Murgi Zibah Karne Ki Dua

August 23rd, 2022

Deen-e-islam mein murgi zibah karne ka sahi tarika kya hai? Murgi zibah karne ki dua kya hai? Kya auraton ko murga-murgi zibah karne ki ijazat hai? Yahan ham tafseel se sahi malumat janenge.

Murgi Zibah Karne Ki Dua

Murgi Zibah Karne Ki Dua

Islam mein har chiz jo ham karte hai, khate hai, pite hai har chiz mein sawab kamane ka mauka ALLAH Ta’ala ne ata farmaya hai.

Yahan ham murgi zibah karne ki dua ke hawale se apko na sirf dua ke bare mein malumat hasil hogi. Balki zibah karne ka sahi tarika bhi tafseel bataya jayega. Yahan dekhiye→ Miswak Ke 70 Fayde

Kayi log ise murgi halal karne ki dua bhi kahta hai. Jabki ye kahna durust nahi hai. Halal to hamare liye murgi pahle se hi qaraar de di gayi hai. To is tarah se bolkar ham anjane mein gunahgar banne se parhez karein.

Sawalaat-Jawabaat

1. Kya ghair musalman ke hathon zibah kiya gaya janwar halaal hai?

° Ji nahi, ghair musalman ke hathon se zibah kiya gaya zanwar halal nahi hai.
Chahe usne sahi tarike se zibah kiya ho aur dua bhi achhi tarah se padhi ho. Phir bhi wo janwar musalman ke liye haram hi hoga.

Ghaur Talab:- Zibah karne wala musalman hona, imaan wala hona behad zaruri hai.

2. Kya na baligh bachcha zibah kar sakta hai?

° Ji han, nabaligh bachcha zibah kar sakta hai. Ba shartein usmein samajhdari ho ke wo sunnat tariqe se zibah kar raha hai.

3. Kya khawateen murga ya murgi zibah kar sakti hai?

° Ji han, agar ghar mein mard na ho. Aur use sahi tariqa aur dua maloom ho to aurat zibah kar sakti hai.

4. Kya janwar padakne wala bhi musalman hona zaruri hai?

° Ji nahi, zanwar ko sirf pakde rehna wala insan momin na bhi ho to koyi harj nahi. Kyunki halaal to wo nahi kar raha usne sirf janwar pakda hua hai. Yahan dekhiye→ Eid Ke Din Padhne Ki Dua

5. Kya agar ghalti se murgi ki puri ghardan kat jaye to wo murgi halaal hogi ya nahi?

° Agar jaan bujh kar puri gardan kaat di jaye to us murgi ka ghosht khana maqrooh hai. Lekin agar dil mein irada ho ke sunnat tarike se halaal karunga aur ghalti se gardan kat jaye to uske ghush ko khana halaal hai.

6. Agar dua padhna bhul gaye aur zibah kar diya to kya zibah kiya gaya janwar ka ghosh halaal hai?

° Ji han, agar dil mein irada ho ke dua padhna hai. Lekin bhul se zibah kar diya to bhi wo ghosh halaal hai.

7. Murgi ya koyi bhi janwar pahle hi mar gaya to use halaal kar sakte hai?

° Bilkul nahi, agar zibah karne se pahle hi uska dam nikal chuka hai to use zibah karna jayaz nahi balki makrooh hai.

Murgi Zibah Karne Ka Sahi Tarika

Murgha ya Murghi ko sahi tariqe se zibah karna ham sabhi ko ana chahiye. Aksar ghar mein aise chhote-chhote parindon ko zibah karne ka kaam pad hi jata hai.

1. Sabse pahle murgi ke nazron se bacha ke chhuri tez kar len.

Ek hadees-e-mubarika ka mafhoom hai:

Aap ﷺ ne farmaya:

“ALLAH Ta’ala ne har chiz ke sath ehsaan ka hukm diya hai, lihaza maidan-e-jung mein tum dushman ko qatl karo to achhe andaaz se karo tadpa ke na karo,

aur jab tum janwar ko zibah karo to zibah bhi achhi tariqe se karo ehsaan ke sath karo aur apni chhuri ko tez karlo aur zabiha (janwar) ko aaraam puchao”.

Yani agar chhuri apki tez nahi hogi to zahir si bat hai gardan ki raghon ko katne mein janwar ko takleef hogi. Jiski wajah jaan nikalne mein bhi takleef hogi. Yahan dekhiye→ Ghusl Karne Ki Dua Aur Niyyat

2. Murgi ke dono pankhon aur pairon ko achhe se pakad lijiye.

3. Phir uski gardan ko pakden.

4. Phir niche di gayi dua ko ek martaba padhein.

5. Phir tez chhuri se uske munh ke niche wale gardan ke hisse ko asani se zibah karein.

6. Aur gardar ki chaaron raghon ko kat den. Lekin thoda sa hissa chhod den. Yani gardan ko ek dam alag nahi karen.

7. Phir uske dono pairon ke ghutno ki raghon ko bhi thoda-thoda kat den. Zibah hote hi jab raghein kat jati hai to dil aur dimag ki jo raghein hai wo bhi kat jati hai isse janwar ko takleef nahi hoti hai.

