What is Shirk Meaning in Islam in Hindi

October 26th, 2022

ALLAH Pak ke sath kisi aur ko ibadat mein shareek karna yani shirk gunah-e-kabeera hai.

Shirk ki Hadees in Islam

शिर्क का मतलब इस्लाम में | What is Shirk Meaning in Islam in Hindi

Shirk Kya Hota Hai?

Shirk ka matlab islam mein hota hai shareek karna. ALLAH Pak ek hi ma’abood hai aur Uske siwa koi aur ibadat ke layaq nahi. Wo hi ek Akela hamara Khaliq aur Maalik hai.

Islaam Mein Shirk Ka Kya Matlab Hota Hai ?

Islaam ek aisa mazhab hai jismein ALLAH Azzawajal ke siwa kisi ki bhi ibadat ka tasawwur bhi nahi kiya jaa sakta.

Shirk ka matlab hai shareek (hissedar) karna. Jab ki ALLAH Subhanahu Wa Ta’ala ka koyi hissedar (partner) nahi hai.

Wo jo karta hai apni marzi se karna. Use kisi puchhna nahi padta. Kisi ko batana nahi padta.

ALLAH paak bas kahta hai kun (ho jaa) aur wo ho jati hai. Yahan dekhiye→ Surah Yaseen in Hindi Tarjuma

Wo tanha hai. Na kisi ne USE paida kiya. Na USSE koyi paida hua.

Wahi hai jisne puri qayanat banayi, duniya banaya, raat aur din banaye, insan, farishte aur shaitan banaye.

Jab log Us Zul Jalaal Wal Ekram ALLAH paak ke liye ki jane wali ibadat izzat muhabbat dar ka tazkeera kisi insan, qudrat, farishte, shaitan, jinn ya phir bott se karte hai to use shirk kaha jata hai.

Log aisa sochte hai ke uske (Ghairullah) pas hamare takleefon ka ilaaj hai.

Ya usse (Ghairullah) mang kar hamari dua qubool ho sakti hai. Ya phir wo khas chizen jo sirf ALLAH paak ke liye hona chahiye dusre ghairullah ke liye karna shirk hai.

To jab ALLAH Ta’ala ke sath kisi ko shareek kiya jaye to kabeera gunah hai aur iski mafi nahi. ghair imanwale ALLAH Pak ke siwa kisi aur ko pooj kar unki ibadat kar shirk karte hai.

ALLAH ke alawa kisi aur ko madad ke liye pukaarna yeh shirk hai. Yahan dekhiye→ Pani Peene Se Pahle Aur Bad Ki Dua

Yahi Tu musaalman ki pehchan hai, ke wo ALLAH Ta’ala ke siwa kisi aur samne na jhuke aur nahi uski ibadat kare.

Kalima Tayyiba

“Laa iLaaha iLLaLLaahu Mu’hammadur RasooLuLLah”

“ALLAH ke siwa koyi Ma’aabud (ibadat ke layaq) nahi RasooLuLLah ﷺ USKE Rasool Hai”

Muhammad ﷺ ne farmaya:

“ALLAH ke sath Shirk na karna, agarche tum tukde tukde kar diye jao, aur jala diye jao”.

Sunan Ibn Majah: No. 4034, Darja: Saheeh

Log is hadd tak shirk mein aage nikal chuke hai ke kuch log kehte hai. ALLAH se mango to wo kehte hai. Tum ALLAH wale ho ham falan wale hai.

Kya Rasool ALLAH ﷺ ne kabhi ALLAH Ta’ala ke alawa pukara kisi ko?

Hadees-e-Mubarika

Hazrat Jaabir R. A. se riwayat hai ki Nabi-e-Kareem ﷺ se Jadu Mantar (Sifli Amal ko Sifli Amal se kaatne) ke bare mein puchha gaya to Aap ﷺ ne farmaya ” Wo Shaitani Amal hai”

Mishkatul Masabih no. 4553 (Saheeh)

Kya Aap ﷺ ne yeh ta’alim di ke pukaro madad ke liye kisi aur ko ALLAH paak ke alawa?

Yeh ALLAH paak ke Rab hone mein shirk hai. ALLAH Ta’ala janta hai hamara haal.

Lekin baaz log kahte falan bhi janta hai hamare haal ko.

Qur’an majeed mein ALLAH Ta’ala irshad farmaya hai:

“Yaqinan ALLAH apne sath Shareek kiye jaane ko nahi Bakhsta aur uske siwa jise chahe bakhs deta hai, aur jo ALLAH ke sath Shareek muqarrar kare usne bahut bada Gunah aur Bohtan bandha”.

Surah An-Nisa, Ayat no. 48

Shirk Ki Qismein

Kya ALLAH Ke Siwa Kisi Aur Se Dua Mangna Chahiye?

Ji nahi, yeh sarasar na-insafi hai us zaat ke liye jisne hamein paida farmaya. Yahan dekhiye→ yaALLAH Testimonial For Marriage

Apni hajat ko pura karne ke liye, mushkil asaan karne ke liye, ALLAH Ta’ala ke alawa kisi aur ko pukarna shirk hai.

Jo faukhal asbaab ho, yani jisse mangne ka asbaab na ho. Jaise jo apke paas hai hi nahi uska naam le kar madad ke liye pukarna, shirk hai.

To baaz log kahte hai apne maa baap se bhi madad na liya karo yeh bhi shirk hai.

Aap madad ke liye pukar sakte hai unhe jo aapke nazdeek ho, jo apki bat sun raha hai.

Jaise ek bachche ko bhuk lagi aur wo apni maa se khana mang sakta hai.

Ye hua tahetal asbaab, maslan maa pahle sabzi layegi phir pakayegi tab wo apne bachche ko khana degi.

Yeh sab tahetal asbaab ke tehad hua.

Beshaq ALLAH ke wali hote hai unka adab ehtaram hone chahiye. Jinhone ALLAH Azzawajal ke liye apne nafs ki qurbani di, apne ibadaton, rozon, namazon se ALLAH paak ko razi karne ki har mumkin koshish ki.

Lekin unko ALLAH ke maqaam par la rakhna, ALLAH ke sath unko shareek karna ghalat hai. Bila shuba shirk hai.

Jaise Esha Ibne Maryam ko unke maqaam se utha ALLAH ke sath shareek kar diya unke qaum ne.

Aise hi to aj ke musalmaan kar rahe hai. Jinka jo maqaam usse ucha bana diya.

Log mazaron par “Astagh-firuLLah” sajda karte phir rahe hai.

Unko hajat rawa maan rahe hain, mushkil kusha bana kar pukarte hai. Yahan dekhiye→ Itikaf Ka Tarika Aurton Ke Liye

Hamein ALLAH ki zaat ke sath kisi ko shareek nahi karna chahiye na kisi Wali ko, na kisi Nabi ko aur na hi kisi Sahaba ko.

Hamein ghauron phikar karna chahiye, aise kaamon se baaz aa kar ALLAH Ta’ala se taubah karni chahiye.

1. Kya Islam Me Laal Mirch Se Nazar Utarna Sahi Hai?

Log alag alag tareeqe se shirk karte hai. Jaise agar kisi ke bachche ko naraz lag jaye to laal mirch se nazar utarte hai.

Phir use jala kar phenk dete hai. Aur isi tarah alag alag chizon ko istimaal karte hai is niyyat se ke yeh hamari hifazat karegi.

Mushkil ko rokegi, nazar-e-bad se mehfooz rakhegi.

Maslan dukhan ya makaan mein nimbu-mirch ko latka kar apne gharon aur dukanon ki hifazat unke zimme chhor dete hai.

Bila shuba ye sab shirk hai. Aur aise bahut se chizon is niyyat se istimaal karna shirk hai.Yahan dekhiye→ Mani Nikalte Waqt Ki Dua

2. Kya Tone Aur Totko Ka Istemaal Islaam Jaiz Hai?

  • Anda
  • Patthar
  • Kankar
  • Shankh
  • Manka
  • Mala
  • Chawal
  • Kaudi
  • Nimbu
  • Mirchi
  • Anguthi
  • hilawa
  • ariyal
  • Taweez
  • Qabr ki mitti
  • Hurf-e-muqattaat
  • Ghode ki naal
  • Imaam zaamin
  • Taage
  • Dhaage
  • Sipi
  • Moti
  • Kaghaz
  • Kapda

Waghairah, waghairah.

Insab chizon ka latkana, lagana, pehennna, bandhna, khana, chipkana, dabana, thokna, rakhna is niyyat se ke isse koyi fayeda pahuchage, hifazat hogi, khair-o-barkat ayegi, mushkil asaan hogi ya jo bhi aur niyyat ho yeh sab shirk hai.

