dua in Hindi Urdu Arabic English-Images

Eid-ul-Fitr Ka Khas Amal

Hadees-e-Mubarika

Niche pesh ki gayi hadees se sabit hota hai ke:

Eid ki namaz se pahle is baat ka khas khyal rakhna zaruri hai. Namaz-e-Eid ke liye ghar se nikalne se pahle kuch khujoore taak ta’adaad (1, 3,5,7,ya isi tarah) mein kha kar nikle.

Rasool ALLAH ﷺ Eid-ul-Fitr ke din tab tak namaz ke liye nahi nikalte jab tak kuch khajure na kha lete aur wo taak (1, 3,5,7) khujoore khate.

Hawala: (Saheeh Bukhari, Volume 2, 953)

Shawwal (Eid) Ke Mahine Ke 6 Roze Pure Saal Ke Roze Ka Sawab

Mah-e-Shawwal Ki Khasiyat

Eid ke Mahine ka naam ‘Shawwal’ hai. Aur is mahine mein Nabi-e-Kareeem ﷺ chhey (6) roze rakha karte the aur ye bayan bhi irshaad farmaya:

Jo Aadmi Mah-e-Ramazan ke roze rakhega to yeh eh mahine ke roze (Sawab mein) das (10) mahino ke roze ke barabar ho jayenge, phir jisne Eid-ul-Fitr ke baad Shawwal ke 6 roze rakhein to yeh sara amal saal bhar ke roze barabar ho jayega.

Hawala: Musnad Ahmed, Jild 4, 3660, Saheeh Bukhari

Abu-Dawood Hadees #2433

 

Shawwal Ke Roze Kab Rakhna Chahiye?

Ye 6 roze shawwal ke mahine me yani Eid-ul-Fitr se jo mahina shuru hota hai. Is mahine mein chahe to ek sath 6 roze rakh le. Ya Phir wo chahe to isi mahine ke ander-ander alag-alag din karke kul 6 roze rakh le. Zarur dekhiye→ 12 Rabi ul Awal Kya Hai

Shawwal Ke 6 Roze Rakhne Wale Ko Kya Eid-ul-Fitr Manani Chahiye?

Ye dekha gaya hai ke kuch log 6 roze rakhne ke bad Eid manate hai. Aur haqiqi Eid-ul-Fitr ke din Eid nahi manate. Ye sarasar ghalat hai. Eid-ul-Fitr har imanwale ke liye usi din hogi.

Shawwal ke 6 roze rakhna sawab hasil karne ka ek zariya hai.

Insha ALLAH use pure sal ka sawab hasil hoga. Ameen. Zarur dekhiye→ Tera Teji Kyon Manate Hain?

Shawwal Ke 6 Roze Ki Niyyat Kya Hogi?

In roze rakhne walon ki niyyat ke bare me kahin hadees hawala nahi hai. Lihaza jis tarah ramazan ke mahine me roze ki niyyat karte hai. Usi tarah iski bhi niyyat ki jayegi. Zarur dekhiye→ Roza Kholne Ki Dua

Agar Eid-ul-Fitr ki yeh hamari post Aapko pasand ayi to Eid ki Mubarak-baad ke sath apne pyaron azeezon rishtedaron ke sath zarur share kijiye.

Aur Nabi-e-Kareem ﷺ ke kuch sunnaton ko apno ke sath share kar sawab-e-jariya ban kar sawab kamane ka mauka bilkul na gawayen.

Eid-ul-Fitr Ke Bare Me Aurton Ke Liye Khas Hukm

Islam mazhab mein aurton ko poshida rakha jata hai. Lihaza aurtein jitna kam ghar se bahar nikle utna achha hai.

Lekin Eid-ul-Fitr ke din aurton ko bhi Eid gaah jane ke liye kaha karte hai. Jiski daleel niche di gayi hadees se saabit hai.

Aap ﷺ aurton ko bhi Eid gaah jane ke liye kaha karte the.

Hadees Number 1

Hazrat Umme-Atiyya R.A. ne farmaya ke humein hukum tha ke hum jawan pardah wali auraton ko Eidgah ke liye bahar nikale,
Aur Hafsa R.A. ki riwayat mein is qadar ziada hai ke jawaan aur pardah waliyan zarur (Eidgah jaye) aur haizah aurtein (menstruating women) namaaz ki jagha se alag rahe.