8. Aur phir murgi ko thodi der ke liye chhod dijiye. Take khoon beh jaye or uski jaan asani se nikal jaye.

Zibah Karne Ki Dua

“Bismillahi ALLAHu Akbar”

Is dua ko murga ya murgi zibah karne se thik pahle ek martaba padhenge.

Chahen to teen (3) martaba bhi padh sakte hai.

Is tariqe se agar ap zibah karenge aur dil mein ALLAH ke huqm ki tameel ke niyyat se karenge to ALLAH Azzawajal apko dheron sawab se malamaal farmayega. Yahan dekhiye→ Kunde Ki Niyaz in Hindi

Aur apke rizq mein khoob barkat ata farmayega. Insha ALLAH.

Ghaur Kijiyega: Murgi ko Zibah karne se pahle batayi gayi ye dua kisi Hadees-e-mubarika se sabit nahi hai. Aur na hi hamein iska koi hassan ya daeef Hadees Shareef mein hawala mila hai.

Magar kisi bhi nek kaam ko ALLAH Ta’ala ke naam se shuru karna aur sath hi ALLAH Rabbul ‘Izzat ki ‘hamd-o-sana karna sunnaton bhara amal hai. Jiski wajah se azeem sawab hasil kiya ja sakta hai.

Agar apko hamari yeh post pasand ayi to sawab-e-jariya ki niyyat se apne pyaron se zarur share kijiyega.

Aur dheron sawab hasil kijiyega.

मुर्गी ज़िबाह करने की दुआ

दीन-ए-इस्लाम में मुर्गी ज़िबह करने का सही तरीक़ा क्या है?

मुर्गी ज़िबह करने की दुआ क्या है?

क्या औरतों को मुर्गा मुर्गी ज़िबह करने की इजाज़त है?

यहाँ हम तफ़्सील से सही मलूमात जानेंगे।

इस्लाम में हर चीज़ जो हम करते है, खाते है, पीते है हर चीज़ में सवाब कमाने का मौका अल्लाह त’आला ने ‘अता फरमाया है। ज़िन्दगी में रोज़ मर्रा के कामों में सवाब कमाकर आख़िरत के लिए सरमाया बड़ी ही आसानी से इकठ्ठा किया जा सकता है| यहाँ मरने के बाद की दुआ देखिए|

यहाँ मुर्गी ज़िबह करने की दुआ के हवाले से आपको ना सिर्फ दुआ के बारे में मलूमात हासिल होगी। बल्कि ज़िबह करने का सही तरीक़ा भी तफ़्सील से बताया जायेगा।

कई लोग इसे मुर्गी हलाल करने की दुआ भी कहते है। जबकि यह कहना दुरुस्त नही है। हलाल तो हमारे लिए मुर्गी पहले से ही क़रार दे दी गयी है। तो इस तरह से बोलकर हम अंजाने में गुनाहगार बनने से परहेज़ करें।

सवालात-जवाबात

1. क्या ग़ैर मुसलमान के हाथों ज़िबह किया गया जानवर हलाल नही है?

चाहे उसने सही तरीक़े से ज़िबह किया हो और दुआ भी अच्छी तरह से पढ़ी हो। फिर भी वो जानवर मुसलमान के लिए हराम ही होगा।
ग़ौर तलब: ज़िबह करने वाला मुसलमान होना, ईमान वाला होना बेहद ज़रूरी है।

2. क्या नाबालिग़ बच्चा ज़िबह कर सकता है?
जी हाँ, नाबालिग़ बच्चा ज़िबह कर सकता है। बशरते उसमें समझदारी हो के वो सुन्नत तरीक़े से ज़िबह कर रहा है।

3. क्या ख़वातीन मुर्गा या मुर्गी ज़िबह कर सकती है?
जी हाँ, अगर घर में मर्द न हो, और उस सही तरीक़ा और दुआ मालूम हो तो औरत ज़िबह कर सकती है।

4. क्या जानवर पकड़ने वाला भी मुसलमान होना ज़रूरी है?
जी नही, जानवर को सिर्फ पकड़े रहने वाला इंसान मोमिन न भी हो तो कोई हर्ज नही। क्योंकि ज़िबह तो वो नही कर रहा उसने सिर्फ जानवर पकड़ा हुआ है। यहाँ मय्यत की मग़फिरत की दुआ देखिए|

5. क्या अगर ग़लति से मुर्गी की पूरी ग़रदन कट जाए तो वो मुर्गी हलाल होगी या नही?
अगर जान बूझ कर पुरी ग़रदन काट दी जाए| यानी मुर्गी की गर्दन को धड़ से पूरी तरह से अलग कर दिया गया है तो उस मुर्गी का गोश्त खाना मैकरूह है। लेकिन अगर दिल में इरादा हो के सुन्नत तरीक़े से हलाल करूँगा और ग़लति से ग़रदन कट जाए तो गोश्त को खाना हलाल है।