3. Kya ALLAH Ke Awala Kisi Aur Ke Liye Qurbani Dena Jaiz Hai?

Ji nahi, chahe wo zinda ho ya murda ho, to phir jinn ho, shaitan ho, unke (ghairullah) ke naam qurbani karna bhi shirk hai.

4. Kya ALLAH Ta’ala Ke Alawa Kisi Aur Dua Mangna Shirk Hai?

Ji han, Jaise koyi be-aulad hai aur wo kisi bhi zinda ya murda insan se dua kare ke mujhe aulad se nawaaz ho yeh bhi shirk mein shumar hai.

Ya mushkil ke waqt ALLAH Azzawajal ke awala kisi se madad mangna bhi ismein shumar hai.Yahan dekhiye→ PCOS Ka Wazifa

5. Kya Qabron Par Tawaaf Karna, Unke samne namaz Padhna Shirk hai?

Ji han, bilkul gunah-e-kabeera hai. Is shirk ki maafi nahi hai.
Qayamat ke din ALLAH Azzawajal har gunah maaf kar dega. Lekin shirk ki maafi ka faisla ALLAH apne zimme le lega.

6. Kya Islaam Me Jadu Sikhna, Dikhana, Karna, Karwana Jaiz Hai?

Jadu karna, karwana, sikhna, sikhana ya ismein kisi bhi tarah se jaan bujh kar hissa lena shirk hai aur sath hi kufr bhi hai.

Kyun ki ismein jinno se shaitano se khush kar ke unse apna kaam karwaya jata hai.
Pahle to yeh kufr hai aur phir shirk mein bhi shunar ho jata hai.

Hadees-e-Mubarika

Nabi-e-Kareem ﷺ ne farmaya:

“Tabah karne wali chiz ALLAH ke sath Shirk Karna hai, is se bacho aur Jadu karne/karanevaale se bhi bacho”.

Saheeh Al-Bukhari No. 5764

Hadees-e-Mubarika

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Taweez, gandey (mantar) waghairah sab shirk hai”.

Sunan Abu Dawud, Vol no. 3, Hadees No. 485, Darja: Saheeh

7. Kya Islaam Me Faal Khulwana Shirk Hai?

Ji han, faal khulna khulwana bhi shirk hai. Ane wale kal ke bare mein janna, apne maslon ka hal faal ke zariye janna shirk hai. Yahan tak ke agar chori ho jaye aur janna ho ke chori kisne ki ye bhi faal nikalne ke zariye dekha jata hai.Yahan dekhiye→ Tahajjud Ki Namaz Padhne Ka Tarika

Faal Nikalna Kya Hai

4 ya 5 pudiya bana kar usme se chunna aur yakin karna ke jaisa ismein likha hai waisa hi hoga yahi hai faal kholna ka tarika.

Jisne ALLAH Ko Kisi Ke Sath Uska Thikana Jahannam Hai

Qur’an majeed mein ALLA ne irshad farmaya:

“Beshaq jisne ALLAH ke saath Shirk kiya ALLAH Ta’ala ne us par jannat Haraam kar di hai, aur uska thikana jahannam hi hai”.

Surah Al-Maidah, Ayat no. 72

8. Kya Taweez Pahenna Jaiz Hai?

Taweez ka pahenna hifazat ke liye yeh bhi shirk mein shumar hai.

Hadees-e-Mubarika

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Taweez, gandey (mantar) waghairah sab shirk hai”.

Sunan Abu Dawud, Vol no. 3, Hadees no. 485, Darja: Saheeh

Yahan dekhiye→ How to Pray Salat Tauba-Salatul Taubah Ki Namaz Ka Tarika

9. Kya ALLAH Ke Siwa Dusre Muhabbat Rakhna Sahi hai?

Jaisa dar aur muhabbat khalis ALLAH ke liye hona chahiye agar wo ALLAH paak ke kisi bhi makhlooq ya shaitan aur se kiya jaye to wo shirk hai.

Aisi muhabbat jo sirf ALLAH Ta’ala se honi chahiye wo aj kal ke naujawan apne mashooq se kar lete hai.

Agar wo insaan na mila mar jaunga, zindagi uske bina adhuri hai. Baaz dafa to log khud khushi tak kar lete hai.

Isi tarah koyi bhi chiz jo sirf ALLAH paak ke liye hona chahiye, jaise khushi, muhabbat, dena, lena, khana pina, wo agar kisi dusre ke liye ho to shirk hai.

Aisa dar jo jhooth bolne par majboor karde. Jab ki sach bolkar ALLAH paak ko khush kiya jaa sakta hai.

Sadqa kisi makhlooq ko khush karne ke liye dena ya lena shirk hai.

Roza kisi makhlooq ke liye rakhna chahe wo zinda ho ya nahi shirk hai.
Muhabbat mein andhe ho kar wo kaam karna jo ALLAH paak ko na pasand ho shirk hai.

Lekin iska yeh matlab nahi ke aap sher ya cheetah ke samne aa kar kahe ke mujhe dar nahi. Aise janwaron se bachne ki koshish karne mein koyi harj nahi. Yahan dekhiye→ Musafir Ki Dua

10. Tatto Banwana Bhi Shirk hai?

Badan mein koyi bhi design gudhwana is niyyat se ke hifazat hogi, shirk mein shumar hai.

Hadees-e-Mubarika

Abu Hurairah R. A. se riwayat hai ke,

“Rasool ALLAH ﷺ gudwane se mana farmaya”.

Saheeh Al-Bukhari no. 5740

Jab Rasool ALLAH ﷺ ne ise sakhti se mana farmaya to ye wazeh hai e ye Na-Jaiz hai. Aur jo najaiz hai wo shirk hai.

11. Chand-suraj ki ugne aur dhalne par apne kaamon ko anjaam dena. Maslan, log ka sochna ke:

Maghrib ke baad nikkah nahi karna chahiye isse talaaq ho sakta.

Amawas ki raat hai ghar se bahir nahi jana chahiye.

Purnima ki raat hai aj koyi kaam nahi ban payega.

Aj mangal (Wednesday) hai aj zaruri kaam karna sahi nahi hoga.

Tum pair se paida huye the isliye amawas ki raat ghar se bahir nahi jana.

Jantari nikal kar shadi ki tareekh rakhna. Aur dekhna ke kahi is tareekh mein akrab (bichcho) to nahi hai.

Kisi bad-shaguni ke waha se apne kaam ko rok dena shirk hai.

Yahan dekhiye→ Ya Zal Jalali Wal Ikram

Hadees-e-mubarika

“Rasool ALLAH ﷺ ne teen bar farmaya bad shaguni shirk hai aur ham mai se har ek koyi waham ho hi jata hai lekin ALLAH Subhanahu Ta’ala uski tawaqqal (sirf ALLAH par yakeen) se door farma deta hai”.

Sunan Abu Dawood, No. 3901- Saheeh

Jaise billi ne agar rasta kat diya to ruk jana, isse kaam acha nahi hoga.

Nabi kareem ﷺ ne farmaya:

Meri ummat ke 70 hazaar log be hisaab jannat mein jayenge, yeh woh log honge jo jhaad phoonk nahi karate na shagun lete hain aur apne rab hi par bharosa rakhtay hain.

Saheeh Al-Bukhari: 6472

Aise mein kisi bhi tarah se bad shagoni se bachna chahiye, Yeh ek tarah se shirk aur ALLAH par bhrosa naa karne ka imkaan hai. ALLAH Taala hamein buraiyon se mehfooz rakhay aur buray asraat se bhi bacha kar rakhay. यहाँ→  देखिए|

12. Kya Dikhawa bhi Shirk Hai?

Kisi bhi tarah ka dikhawa karna jaise roze, namaz, hajj zakat, sadqah waghairah jo sirf ALLAH paak ko khush karne ke liye karna chahiye use ALLAH Ta’ala ke makhloqaat ko dikhane ke liye karein to shirk hai.

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Jisne dikhlane ke liye namaz padhi usne Shirk Kiya, jisne dikhlane ke liye Roza rakha usne shirk kiya, aur jisne dikhlane ke liye Sadqa kiya usne shirk kiya”.

Musnad Ahmad

13. ALLAH Ke Alawa Kisi Aur Ki Qasam Khana Kaisa Hai?

ALLAH paak ke siwa kisi ki qasam khana, maa-baap ki kasam, Qabe ki kasam, ghairullah qurbani ki kasam khana shirk hai.