Saheeh-Bukhari, Volume No.: 02, Book: 13, Hadees No.: 974

Zarur dekhiye→ Namaz Ke Baad Ki Dua

Hadees Number 2

Hazrat Umm-e-Atiyya R.A. se riwayat hai ke Rasool ALLAH ﷺ ne Eid-ul-Fitr aur Eid-ul-Adha ke din hamein aur pardah nasheen Aaurton ko nikalne ka hukum diya, aur haizah Auratein ( menstruating women ) namaz se alahidah rah kar bhalai aur musalmano ki dua mein hazir ho,
Maine arz kiya ya Rasool ALLAH ﷺ!

Hum me se jiske pass chadar na ho to? Aapne ﷺ ne farmaya chahiye ki iski bahan apni chadar isko pahna de,

Saheeh-Muslim, Volume No.: 02, Book: 04, Hadees No.: 2056

Hadees Number 3

Hazrat Umme-Atiyya R.A. se riwayat hai ke humein Rasool ALLAH ﷺ ne hukum diya ke kawari, jawaan, aur parde waliyan Eid-ul-Fitr ki namaaz ke liye jaye aur mardon ke pichhe namaz ada karein aur haizah auraton ( menstruating women ) ko hukum diya ke wo musalmano ki Eid-gah se zara door rahein.

Saheeh-Muslim, Volume No.: 02, Book: 04, Hadees No.: 2054

Agar apko post pasand aye to apno se share zarur kijiyega.

‘ईद के दिन पढ़ने की दुआ

‘ईद के दिन या ‘ईद से पहले ‘ईद के दिन पढ़ने की दुआ के बारे में यहाँ ज़रूर पढियेगा। ‘ईद सिर्फ खुशी मनाने का नाम नही बल्कि नबी-ए-करीम ﷺ की सुन्नातों पर अमल कर अल्लाह को राज़ि करने का नाम भी है।

‘ईद के दिन पढ़ने की दुआ की फ़ज़ीलत और इनाम क्या है?

जिस तरह पूरे रमाज़ान के इबादतों से अल्लाह अज़्जवाजल को राज़ी करने की कोशिश की है। उसी ईद पर भी अल्लाह के नबी की सुन्नतों का इख़्तियार कर और ईद की खास दुआ पढ़ कर अल्लाह से अज़ीम अजर-ओ-सवाब पायें!

‘ईद के दिन क्या-क्या करना सुन्नत है?

और कौनसी दुआ पढ़ना सुन्नत है?

सबसे पहले तो आप सभी को हमारी या अल्लाह टीम की तरफ से ‘ईद की बहुत बहुत मुबारक-बाद। अल्लाह पाक आप सभी की तमाम मुश्किलों परेशानियों को दूर फरमाये। और आप सभी को हलाल और अच्छी नेमतों से नवाज़े। आमीन!

लेकिन साथ-साथ पूरी हिंदुस्तान में दुनिया में जहाँ-जहाँ भी मुसलमानो पर ज़ुल्म हो रहे हैं। अपनेउन भाई-बहनो और बुज़ुर्गों की अल्लाह त’आला से हिफाज़त की दुआ ज़रूर करें|

या अल्लाह या मुंतकिमो तु उन ज़ालिमों से सबसे बेहतर बदला लेने वाला है! हैं पर एेसे ज़ालिम बादशाह मुसल्लत न कर और न उन्हे हम पर ग़ालिब कर|

ईद-उल-फ़ित्र की सुन्नतें क्या है?

ईद-उल-फ़ित्र की कुछ सुन्नतों पर अमल करते हुए हम ख़ूब अजर-ओ-सवाब हासिल कर सकते है|

  1. सुबह जल्दी उठना।

  2. नाख़ून काटना|

  3. हजामत बनवाना ( शरीयत के मुताबिक बाल कटवाना)|

  4. मिस्वाक करना।

  5. ग़ुस्ल करना|

  6. अच्छे कपड़े पहनना। ज़रूर देखिए→ नए कपडे पहनने की दुआ
  7. अत्तर (इत्र) लगाना (अल्कोहल वाले स्प्रे न लगाएं)।

  8. नमाज़-ए-फजर मोहल्ले के मस्जिद में पढ़ना।
  9. ‘ईद की नमाज़ के लिए जाने से पहले ताक (1, 3,5,7) खुजूरे खाकर जाना।

  10. नमाज़-ए-‘ईद से पहले सद्क़ा-ए-फ़ित्र अदा करना।
  11. ‘ईद-उल-फ़ित्र की नमाज़ के लिए ईदग़ाह पैदल जाना। (मजबूर और माज़ूर शख़्स सवारी का इस्तिमाल भी कर सकता है)|

  12. एक रास्ते से जाना और दूसरे रास्ते से वापस आना।

  13. नीची नज़र कर के जाना और नीची नज़र करते हुए ही लौटकर वापस आना।

  14. नमाज़े-ए-‘ईद के लिए जाते हुए रास्ते में तकबीर-ए-तशरीक़ आहिस्ता आवाज़ में पढ़ते हुए जाना।

तकबीर-ए-तशरीक़ क्या है?