6. अगर दुआ पढ़ना भूल गए और ज़िबह कर दिया तो क्या ज़िबह किया गया जानवर का गोस्त हलाल है?
जी हाँ, अगर दिल में इरादा हो के दुआ पढ़ना है, लेकिन भूल से ज़िबह कर दिया तो भी वो गोश्त हलाल है।

7. मुर्गी या कोई भी जानवर पहले ही मर गया तो उसे ज़िबह कर सकते है?
बिल्कुल नही, अगर ज़िबह करने से पहले ही उसका दम निकल चुका है तो उसे ज़िबह करना जायज़ नही बल्कि मकरूह है।

मुर्गी ज़िबह करने का सही तरीक़ा मुर्ग़ा, मुर्गी या किसी भी हलाल परिन्दे को सही तरीक़े से ज़िबह करना हम सभी को आना चाहिए। अकसर घर में ऐसे छोटे-छोटे परिंदों को ज़िबह करने का काम पड़ ही जाता है।

किसी भी हलाल परिन्दे को ज़िबाह करने का एक दम दुरुस्त तरीक़ा क्या है?

1. सबसे पहले मुर्गी के नज़रों से बचा के छुरी तेज करलें।

एक हदीस-ए-मुबारिका का मफहूम है: आप ﷺ ने फरमाया:

“अल्लाह त’आला ने हर चीज़ के साथ एहसास का हुक्म दिया है, लिहाज़ा मैदान-ए-जंग में तुम दुश्मन को क़त्ल करो तो अच्छे अंदाज़ से करो तड़पा के ना करो,

और जब तुम जानवर करो तो ज़िबह भी अच्छी तरीक़े से करो एहसान के साथ करो और अपनी छुरी को तेज़ करलो और ज़बिहा (जानवर) को आराम पहुँचाओ”।

यानी अगर छुरी आपकी तेज़ नही होगी तो ज़ाहिर सी बात है गर्दन की राग़ों को कटने में जानवर को तकलीफ होगी। जिसकी वजह से जान निकलने में भी तकलीफ होगी।

2. मुर्गी के दोनो पंखों और पैरों को अच्छे से पकड़ लीजिये।

3. फिर उसकी गर्दन को पकड़े।

4. फिर नीचे दी गयी दुआ को एक मरतबा पढ़ें।

5. फिर तेज छुरी से उसके मुँह के नीचे वाले गर्दन के हिस्से को आसानी से ज़िबह करें। इसी तरह से गर्दन की चारों राग़ों को काट दें। लेकिन थोड़ा सा हिस्सा छोड़ दें। यानी गर्दन को एक दम अलग नही करें। यहाँ  देखिए| ईद के दिन पढ़ने की दुआ

7. फिर उसके दोनो पैरों के घुटनों की राग़ों को भी थोड़ा-थोड़ा काट दें। ज़िबह होते ही जब रग़ कट जाती है तो दिल और दिमाग की जो रग़ है वो भी कट जाती है इससे जानवर को तकलीफ नही होती है।

8. और फिर मुर्गी को थोड़ी देर के लिए छोड़ दीजिये, ताके खून बेह जाए और उसकी जान आसानी से निकल जाए।

ज़िबह करने की दुआ

” बिस्मिल्लाही अल्लाहु अकबर”

इस दुआ को मुर्गा या मुर्गी ज़िबह करने से ठीक पहले एक मरतबा पढ़ेगे।

चाहें तो तीन (3) मरतबा भी पढ़ सकते है।

इस तरीक़े से अगर आप ज़िबह करेंगे| दिल में अल्लाह के हुक़्म की तामील के निय्यत रखेंगे तो अल्लाह अज़्जवजल आपको ढेरों सवाब से मालामाल फरमाएगा।

और आपके रिज़्क़ में खूब बरकत आता फरमाएगा। इंशा अल्लाह|

ग़ौर कीजियेगा : मुर्गी को ज़िबह करने से पहले बताई गयी ये दुआ किसी हदीस-ए-मुबारिका से साबित नही है। और न ही हमें इसका कोई हसन या दईफ हदीस शरीफ में हवाला मिला है।

मगर किसी भी नेक काम को अल्लाह त’आला के नाम से शुरू किया जाए| तो खाने की चीज़ से शैतान का हिस्सा ख़त्म हो जाता है| और वो वहां हमारे साथ उस काम में शरीक नहीं होता| साथ ही अल्लाह रब्बुल ‘इज़्ज़त की ‘हम्द-ओ-सना करना सुन्नतों भरा अमल है। जिसकी वजह से अज़ीम सवाब हासिल किया जा सकता है। इस्मे कोई गुनाह या बिदत नहीं है|

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

2 Comments

  1. eisha on said:

    Aslamualaikum bhai kya main yeh wazifa love marriage k liye kr skti hun agar kar sakti hun plz muje ijazat de den
    https://youtu.be/9-jkAmwZxHY

Apne sawal yahan puchiye!