Hadees-e-Mubarika

Hazrat Abdullah Bin Umar R. A. se riwayat hai ke, Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:
“ALLAH Subhanahu Ta’ala ke siwa kisi ki bhi kasam khana Shirk hai”

Al-Silsila As-Sahi, no. 1073

14. Ghaib ki batein maloom karne ki koshish karna ya kisi se maloom karwana shirk hai.

Log kaise kisi bhi insan ke pas ghaib ki matlab ane wale kal ki malumaat janne ki koshish karte hai.

Jab ki Rasool ALLAH ﷺ ko bhi utna ilm tha jetna ALLAH Subhan Wa Ta’ala unhe ilm dete the.

Is baat ka tazkirah is ayat-e-mubarika se wazeh hota hai:

“Keh do ki main tumse yeh nahi kahta ki mere paas ALLAH ke khazane hai aur na main ghaib ka ilm rakhta hun aur na ye kahta hun ki main farishta hun, main to sirf wahi ki pairwi karta hun jo mujh par nazil ki jati hai”.

Surah Al-An’aam, Ayat no. 50

Yahan Dekhiye

Sadaqah Ki Dua

Bazar Me Jane Ki Dua

 

15. Kya Namaz Chhorne Ka Gunah Bada Hai?

Ji han, namaz ka chhorna bhi shirk ke iqsaam mein shumar hai. Kaafir bhi namaz nahi padhte aur mushrik bhi namaz na padhkar shirk mein hissa le lete hai.

Aap ﷺ ne farmaya:

“Beshaq aadmi aur shirk wo kufr ke darmiyan (fasla mitane wala amal) namaz ka tark (chhorna) hai”

Saheeh Muslim, no. 246

16. Chizon ko rakhna na rakhna is niyyat se ke isse yeh hota hai usse wo hota hai.

Maslan, kisi ka rumaal na rakhna isse dosti khatm ho jati hai, shirk hai.

Dosti ke liye freindship band bandh na. Muhabbat dil mein dalna sirf ALLAH paak ke hath mein hai to aisi chizon ko par yakin karna shirk hai.

17. Tote sitaron ko dekh karna dua mangna. Kya yeh bhi shirk hai, ji haa yeh bhi shirk hai.

Ya giri huyi palkon se mangna bhi ismein shumar hai. Yahan dekhiye→ Bidat Kya Hai?

18. Ilm-e-nujoom ke mutabik kaam karna ya na karna.

Maslan aaj mere sitare ache nahi aj kam kal karunga. Waghairah

Irshad-e-Ilaahi hai ke:

“Aap kah dijiye, aasmaan walon mein se aur zameen walon mein se, siwaye ALLAH ke koi ghaib nahi janta”.

Surah Naml, ayat no. 65

19. Aj kal socialmedia par massage ate hai, etne logon ko share karein to sawab hai, na kiya to bura hoga.

Iske dar se share karna bhi shirk mein ata hai. Kyunki achha ya bura karne wala ALLAH paak hai massages se dar kar kuch karna ghalat hai.

20. Chehre ko padh kar dekhna ke aisi shakal wale bure hote hai, waisi shakal wale achhe hote.

Isi tarah hathon ki lakiron ko padhna aur mustakbil ka haal pata karna, yeh sabhi chizen shirk mein shumaar hai.

Hadees-e-Mubarika:

Aap ﷺ ne farmaya:

“Jo shakhs najomi ke paas jaa kar us se koyi baat puchhe, to chaalis (40) din tak uski namaz qubool na hogi”.

Saheeh Muslim no. 1496

Hadees-e-Mubarika

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Kutte ki qimat, zaaniya ki kamayi aur kaahan ki mithayi se mana farmaya hai “.

Jami’ At-Tirmidhi no. 1276

21. Aise gaano ko banana, gana, gungunana zehen mein rakhna shirk hai, jismein ALLAH paak ke sath apne mehboob ya maa baap ko shareek banaya gaya ho.

Hadees-E-Mubarika

ALLAH ke Rasool ﷺ ne farmaya:

“Meri ummat mein aise bure log paida ho jayenge jo zinakari, Resham ke kapde pehenna, sharab pina aur gaane bajane ko halaal bana lenge”.

Saheeh Al-Bukhari #5590

Ye to sarasar zulm hai us zaat ke sath jisne hamein maa ke pet mein ek ghosh ke luthde se insan banaya.

Phir 9 mahine maa ke pet mein rakh kar ham mein jaan dali.

Duniya mein laa kar hamare hisse ka rizq bheja. Achhi zindagi di, maa-baap, bhai behen, shauhar-biwi, aulad jaise nematon se hamein nawaza.

Agar uski jagah kisi aur ko zindagi dene wala, khushiyan dene wala, rizq dene wala, muhabbat dene wala, aur har wo chiz jo sirf WO (ALLAH Ta’ala) hi de sakta hai, maan le.

To yeh to sab se bada zulm huya apne Khaliq ke sath.

Abdullah ne bayan kiya:

Jab yeh ayat nazil huyi:

“Yeh wo log hai jo imaan laye aur apna aqeede ko ghalat (ALLAH ke siwa dusron ki ibadat) se nahi milate”

Al-Qur’an: 6:83

To Rasool ALLAH ﷺ ke Sahabi ne puchha:

“Ham mein se kon hai?

Ghalat nahi kiya tha?”

Phir ALLAH paak ne ayat nazil farmayi:

“Bila shuba ALLAH ke sath dusron ko Shareek kana bahot bada Zulm hai”

Al-Qur’an : 31:13

Is duniya mein to ALLAH Zul Jalal Wal Ekram ne khuli chhoot de rakhi hai.Yahan dekhiye→ Shaban Ke Mahine Ki Fazilat

Ke kisi ko bhi pujlo maan lo jo mere liye hona chahiye wo sab kisi ghairullah ke liye karlo.

Lekin jab faisle waqt ayega tab kya hoga?

Kya wo faisle waqt kaam ayega jise ALLAH Paak ke sath tum logon ne shareek banaya.

Harghiz nahi, ALLAH is muamle mein bada hi hassas hai. Maslan agar aap apne bachche ke liye har chiz karte hai.

Use khilate hai pilate hai, uski khatir mehnat majduri karte hai. Use har wo chic dete hai jisse use khushi ho use sukoon mile.

Lekin jab wahi bachcha apki ek baat na mane apka nafarmaan ho jaye.

Balki aapke sath ap kr dushman ki bat par farma-bardaar rahe. To kya aap apne bachche se khush honge?

Kya apke dil mein wahi muhabbat khuloos reh payegi?

Nahi na, to isi tarah ALLAH ke huquk ke bare mein sochen usi ne apko zindagi di, rizq diya, izzat di, nematon se apki zingadi ko khush haal bana diya.

Lekin aap kya karte hai, ghairullah ki ibadat kar lete hai.

Waliyon ki bargah ko badnaam kar dete hai. Jab ki waliyon ne bhi ALLAH paak ke siwa kisi ki ibadat nahi ki.

Waliyon ki zindagi se aapko sikhna chahiye, un jaisa taqwa ikhtiyar kar, ALLAH paak ke siwa kisi ke samne sar na jhukaye.

Aapko izzat ehteraam karne se koyi mana nahi hai, bas ALLAH paak ke liye jo khaas hai use dusron ke liye aam na banaye.

ALLAH paak hamein aur apko tauheed par qayam karein ameen.

Aise log khuli gumrahi mein hai jo ALLAH paak ke siwa ghairullah ko apna Rab maan baithe hai.

Aisa pahle ke qaum ke logon ne bhi kiya tha. Aur haqiqat samne ane par yeh kahte the jiske bare mein ALLAH paak Qur’an majeed mein irshad farmata hai.Yahan dekhiye→ Ghar Me Dakhil Hone Ki Dua

Qur’an-e-Kareem

“ALLAH ki kasam ham khuli gumrahi mein the jab ham tumko Rabbul Alameen ke barabar karat dete thi”.

Surah Ashurah, Ayat no. 97 – 98

22. Kya Khwahishat Par Chalna Bhi Shirk Hai?

Ji han, apni dili khwahishat ko pura karna jo ki ALLAH paak ne haraam qarar kiya hai. Use karna bila shuba shirk hi hai.

Jaise insano ki ibadat karna, buton ko pujna, nachna, gana, jadu karna, namaz chhorna, apni izzat-o-abrooh ki hifazat ka kar ke zina jaise kabeera gunah mein padna, haraam khana, soodh lena, waghairah.

Aur bhi na jane let me gunah hai jo musalmaan jaan bujh kar karta hai. To yeh shirk nahi to aur kya hai?

Apne Rab ke hukmon ki tameer bajaa lane wala hi sachcha aur pakka momin hai.