‘ईद के दिन पढ़ने की दुआ ही तकबीर-ए-तशरीक़ है। इसे पढ़ने की बहोत फ़ज़ीलत है|

अल्लाहु अकबर

अल्लाह बहुत बड़ा है

अल्लाहु अकबर

अल्लाह बहुत बड़ा है

ला इलाहा इल्लाह

अल्लाह के सिवा कोई ‘इबादत के लायक़ नही

वल्लाहु अकबर

और अल्लाह बहुत बड़ा है

अल्लाहु अकबर

अल्लाह बहुत बड़ा है

वा लिल्लाहिल-‘हम्द

और तमाम ता’अरीफ़ें अल्लाह ही के लिए है

  1. नमाज़-ए-‘ईद से पहले कोई निफ्लि नमाज़ न पढ़ना।

  2. ‘ईद की नमाज़ ‘ईदग़ाह में अदा करना।

  3. नमाज़-ए-‘ईद के बाद मुसाफ़ह और मु’आनक़ा करना।

  4. आपस में मुबारक-बाद देना।

  5. ख़ुशी ज़ाहिर करना।

  6. कसरत से सद्क़ा देना।
  7. रिश्तेदारों, दोस्तों और पड़ोसियों के घर जाना, उनको अपने घर बुलाना।

ईद के दिन इन सुन्नतों पर अमल करें और ख़ूब सवाब कमाए। अल्लाह रब्बुल ‘इज़्ज़त हमारे प्यारे आक़ा मु’हम्मद ﷺ के सद्क़े आपसे और हम सब से राज़ि हो जायेगा। इंशा अल्लाह| ज़रूर देखिए→ हिसार बनाने का तरीक़ा

ईद-उल-फ़ित्र का खास अमल

हदीस-ए-मुबारिका

नीचे पेश की गयी हदीस से साबित होता है के:

ईद की नमाज़ से पहले इस बात का ख़ास ख़याल रखना ज़रूरी है। नमाज़-ए-‘ईद के लिए घर से निकलने से पहले कुछ ख़ुजूरे ताक त’अदाद (1, 3,5,7 या इसी तरह) में खा कर निकले।

रसूल अल्लाह ﷺ ईद-उल-फ़ित्र के दिन तब तक नमाज़ के लिए नही निकलते जब तक कुछ ख़ुजूरे न खा लेते और वो ताक् (1, 3,5,7) ख़ुजूरे खाते।

हवाला: सहीह बुख़ारी, वॉल्यूम #2953

शाववाल (ईद) के महीने के 6 रोज़े पूरे साल के रोज़े का सवाब

माह-ए-शव्वाल की खासियत

‘ईद के महीने का नाम ‘शव्वाल’ है। और इस महीने में नबी-ए-करीम ﷺ छे (6) रोज़े रखा करते थे और ये बयान भी इरशाद फरमाया:

जो आदमी माह-ए-रमज़ान के रोज़े रखेगा तो यह एक महीने के रोज़े (सवाब में) दास (10) महीने के रोज़े के बराबर हो जायेगा, फिर जिसने ईद-उल-फ़ित्र के बाद शववाल के 6 रोज़े रखे तो यह सारा अमल साल भर के रोज़े के बराबर हो जायेगा।

हवाला: मुसनद अहमद, जिल्द 4, 3660, सहीह बुख़ारी

अबू-दावूद हदीस #2433

शव्वाल के रोज़े कब रखना चाहिए? ये 6 रोज़े शव्वाल के महीने में यानी ‘ईद-उल-फ़ित्र से जो महिना शुरू होता है। इस महीने में चाहे तो एक साथ 6 रोज़े रख लें। या फिर वो चाहे तो इसी महीने के अंदर-अंदर अलग-अलग दिन करके कुल 6 रोज़े रख ले। ज़रूर देखिए→ नूह अ.स. की दुआ

शववाल के 6 रोज़े रखने वाले को क्या ईद-उल-फ़ित्र मनानी चाहिए?