Jaise ke Qur’an-e-majeed furqaan-e-Hameed ka Irshad-e-mubarika hai:

Qur’an majeed mein ALLAH Ta’ala ne irshad farmaya:

“Jo log imaan laye aur apne imaan ko Zulm (Shirk) se mehfooz kiya unke liye Aman hai aur wahi hidayat pane wale log hain”.

Surah Al-An’am Ayat no. 82

ALLAH paak ke sath zulm na karna. Us din ko yaad rakhna jab sawa neza suraj hoga qayamat ka din hoga.

Tab koyi ghairullah hamare kaam na ayega. Agar aaj aap ALLAH Paak ke liye jo hamare hukooq hai use dusro ke liye karenge to sochiye qayamat ke din agar ALLAH paak ne hamare sath zulm kiya to hamara kya hoga?

ALLAHu Akbar! Aise kabeera gunah se bache warna jahannam ke aag se bachna mushkil hoga.

ALLAH Ta’ala Qur’an majeed mein irshad farmate hai:

“Luqman ne apne bete ko naseehat karte huye kaha ke:

Beta ALLAH ke sath kisi ko Shareek naa karna, Shirk to bada Zulme Azeem hai”.

Surah Al-Luqman, Ayat no. 13

Kuch gumraahi mein hi apne apko imaan wala samajh baithe hai.

Jab ki ALLAH paak ka Irshad-e-mubarika unlogo ne kabhi janne koshish tak nahi ki.

Wo gumraah hai ke wo jo karte hai sab ALLAH paak ko razi kar raha hai.

Jab ki yahi gumraahi jahannam mein le jayegi

Qur’an majeed mein ALLAH Paak irshad farmata hai:

“Ae Nabi! Aap dekhoge ke aksar log Imaan ke dawey ke bawajood siwaye Shirk ke aur kuch bhi nahi karte”

Surah Yusuf, Ayat no. 106

Yahan dekhiye→ Dua for Protection from Shirk

To ek achhe aur sachche momin bane jo sirf aur sirf ALLAH Paak ko hi is pure qayanaat, duniya, insaan, janwar, chand-suraj, hawa, pani, mitti yaha tak ke hawaon kabhi Rab Usi manta hai.

Jisne kabhi apni hajat ke liye hath uthaya to sirf Ek Rab jo sabka Maalik hai usi ke samne uthaya.

Roya gidgidaya to sirf Uske samne Jise hamare roye jane sunne ka haq hai.

Aise amal jiska inaam jannatul firdaus hai. Apne Rab ka deedaar hai.

Shirk Kitna Bada Gunah | Shirk Karne Walon Ka Kya Hoga?

إِنَّ اللَّهَ لَا يَغْفِرُ أَن يُشْرَكَ بِهِ وَيَغْفِرُ مَا دُونَ ذَ‌ٰلِكَ لِمَن يَشَاءُ ۚ وَمَن يُشْرِكْ بِاللَّهِ فَقَدِ افْتَرَىٰ إِثْمًا عَظِيمًا

Beshak ALLAH Use Nahi Bakhshta Jo USKA Shareek Kare Aur Shirk Ke Maa Siwa Dusre Gunah Jise Chae Bakhshta Hai Aur Jisne ALLAH Ka Shareek Thahraya Usne Bada Hi Gunah Kiya.

Al-Quran | Surah No.4, Surah An-Nisa, Ayat 48

إِنَّهُ مَن يُشْرِكْ بِاللَّهِ فَقَدْ حَرَّمَ اللَّهُ عَلَيْهِ الْجَنَّةَ وَمَأْوَاهُ النَّارُ ۖ وَمَا لِلظَّالِمِينَ مِنْ أَنصَارٍ

Jisne ALLAH ke saath kisi ko shareek thehraya uspar ALLAH ne Jannat haraam kardi aur uska thikana jahannum hai aur aisey zaalimon ka koi madadgaar nahin.

Al-Quran | Surah No. 5, Surah Al-Maaida, Ayat 72

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

Kabirah gunah ALLAH ke sath shirk karna, walidain ki nafarmani karna, kisi ko na-haq qatal karna aur jhooti qasam khana.

Saheeh Bukhari: Jild 8, Qasmon Ka Bayan, Hadith No. 6675

Nabi kareem ﷺ ne farmaya:

ALLAH Jalla Jalaluhu ka farmaan hai:

ke shareek banaye jane walon mein sab se zeyada main shirakat se Mustaghni hu. jis shakhs ne bhi koi amal kiya aur us mein mere sath kisi aur ko shareek kiya to main usay us ke shirk ke sath akela chhore deta hu.

Saheeh Muslim: Jild 6, Kitab Az-Zuhd 55, Hadith No. 7475

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

”ALLAH Ta’ala qayamat ke din dozakh ke sab se kam azaab paane wale se poochhe ga agar tumhe ruye zameen ki saari chize de di jaye to kya tum unke badle mein (is azaab se nijaat pane ke liye) de doge, woh kahega ke haan, ALLAH Ta’ala farmaye ga ke main ne tumhe us se bhi sahal cheez ka us waqt mutalba kiya tha jab tum aadam alaihe salam ki peeth mein the ke mere saath kisi ko shareek naa karna lekin tum ne (tawheed ka) inkaar kiya aur naa maana aakhir shirk hi kiya.

Saheeh Bukhari: Jild 8, Kitab Ar-Riqaq 81, Hadith No. 6557

Yahan dekhiye→Sone Se Pahle ki Dua | Achi Neend Ke Liye Amal

Nabi kareem ﷺ ne farmaya:

Kya main tum ko aisi cheez ke barey mein naa bata dun jo mere nazdeek maseeh Dajjal se bhi zeyada khatarnaak hai? hum ne arz kiya: kyun nahi? aap ﷺ ne farmaya: woh posheeda (chhupa hua) shirk hai jo yeh hai ke aadmi namaz padhne khada hota hai, to apni namaz ko sirf is wajah se khoobsurti se ada karta hai ke koi (bagal wala) aadmi usay dekh raha hai.

Sunan Ibne Majah: Jild 5, Kitab Az-Zuhd 37, Hadith No. 4204, Darja: Saheeh

Hazrat Abdullah Bn Masood Razi ALLAH ‘Anhu ne bayan kiya ke jab aayat-“jo log imaan laaye aur apne imaan mein zulm ki milawat nahi ki.” [Al Quran 6:82] nazil hui to nabi kareem ﷺ ke sahaba ne arz kiya hum mein aisa kaun hoga jis ne apne imaan mein zulm nahi kiya hoga, ispar ye aayat nazil hui-“ALLAH ke sath kisi ko shareek naa thehra, beshak shirk hi zulm azeem hai.” [Al Quran 31:13].

Saheeh Bukhari: Jild 4, Kitab Al-Ambiya 60, Hadith No. 3428

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya: kabirah gunah ALLAH ke sath shirk karna, walidain ki nafarmani karna, kisi ko na-haq qatal karna aur jhooti qasam khana.

Saheeh Bukhari: Jild-8, Hadith No. 6675

Azaab nahi nekiya kamaye! Post pasand aye to khud bhi amal karein aur apno se bhi share karein!

यहाँ→ अल्लाहुम्म्मग़ फिरली वलि वालीदय्या दु’आ देखिए|

शिर्क का मतलब इस्लाम में

शिर्क क्या होता है?

शिर्क का मतलब इस्लाम में होता है शरीक करना। अल्लाह पाक एक ही म’अबूद है और उसके सिवा कोई और इबादत के लायक़ नही वो ही एक अकेला हमारा ख़ालिक़ आर मालिक है।

इस्लाम में शिर्क का क्या मतलब होता है?

इस्लाम एक ऐसा मज़हब है जिसमें अल्लाह अज़्जवजल के सिवा किसी की भी इबादत का तसव्वुर भू नही किया जा सकता।

शिर्क का मतलब है शरीक (हुस्सेदार) बनाना। जब की अल्लाह सुभानहु व त’आला का कोई हिस्सेदार (पर्टनर) नही है।

वो जो करता है अपनी मारी से करता है। उसे किसी से पूछना नही पड़ता। किसी को बताना नही पड़ता।

अल्लाह पाक बस कहता है कुन (हो जा) और वो हो जाती है। वो तन्हा है। ना किसी ने उस पैदा किया न उससे कोई पैदा हुआ।

वही है जिसने पूरी क़ायनात बनाई, दुनिया बनाया, रात और दिन बनाये, इंसान, फरिश्ते और शैतान बनाये।

जब लोजी उस ज़ुल जलाल वल एकराम अल्लाह पाक के लिए की जाने वाली इबादत मुहब्बत डर का तज़किरा किसी इंसान, क़ुदरत, फरिश्ते, शैतान, जिन या फिर बूत से करते है तो उस शिर्क कहा जाता है।

लोग ऐसा सोचते है के उसके (ग़ैरउल्लाह) पास हमारे तकलीफों का इलाज है।

या उससे (ग़ैररुल्लाह) मांग कर हमारी दुआ कुबूल हो सकती है। या फिर वो खास चीजें जो सिर्फ अल्लाह पाक के लिए होना चाहिए दूसरे ग़ैरउल्लाह के लिए करना शिर्क है।

तो जब अल्लाह त’आला के साथ किसी को शरीक किया जाये तो कबीरा गुनाह है और इसकी माफ़ी नही है। गैर इमानवाले अल्लाह पाक के सिवा किसी और को पूज कर उनकी इबादत कर शिर्क करते है।

अल्लाह के अलावा किसी और को मदद के लिए पुकारना भी शिर्क है।

यही तो मुसलमान की पेहचान है, के वो अल्लाह त’आला के सिवा किसी और के सामने न झुके और ना ही उसकी इबादत करे।

यहाँ→ सूरह बक़राह हिंदी में देखिए|

कलिमा तय्यिबाह

“ला इलाहा इललल्लाहु मु’हम्मदुर रसूलुल्लाह”

“अल्लाह के सिवा कोई म’आबुद (इबादत के लायक़) नही रसूलुल्लाह ﷺ उसके रसूल है”

हज़रत मुहम्मद ﷺ ने फरमाया:

“अल्लाह के साथ शिर्क न करना, अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिया जाओ, और जला दिया जाओ”।

सुनन इब्न माजह: न. 4034, दर्जा: सहीह

लोग इस हद तक शिर्क में आगे निकल चुके है के कुछ लोग कहते है। अल्लाह से मांगो तो वो कहते है तम अल्लाह वाले हो हम फलां वाले है।

क्या रसूल अल्लाह ﷺ ने कभी अल्लाह त’आला के अलावा पुकारा किसी को?

हदीस-ए-मुबारिका

हज़रत जाबिर र. अ. से रिवायत है की नबी-ए-करीम ﷺ से जादू मंतर ( सिफ्लि अमल को सिफ्लि अमल से काटने ) के बारे में पूछा गया तो आप ﷺ ने फरमाया “वो शैतानी अमल है”।

मिश्कातुल मसाबीह न. 4553 (सहीह)

क्या आप ﷺ ने यह त’अलीम दी के पुकारो मदद के लिए किसी और को अल्लाह पाक के अलावा?

यह अल्लाह पाक के रब होने में शिर्क है। अल्लाह त’आला जनता है हमारा हाल।

लेकिन बाज़ लोग कहते है फलां भी जानता है हमारे हाल को।

क़ुर’आन मजीद में अल्लाह त’आला इरशाद फरमाता है:

” यक़ीनन अल्लाह अपने साथ शरीक किये जाने को नही बख़श्ता और उसके सिवा जिसे चाहे बख़्श देता है, और जो अल्लाह के साथ शरीक मुक़र्रर करे उसने बहुत बड़ा गुनाह और बोहतान “।

सुरह अन-निसा, आयत न. 48

यहाँ→ इल्म में इज़ाफाह की दुआ देखिए|

शिर्क की क़िस्में

1. क्या अल्लाह के सिवा किसी और से दुआ मांगना चाहिये?

जी नही, यह सरासर ना-इंसाफी है उस ज़ात के लिए जिसने हमें पैदा फरमाया।

अपनी हाजत को पुरा करने के लिए, मुश्किल आसान करने के लिए, अल्लाह त’आला के अलावा किसी और को पुकारना शिर्क है।

जो फाउखाल अस्बाब हो, यानी जिसे मांगने का अस्बाब न हो, जैसे जो आपके पास है ही नहीं उसका नाम ले कर मदद के लिए पुकारना, शिर्क है।

तो बाज़ लोग कहते है अपने माँ बाप से भी मदद न लिया करो यह भी शिर्क है।

आप मदद के लिए पुकार सकते है उन्हे जो आपके नज़दीक हो, जो आपकी सुन रहा है।

जैसे एक बच्चे को भूक लगी और वो अपनी माँ से खाना मांग सकता है।

ये हुआ तहेतल अस्बाब, मसलन माँ पहले सब्ज़ी लायेगी फिर पकायेगी तब वो अपने बच्चे को खाना देगी।

यह सब तहेतल अस्बाब के तहद हुआ।

बेशक़ अल्लाह के वली होते है उनका अदब एहतराम होनी चाहिए। जिन्होंने अल्लाह अज़्जवजल के लिए अपने नफ्स की क़ुरबानी दी, अपने इबादतों, रोजों, नमाज़ों से अल्लाह पाक को राज़ी करने की हर मुमकिन कोशिश की।

लेकिन उनको अल्लाह पाक के मक़ाम पर ला रखना, अल्लाह पाक के साथ उनको शरीक करना गलत है। बिला शुबा शिर्क है।

जैसे ईसा इब्न मरयम को उनके मक़ाम से उठा अल्लाह के साथ शरीक कर दिया उनके क़ौम ने।

ऐसे ही तो आज के मुसलमान कर रहे है। जिनका जो मक़ाम उससे उचा बना दिया।

लोग मज़ारों पर “असतग़-फीरुल्लाह” सजदा करते फिर रहे है।

उनको हजात रवा मान रहे हैं, मुश्किल कुशा बना कर पुकारते है।

हमें अल्लाह पाक की ज़ात के साथ किसी को शरीक नही करना चाहिये न किसी वली को, ना किसी सहाबा को।

क्या इस्लाम में लाल मिर्च से नज़र उतारना सही है?

लोग अलग अलग तरीक़े सर शिर्क करते है। जैसे अगर किसी के बच्चे को नज़र लग जाये तो लाल मिर्च से नज़र उतारते है।

फिर उस जला कर फेंक देते है। और इसी तरह अलग अलग चीजों को इस्तिमाल करते है इस निय्यत से के यह हमारी हीफाज़त करेगी।

मुश्किल को रोकेगी, नज़र-ए-बद से मेहफ़ूज़ रखेगी।

मसलन दुकान या मकान में निम्बू-मिर्च को लटका कर अपने घरों और दुकानों की हीफाज़त उनके ज़िम्मे चोर देते है।

बिला शुबा ये सब शिर्क है। और ऐसे बहुत से चीजों को इस निय्यत से इस्तिमाल करना शिर्क है। यहाँ→ नूह अ.स. की दुआ देखिए|

2. क्या टोने और टोटको का इस्तेमाल जाइज़ है?

  • अंडा
  • पत्थर
  • कंकर
  • शंख
  • मनका
  • माला
  • चावल
  • कौडी
  • निम्बू
  • मिर्च
  • अंगूठी
  • हिलावा
  • नारियल
  • तावीज़
  • क़ब्र की मिट्टी
  • हुर्फ-ए-मुक़त्तात
  • घोड़े की नाल
  • इमाम ज़ामीन
  • टाँगे
  • धागे
  • सीपी
  • मोती
  • कागज़
  • कपड़े वग़ैराह

इंसाब चीजों का लटकाना, लगाना, पहेनना, बंधना, खाना, चिपकाना, दबाना, ठोकना, रखना इस निय्यत से के इससे कोई फायेदा पहुुंचेगा, हीफाज़त होगी, खैर-ओ-बरकत आयेगी, मुश्किल आसान होगी या जो भी और निय्यत हो ये सब शिर्क है।

3. क्या अल्लाह के अलावा किसी और के लिए क़ुरबानी देना जाइज़ है?

जी नही, चाहे वो ज़िंदा हो या मुर्दा हो, या फिर जिन हो या शैतान उनके (ग़ैरउल्लाह) के नाम क़ुर्बानी करना भी शिर्क है।

4. क्या अल्लाह त’आला के अलावा किसी और से दुआ मांगना शिर्क है?

जी हाँ, जैसे कोई बे-औलाद है और वो किसी भी जिंदा या मुर्दा इंसान से दुआ करे के मुझे औलाद से नवाज़ दे यह भी शिर्क में शुमार है।

या मुश्किल के वक़्त अल्लाह अज़्जवजल के अलावा किसी से मदद मांगना भी इसमें शुमार है।

यहाँ→ बच्चे के बोलने का वज़ीफ़ा देखिए|

5. क्या क़ब्रों पर तवाफ़ करना, उनके सामने नमाज़ पढ़ना शिर्क है?