यह देखा गया है के कुछ लोग 6 रोज़े रखने के बाद ‘ईद मनाते है। और हक़ीक़ी ‘ईद-उल-फ़ित्र के दिन ‘ईद नही मनाते। यह सरासर ग़लत है। ‘ईद-उल-फ़ित्र हर इमानवाले के लिए उसी दिन यानी 1 शव्वाल को ही होगी।

शव्वाल के 6 रोज़े रखना पूरे साल के रोज़े रखने के बराबर सवाब हासिल करने का एक ज़रिया है।

इंशा अल्लाह उसे पूरे साल का सवाब हासिल होगा। आमीन|

शववाल के 6 रोज़े की निय्यत क्या होगी?

इन रोज़े रखने वालों की निय्यत के बारे में कहीं हदीस हवाला नही है। लिहाज़ा जिस तरह रमज़ान के महीने में रोज़े की निय्यत करते है। उसी तरह इसकी भी निय्यत की जायेगी। क्योंके रोज़े अल्लाह ही से जज़ा पाने के लिए रखे जाते है| ज़रूर देखिए→ सलातुल हाजत पढ़ने का सही तरीक़ा

‘ईद-उल-फ़ित्र के दिन औरतों के लिए खास हुक्म

इस्लाम मज़हब में औरतों को पोशीदा रखा जाता है। लिहाज़ा औरतें जितना कम घर से बाहिर निकले उन अच्छा है।

लेकिन ‘ईद-उल-फ़ित्र के दिन औरतों को भी ‘ईद ग़ाह जाने के लिए कहा करते है। जिसकी दलील नीचे दी गयी हदीस से साबित है।

आप ﷺ औरतों को भी ‘ईद ग़ाह जाने के लिए कहा करते थे।

हदीस नंबर 1

हज़रत-उम्म-ए-‘अतिय्या र.आ.ने फरमाया के हमें हुकुम था के हम जवान पर्दा वाली औरतों को ईदग़ाह के लिए बाहर निकले,

और हफ़्सा र.अ. की रिवायत में इस क़दर ज़ियादा है के जवान और पर्दा वालिया ज़रूर (ईदग़ाह जाये) और हैज़ह औरतें नमाज़ की जगह से अलग रहे।

सहीह बुख़ारी, वॉल्यूम #02, किताब: 13, हदीस: 974

अगर ईद-उल-फ़ित्र की यह हमारी पोस्ट पसंद आई तो ईद की मुबारक-बाद के साथ अपने प्यारों अज़ीज़ों रिश्तेदारों के साथ ज़रूर शेयर किजिये।

और नबी-ए-करीम ﷺ के कुछ सुन्नतों को अपनों के साथ शेयर कर सवाब-ए-जरिया बन कर सवाब कमाने का मौका बिल्कुल न गवायें।

हदीस नंबर 2

हज़रत उम्म-ए-‘अतिय्या र.अ. से रिवायत है के रसूल अल्लाह ﷺ ने ‘ईद-उल-फ़ित्र और ईद-उल-अधा के दिन हमें पर्दा नशीन् औरतों को निकलने का हुक्म दिया, और हैजाह् औरतें नमाज़ से अलैहदा रह कर भलाई और मुसलमानो की दुआ में हाज़िर हो, मैंने अर्ज़ किया या रसूल अल्लाह ﷺ!

हम में से जिसे पास चादर न हो तो?

आपने ﷺ ने फरमाया चाहिए की इसकी बहन अपनी चादर इसको पहना दें,

सहीह बुख़ारी, वॉल्यूम #02, किताब: 13, हदीस: 2056

हदीस नंबर 3

हज़रत उम्म-ए-‘अतिय्या र.अ. से रिवायत है के हमें रसूल अल्लाह ﷺ ने हुकुम दिया के कुंवारी, जवान और पर्दे वालिया ‘ईद-उल-फ़ित्र की नमाज़ के लिए जाए और हैज़ह औरतों को हुक्म दिया के वो मुसलमानो की ‘ईदगाह से ज़रा दूर रहे।

सहीह बुख़ारी, वॉल्यूम #02, किताब: 13, हदीस: 2056

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

2 Comments

  1. Aruna on said:

    Hello my daughter hole day stay in bedroom don’t want to come out from bedroom something smells bad to her . When she goes to tap she waste water when she shower after shower she put new clothes again she put water in her mouth wet her clothes. Please pray one year now can’t sleep at night can’t eat properly anything she don’t feel like eating roti rice before she help me wipe dishes cook food in kitchen please pray for Simran . Studying in university wants pass her exams .

    • May ALLAH grants her good health

Apne sawal yahan puchiye!