जी हाँ, बिल्कुल गुनाह-ए-कबीरा है। इस शिर्क की माफी नही है।

क़यामत के दिन अल्लाह अज़्जवजल हर गुनाह माफ कर देगा। इंशा अल्लाह

लेकिन शिर्क की माफी का फैसला अल्लाह पाक अपने ज़िम्मे ले लगा।

6. क्या इस्लाम में जादू सीखना, सिखाना, दिखाना, करना, करवाना जाइज़् है?

जादू करना, करवाना, सीखना, सिखाना, दिखाना या इसमें किसी भी तरह से जान बुझ कर हिस्सा लेना शिर्क है और साथ ही कुफ्र भी है।

क्यों की इसमें जिनो से, शैतानो से, खुश कर के उनसे अपना काम करवाया जाता है। पहले तो यह कुफ्र है और फिर शिर्क में भी शुमार हो जाता है।

हदीस-ए-मुबारिका

नबी-ए-करीम ﷺ ने फरमाया:

“तबाह करने वाली चीज़ अल्लाह के साथ शिर्क करना है, इस से बचो और जादू करने/कराने वाले से भी बचा”।

सहीह अल-बुखारी न. 5764, हादीन-ए-मुबारिका

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

” तावीज़, गंदेय (मंतर) वग़ैरह सब शिर्क है”।

सुनन अबू दावूद, हदीस न. 485, दर्जा सहीह

7. क्या इस्लाम में फाल खुलवाना शिर्क है?

जी हाँ, फाल खुलवाना भी शिर्क है। आने वाले कल के बारे में जानना शिर्क है। यहाँ तक कर अगर चोरी हो जाये और जानना हो के चोरी किसने की यह भी फाल निकालने के जरिये देखा जाता है। यहाँ→ मुसाफिर की दुआ  देखिए|

फाल निकालना क्या है?

4 या 5 पुड़िया बना कर उसमें से चुनना और यकीन करना के जैसा इसमें लिखा है वैसा ही होगा यही है फाल खोलना का तरीका

जिसने अल्लाह को किसी के साथ उसका ठिकाना जहन्नम है

क़ुर’आन मजीद में अल्लाह ने इरशाद फरमाया:

“बेशक़ जिसने अल्लाह के साथ शिर्क किया अल्लाह त’आला ने उस पर जन्नत हराम कर दी है, और उसका ठिकाना जहन्नम ही है”।

सुरह अल-मैदाह, आयत न. 72

8. क्या तावीज़ पहनना जाइज़ है?

तावीज़ का पहनना हीफाज़त के लिए या फिर किसी और निय्यत से, शिर्क है।

हदीस-ए-मुबारिका

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“तावीज़, गंदेय (मंतर) वग़ैरह सब शिर्क है”।

सुनन अबू दावूद, हदीस न. 485, दर्जा: सहीह

यहाँ→ हिसार बनाने का तरीक़ा देखिए|

9. क्या अल्लाह के सिवा दूसरे से मुहब्बत सही है?

जैसा डर और मुहब्बत ख़ालिस अल्लाह पाक के लिए होना चाहिये अगर वो अल्लाह पाक के किसी भी मख़लूक़ या शैतान और जिन से किया जाये तो वो शिर्क है।

ऐसी मुहब्बत जो सिर्फ अल्लाह त’आला से होनी चाहिये वो आज कल के नौजवान अपने माशूक़ से कर लेते है।

अगर वो इंसान न मिला मर जाऊंगा, जिंदगी उसके बिना अधूरी है। बाज़ दफा तो लोग खुद खुशी तक कर लेते है।

इसी तरह कोई भी चीज़ जो सिर्फ अल्लाह पाक के लिए होना चाहिए, जैसे खिशि, मुहब्बत, देना, लेना, खाना पीना, वो अगर किसी दूसरे के लिए हो तो शिर्क है।

ऐसा डर जो झूट बोलने पर मजबूर करदे, जब की सच बोलकर अल्लाह पाक को खुश किया जा सकता है।

सदक़ा किसी मख़लूक़ को खुश करने के लिए देना या लेना शिर्क है।

रोज़ा किसी मख़लूक़ के लिए रखना चाहे वो जिंदा हो या नही शिर्क है।

मुहब्बत में अंधे हो कर वो काम करना जो अल्लाह पाक को न पसंद हो शिर्क है।

लेकिन इसका यह मतलब नही के आप शेर या चीते के सामने आ कर कहे के मुझे डर नही। ऐसे जंवारों से बचने की कोशिश करने में कोई हर्ज नही।

10. टैटू बनवाना भी शिर्क है?

बदन में कोई भी डिज़ाइन गुदवाना इस निय्यत से के हीफाज़त होगी, शिर्क है।

हदीस-ए-मुबारिका

अबू हुरैरह र. अ. से रिवायत है के,

“रसूल अल्लाह ﷺ गुदवाने से मना फरमाया”।

सहीह अल-बुखारी न. 5740

जब रसूल अल्लाह ﷺ ने से सख़्ती से मना फरमाया तो ये वाज़ेह है के ये ना-जाइज़ है। और जो नाजाइज़ है उस करना शिर्क है। यहाँ→ रिज़्क़ में बरकत का वज़ीफ़ा देखिए|

11. चंद-सूरज की उगने और ढलने पर अपने कामों को अंजाम देना। मसलन लोगों का सोचना के:

मग़रिब के बाद निकाह नही करना चहिये इससे तलाक़ हो सकता है।

अमावस की रात है घर से बाहिर नही जाना चाहिये।

पूर्णिमा की रात है आज कई काम नही बन पायेगा।

आज मंगल है आज ज़रूरी काम करना सही नही होगा।

तुम पैर से पैदा हुए थे इसलिए अमावस की रात घर से बाहिर नही जाना।

जंतरि निकाल कर शादी की तारीख़ रखना। और देखना के कही इस तारीख में अक्रब (बीच्छो) तो नही है।

किसी बद-शगुनि के वजह से अपने काम को रोक देना शिर्क है।

हदीस-ए-मुबारिका

“रसूल अल्लाह ﷺ ने तीन बार फरमाया बद-शगुनि शिर्क है और हम में से हर एक कोई वहम हो ही जाता है लेकिन अल्लाह सुभानहु व त’आला उसकी तावक़्क़ल (सिर्फ अल्लाह पर यकीन) से दूर फरमा देता है”।

सुनन अबू दावूद, न. 3901, सहीह

जैसे बिल्ली ने अगर रास्ता काट दिया तो रुक जाना, इससे काम अच्छा नही होगा।

नबी करीम ﷺ ने फरमाया:

मेरी उम्मत के 70 हज़ार लोग बे हिसाब जन्नत में जायेंगे, यह वो लोग होंगे जो झाड़ फूंक नही कराते ना शगुन लेते है और अपने रब ही पर भरोसा रखते हैं।

सहीह अल-बुखारी, न. 6472

ऐसे में किसी भी तरह से बद शगुनि से बचना चाहिये, यह एक तरह से शिर्क और अल्लाह पर भरोसा ना करने का इमकान है। अल्लाह त’आला हमें बुराइयों से मेहफ़ूज़ रखे और बुरे असरात से भी बचा कर रखे। यहाँ→ सय्यिदुल अस्तग़फार की दुआ हदीस में देखिए|

12. क्या दिखावा भी शिर्क है?

क्या रियाकारी भी शिर्क है?

किसी भी तरह का दिखावा करना जैसे रोज़े, नमाज़, हज, ज़कात, सदक़ा और जो कुछ सिर्फ अल्लाह पाक को खुश करने के लिए करना चाहिए उसे लोगों को दिखाने के लिए करे तो शिर्क है।

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“जिसने दिखलाने के लिए नमाज़ पढ़ी उसने शिर्क किया, जिसने दिखलाने के लिए रोज़ा रखा शिर्क किया, और जिसने दिखलाने के लिए सदक़ा किया उसने शिर्क किया”।

हदीस: मुसनद अहमद

13. अल्लाह के अलावा किसी और की क़सम खाना कैसा है?

अल्लाह पाक के सिवा किसी की क़सम खाना, माँ-बाप की कसम, क़ाबे शरीफ की कसम, ग़ैरउल्लाह की कसम खाना शिर्क है।

हदीस-ए-मुबारिका

हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर र. अ. से रिवायत है के, रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:
“अल्लाह सुभानहु त’आला के सिवा किसी की भी कसम खाना शिर्क है”।

अल-सिलसिला अस-सहीहा, न. 1073

14. ग़ैब की बातें मालूम करने की कोशिश करना या किसी से मालूम करवाना शिर्क है।

लोग कैसे किसी भी इंसान के पास ग़ैब की यानी आने वाले का की मलूमात जानने की कोशिश करते है।

जबकि रसूल अल्लाह ﷺ की भी उतना ही इल्म था जितना अल्लाह सुभानहु व त’आला उन्हे इल्म देते थे।

इस बात का तज़्किरह इस आयत-ए-मुबारक से वाज़ेह होता है:

“कह दो की मैं तुमसे यह नही कहता की मेरे पास अल्लाह के ख़ज़ाने है और न मैं ग़ैब का इल्म रखता हूँ और ना ये कहता हूँ की मैं फरिश्ता हूँ, मैं तो सिर्फ वही की पैरवी करता हूँ जो मुझ पर नाज़िल की जाती है”।

सुरह अल-अन’आम, आयत न. 50

15. क्या नमाज़ छोड़ने का गुनाह बड़ा है?

जी हाँ, नमाज़ का छोड़ना भी शिर्क के इक़साम् में शुमार है। काफिर भी नमाज़ नही पढ़ते और मुशरिक भी नमाज़ ना पढ़कर शिर्क में हिस्सा ले लेते है।

आप ﷺ ने फरमाया:

“बेशक आदमी और शिर्क वो कुफ्र के दरमियाँ (फसला मिटाने वाला अमल) नमाज़ का तर्क (छोड़ना) है”।

सहीह मुस्लिम, न. 246

16. चीजों को रखना ना रखना इस निय्यत से के इससे यह होता है, उससे वो होता है। मसलन, किसी का रुमाल ना रखना इससे दोस्ती खत्म हो जाती है, शिर्क है।

दोस्ती के लिए फ्रेंडशिप बैंड बंधना। मुहब्बत दिल में डालना सिर्फ अल्लाह पाक के हाथ है तो ऐसी चीजों पर यकीन करना शिर्क।

17. टूटे दितारों को देख कर दुआ मांगना। क्या यह भी शिर्क है? जी हाँ यह भी शिर्क है। या गिरी हुई पलकों से मांगना भी इसमें शुमार है।

18. इल्म-ए-नुजूम के मुताबिक काम करना या न करना। मसलन आज मेरे सितारे अच्छे नही है, आज का काम कल करूँगा।

इरशाद-ए-इलाही है के:

“आप कह दीजिये, आसमान वालों में से और ज़मीन वालों में से, सिवाये अल्लाह के कोई ग़ैब नही जनता”।

सुरह नम्ल, आयत न. 65

19. आज कल सोशल मिडिया पर मेसेज आते है, इतने लोगों को शेयर करें तो सवाब है, ना किया तो बुरा होगा।

इसके डर से शेयर करना भी शिर्क में आता है। क्योंकि अच्छा या बुरा करने वाला अल्लाह पाक है मेसेजेस के डर कर कुछ करना गलत है।

20. चेहरे को पढ़ कर देखना के ऐसी शकल वाले बुरे होते है, वैसे शकल वॉर चालाक होते है।

इस तरह हाथों की लकीरों को पढ़ना और मुस्तकबिल का हाल पता करना, यह सभी चीजें शिर्क में शुमार है।

हदीस-ए-मुबारिका:

“जो शख्स नजोमी के पास जा कर उससे कोई बात पूछे, तो चालीस (40) दिन तक उसकी नमाज़ कुबूल न होगी”।

सहीह मुस्लिम न. 1496

हदीस-ए-मुबारिका:

” कुत्ते की क़ीमत, ज़ानिय की कमाई और काहाँ की मिठाई से मना फरमाया है”।

जमी’ अत-तिर्मिज़ी न. 1276

यहाँ→ खून की कमी का इलाज और वज़ीफ़ा देखिए|

21. ऐसे गानो को बनाना, गाना, गुनगुनाना जहन में रखना शिर्क है, जिसमे अल्लाह पाक के साथ अपने मेहबूब या माँ बाप को शरीक बनाना गया हो, शिर्क है।

हदीस-ए-मुबारिका

अल्लाह के रसूल ﷺ ने फरमाया:

“मेरी उम्मत में ऐसे बुरे लोग पैदा जो जायेंगे जो ज़िनाकारी, रेशम के कपड़े पेहेन्ना, शराब पिना और गाने बजाने को हलाल बना लेंगे”।

सहीह अल-बुखारी न. 5590

ये तो सरासर ज़ुल्म है उस ज़ात के साथ जिसने हमें माँ के पेट में एक ग़ोश के लुथड़े से इंसान बनाया।

फिर 9 महीने माँ के पेट में रख कर हम में जान डाली।

दुनिया में ला कर हमारे हिस्से का रिज़क भेजा। अच्छी जिंदगी दी, माँ-बाप, भाई, बहन, शौहर-बीवी, औलाद जैसे नेमतों से हमें नवाज़ा।

अगर उसकी जगह किसी और को जिंदगी देने वाला, खुशिया देने वाला, रिज़क देने वाला, मुहब्बत देने वाला, और वो चीज़ जो सिर्फ वो (अल्लाह त’आला) ही दे सकता है, मान ले।

तो यह तो सब से बड़ा ज़ुल्म हुआ अपने खालिक़ के साथ।

अब्दुल्लाह ने बयान किया:

“यह वो लोग है जो ईमान लाये और अपना अक़ीदे को गलत (अल्लाह के सिवा दूसरों की इबादत) से नही मिलते”

अल-कुर’आन: 6:83

तो रसूल अल्लाह ﷺ के सहाबी ने पूछा:

“हम में से कौन है?

गलत नही किया था?”

फिर अल्लाह पाक ने ये आयत नाज़िल फरमायी:

“बिला शुबा अल्लाह के साथ दूसरों को शरीक करना बहुत बड़ा ज़ुल्म है”

अल-क़ुर’आन: 31:13

इस दुनियाँ में तो अल्लाह ज़ुल जलाल वल एकराम ने खुली छोट दे रखी है।

के किसी को भी पूजलो मान लो जो मेरे लिए होना चाहिये वो सब किसी ग़ैरउल्लाह के लिए करलो।

लेकिन जब फैसले का वक़्त आयेगा तब क्या होगा?

क्या वो फैसले के वक़्त काम आयेगा जिसे अल्लाह पाक के साथ तुम लोगों ने शरीक बनाया।

हरगिज़ नही, अल्लाह पाक इस मु’आमले में बड़ा ही हस्सास है। मसलन अगर आप अपने बच्चे के लिए हर चीज़ करते है।

उसे खिलाते है पिलाते है, उसकी खातिर मेहनत मजदूरी करते है। उसे हर वो चीज़ देते है जिससे उसे खुशी हो उसे सुकून मिले।

लेकिन जब वही बच्चा आपकी एक बात न माने आपका ना-फरमान हो जाये।

बल्कि आपके साथ आप के दुश्मन की बात पर फरमा-बरदार रहे। तो क्या आप अपने बच्चे से खुश होंगे?

क्या आपके दिल में वही मुहब्बत खुलूस रह पायेगी?

नही ना, तो इसी तरह अल्लाह पाक के हुकूक़ के बारे में सोचें उसी ने आपको जिंदगी दी, रिज़्क़ दिया, इज़्ज़त दी, नेमतों से आपकी जिंदगी को खुश हाल बना दिया।

लेकिन आप क्या करते है, ग़ैरउल्लाह की इबादत कर लेते है।

वलियों की बरग़ाह को बदनाम कर देते है। जबकि वलियों ने भी अल्लाह पाकु के सिवा किसी की इबादत नही की।

वलियों की जिंदगी से आपको सीखना चाहिये, उन जैसा तक़्वा इख़्तियार कर, अल्लाह पाक के सिवा किसी के सामने सर न झुकाये।

आपको इज़्ज़त एहतेराम करने से कोई मना नही है, बस अल्लाह पाक के लिए जो खास है उसे दूसरों के लिए आम न बनाये।

अल्लाह पाक हमें और आपको तौहीद पर क़ायम करें। आमीन

अब्दुल्लाह ने बयान किया:

जब यह आयत नाज़िल हुई:

“यह वो लोग है जो ईमान लाये और अपना अक़ीदे को गलत (अल्लाह के सिवा दूसरों की इबादत) से नही मिलाते”

अल-क़ुर’आन: 6:83

फिर अल्लाह पाक ने आयत नाज़िल फरमायी:

“बिला शुबा अल्लाह के साथ दूसरों को शरीक करना बहुत बड़ा ज़ुल्म है”।

अल-क़ुर’आन : 31:13

ऐसे लोग खुली गुमराही में है जो अल्लाह पाक के सिवा ग़ैरउल्लाह को अपना रब मान बैठे है।

ऐसा पहले के क़ौम के लोगों ने भी किया था। और हक़ीक़त सामने आने पर यह कहते थे जिसके बारे में अल्लाह पाक क़ुर’आन मजीद में इरशाद फरमाता है।

क़ुर’आन-ए-करीम

” अल्लाह की कसम हम खुली गुमराही में थे जब हम तुमको रब्बुल आलामीन के बराबर करार देते थे”।

सुरह अशुरह, आयत न. 97 – 98

22. क्या ख्वाहिशात पर चलना भी शिर्क है?

जी हाँ, अपनी दिली ख्वाहिशात को पुरा करना जो की अल्लाह पाक ने हराम क़रार किया है।

जैसे इंसानो की इबादत करना, बुतों को पूजना, नाचना, गाना, जादू करना, नमाज़ छोड़ना, अपनी इज़्ज़त ही हिफ़ाज़त ना करके ज़िना जैसे कबीरा गुनाह में पड़ना, हराम खाना, सुध लेना, वग़ैरा।

और भी ना जाने कितना गुनाह है जो मुसलमान जान बुझ कर करता है। तो यह शिर्क नही तो और क्या है?

क़ुरआन-ओ-हदीस में शिर्क

अल्लाह पाक फरमाता है:

“जो लोग ईमान लाये और ओन ईमान को ज़ुल्म (शिर्क) से मेहफ़ूज़ किया उनके लिए अमान है और वही हिदायत पाने वाले लोग है”।

सुरह अल-अन’आम, आयत न. 82

अल्लाह पाक के साथ ज़ुल्म ना करना, उस दिन को याद रखना जब सवा नेज़ा सूरज होगा क़यामत का दिन होगा|

तब कोई ग़ैरउल्लाह हमारे काम ना आयेगा। अगर आज आप अल्लाह पाक के लिए जो हमारे हुकूक़ है उसे दूसरों के लिए करेंगे तो सोचिये क़यामत के दिन अगर अल्लाह पाक ने हमारे साथ ज़ुल्म किया हमारा क्या होगा?

अल्लाहु अकबर। ऐसे कबीरा गुनाह से बचे वरना जहन्नम के आग से बच्चा मुश्किल होगा।

अल्लाह त’आला क़ुर’आन मजीद में फरमाता है:

“लुक़मान ने अपने बेटे को नसीहत करते हैं कहा के:

“बेटे अल्लाह के साथ किसी को शरीक न करना, शिर्क तो बड़ा ज़ुल्म-ए-अज़ीम है”।

सुरह अल-लुक़मान, आयत न. 13

कुछ गुमराही में ही अपने आपकी ईमान वाला समझ बैठे है।

जब की अल्लाह पाक का इरशाद उनलोगो ने कभी जानने की कोशिश तक नही की। वो गुमराह है के वो जो करते है सब अल्लाह पाक को राज़ी कर रहा है।

जब की या गुमराही जहन्नम में ले जायेगी।

अल्लाह पाक फरमाता है:

“ऐ नबी, आप देखोगे के अकसर लोग ईमान के दावे के बावजूद सिवाए शिर्क के और कुछ भी नही करते”

सुरह युसुफ, आयत न. 106

तो एक अच्छे और सच्चे मोमिन बने जो सिर्फ और सिर्फ अल्लाह पाक को ही इस पूरे क़ायेनात, दुनिया, इंसान, जानवर, चंद, सूरज, हवा, पानी, मिट्टी सभी का रब सिर्फ अल्लाह पाक को मानता है। यहाँ→ रोज़ा खोलने की दुआ देखिए|

जिसने कभी अपनी हाजत के लिए हाथ उठाया तो सिर्फ एक रब जो सबका मालिक है उसी के सामने उठाया।

रोया गिड़गिडाया तो सिर्फ उसके सामने जिसे हमारे रोये जाने सुनने का हक़ है।
ऐसे अमल जिसका इनाम जन्नातुल फिरदौस है, अपने रब का दीदार है।

शिर्क कितना बड़ा गुनाह। शिर्क करने वालों का क्या होगा?

“बेशक अल्लाह उस नही बख्शता जो उसका शरीक करे और शिर्क के सिवा दूसरे गुनाह जिसे चाहे बख्शता है और जिसने अल्लाह का शरीक ठेहराया उसने बड़ा ही गुनाह किया”।

अल-क़ुर’आन : सुरह न. 4,आयत अन-निसा, आयत 48

” जिसने अल्लाह के साथ किसी को शरीक ठेहराया उसपर अल्लाह ने जन्नत हराम करदी और उसका ठिकाना जहन्नम है और ऐसे ज़ालिमों का कोई मददगार नही।

सुरह अल-माइदाह , आयत 72

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

कबीरा गुनाह अल्लाह के साथ शिर्क करना वालिदैन की ना-फरमानी करना, किसी की न-हक़ क़तल करना और झूठी क़सम खाना।

सहीह अल-बुखारी: क़समों का बयान न. 6675

नबी करीम ﷺ ने फरमाया:

अल्लाह जल्ला जलालूहु का फरमान है:

के शरीक बनाये जाने वालों में सब से ज़्यादा मैं शिराकत से मुस्तगनी ह। जिस शख्स ने भी कोई अमल किया और उस में मेरे साथ किसी और को शरीक किया तो मैं उसे उस के शिर्क के साथ अकेला छोड़ देता हूँ।

सहीह मुस्लिम: हदीस न. 7475

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“अल्लाह त’आला क़यामत के दिन दोज़ख के सब से कम अज़ाब पाने वाले से पूछेगा अगर तुम्हे रुये ज़मीन की सारी चीजें दे दी जाये तो क्या तुम उनके बदले में (इस अज़ाब से निजात पाने के लिए) दे दोगे, वो कहेगा के हाँ,
अल्लाह त’आला फरमायेगा के मैं ने तुम्हे उस से भी सहलु चीज़ का उस वक़्त मुतालबा किया था जब तुम आदम अलैहिस्सलाम की पीठ में थे के मेरे साथ किसी को शरीक न करना लेकिन तुम ने (तौहीद का) इंकार किया और ना माना आखिर शिर्क ही किया।

सहीह अल-बुखारी, न. 6557

नबी करीम ﷺ ने फरमाया:

क्या मैं तुम को ऐसी चीज़ के बारे में ना बता दूँ जो मेरे नज़दीक मसीह दज्जाल से भी ज़्यादा खतरनाक है?
हमने अर्ज़ किया: क्यों नही?

आप ﷺ ने फरमाया:

वो पोशीदा (छुपा हुआ) शिर्क है जो यह है आदमी नमाज़ पढ़ने खडा होता है, तो अपनी नमाज़ को सिर्फ इस वजह से खूबसूरती से अदा करता है के कोई (बगल वाला) आदमी उसे देख रहा है।

सुनन इब्न माजह: जिल्द न. 5, हदीस न. 4204, दर्जा: सहीह

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसू’ऊद र. अ. ने बयान किया के जब यह आयत :

“जो लोग ईमान लाये और अपने ईमान में ज़ुल्म की मिलावट नही की”।

अल-क़ुर’आन 6:82

नाज़िल हुई तो नबी करीम ﷺ के सहाबा ने अर्ज़ किया हम में ऐसा कौन होगा जिस ने अपने ईमान में ज़ुल्न नही किया होगा, इसपर ये आयत नाज़िल हुई:

“अल्लाह के साथ किसी को शरीक ना ठेहरा, बेशक़ शिर्क ही ज़ुल्म अज़ीम है”।

क़ुर’आन: 31:13

सहीह अल-बुखारी, किताब अल-अंबिया न. 60, हदीस न. 3428

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“कबीरा गुनाह के साथ शिर्क करना, वालिदैन की ना-फरमानी करना, किसी को ना-हक़ क़तल करना और झूठी क़सम खाना”।

सहीह अल-बुखारी, हदीस न. 6675

अज़ाब नही नेकिया कमाये।

पोस्ट पसंद आये तो खुद भी अमल करें और अपनों से भी शेयर करें।

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

2 Comments

  1. Ameen khan on said:

    Agar tavij banana , pahanna shirk he to is web par tavij kyo apload kiye jate he . is tarah to yaAllH.in banane wale shetan ke dost he jo logo ko khaskar mujh jese logo ko shirk ki bhatti me jhonk rhe he , kyo ki mene bhi is website me dekh kar tavij banaye or pahne . vaste Allah ke javab jarur dijiyega.

    h r

    • Jo taweez Quran pak ki ayat se bana ho use istemal kar sakte hai lekin adab se. yaALLAH.in par sirf Quran pak ke hi kuch taweez apko milenge iske ilawa nahi.

Apne sawal yahan puchiye!