Miswak Ke 70 Fayde

June 7th, 2022

Miswak karne ka sahi tariqa kya hai? Miswak ke 70 fayde kya hai? Kya miswak karne ki waqayi hadees me fazilat hai? Chaliye to iski sunnatain aur jo har kisi ko na malum aisi jankari ham padhenge.

Miswak Ke 70 Fayde, Fazilat, Sunnatain Aur Hadees

Shaitan bhale apko laakh susti dilaye!

Lekin miswak ke bare me ye ilm bhara post parhkar ap isse muhabbat kar baithenge.

Quran-e-Kareem Surah #2, Surah Al-Baqarah, Ayat #222

InnALLAHa Yu’hibbunat-Tawwabeena wa-Yu’hibbul Mutattahireena

Beshak, ALLAH Tauba karne walon se muhabbat karta hai aur bahot pak rahne walon se muhabbat karta hai.

Miswak ke istemaal se jismani sehat, munh aur masudo ke safayi ke jo fawayid (fayde) poshida (chhupe) hai usse aap shayad bekhabar ho. Aj usi par se parda uthayenge.

Miswak Kya Hota Hai?

miswak

Yun to miswak ek mamumil darakht ki jad se banayi jati hai jo chhoti si aur dandinuma hoti hai. Jise danton ki safayi ke liye aage sire se chabakar brush ki tarah bana liya jata hai. Zarur dekhiye→ Ghusl Karne Ki Dua Aur Niyyat

Miswak aam taur par ‘Salvadora Persica’ ped ki jade hoti hai. Jise Peelu ka ped bhi kahte hai.

Zyadatar miswak peelu ki lakdi ki hoti hai jiske bahot tibbi fayde hai. Doctors ne bhi ise confirm kiya hai. Is Lakdi me aisa maadda hota hai ke iske istimal se danton ke hi nahi balki jism ke aur bhi jumla amraz se shifa milti hai.

Miswak Ke Maane Kya Hai?

‘Miswak’ lafz ‘Siwak’ se bana hai jiska arabi me matlab wo lakdi jisse danton ko ragda jaye. Ye makhooz hai aur ye us waqt kahte hai jab oont kamzori ki wajah se ahista aur narm chal chal rahen hon.

Isse is bat ki tarah ishara hai ke miswak se apne danton ki safayi bade hi narmi ke sath karni chahiye. Na ke zor-zor se ragad kar.

Miswak Kaisi Honi Chahiye?

Miswak apke hath ke barabar hi ho ya usse thodi si chhoti ho. Zyada badi aur lambi na ho. Lambi miswak par shaitan baith ta hai kayi jagah ye tehreer hai magar hadees se iski koi riwayat hamein nahi mili.

Take ise istimal karne me danton ko koi nuqsan na ho. Miswak ki motayi chhungliyan yani chhoti ungli ke barabar ho. Take use pakadne me bhi asani ho.

Miswak Kab Karni Chahiye?

Namaz ke waqt miswak karna sunnat-e-Rasool ﷺ hai.

Agar apke masoode kamzor hai yani unme brush ya miswak karte waqt khoon ane lage. To apke wuzu ke pahle hi narmi aur ahista se miswak se danton ki safayi kar leni chahiye. Aur phir wuzu bana lein.

Jiske masoodon me khoon ata ho use wuzu banane ke bad miswak karne se parhez karna chahiye. Taaki khoon nikalne se wuzu na toote.

Lekin kuch waqt aise bhi hai jis waqt mein sawab badh jate hai aur Nabi-e-Kareem ﷺ ki sunnat karne ka sawab hasil hoga.

  1. Qur’an paak ki tilawat se pahle.
  2. Hadees padhne se pahle.
  3. Munh se badboo ane par miswak karlen to badboo kam ho jayegi. Miswak ke lagatar istemaal se yeh bimari khatm bhi ho jati hai.
  4. Islam ke bare mein padhne aur padhane se pahle Mustafa ﷺ miswak farmate the.
  5. ALLAH Subhan Wa Ta’ala ke zikr-o-azkar se pahle Aap ﷺ miswak farmate.
  6. Ghar mein dakhil hone ke bad miswak karna Aap ﷺ ki sunnat hai.
  7. Ghar se jane se pahle miswak karna bhi Aapki ﷺ sunnat hai.
  8. Bhookh aur pyas ki shiddat mein bhi miswak Aap ﷺ farmate the. Roze ke halat mein bhi miswak farmate the.
  9. Jab aisa mehsoos ho ke ab ALLAH ‘Azzawajal ke pas jana hai. Lage ke maut ki ghadi nazdeek hai to miswak karna bahut achha hai. Isse sawab milega aur sakrat-ul-maut mein asani hogi.
  10. Sehri karne se pahle miswak farmate the. Zarur dekhiye→ Doodh Peene Ki Dua
  11. Khana khane ke baad miswak farmate the.
  12. Safar pe jane se pahle miswak karna bhi Aapki ﷺ sunnat hai.
  13. Safar se wapas ane ke bad bhi miswak karna sunnat hai. Zarur dekhiye→ Safar Ki Dua in Hindi Urdu Arabic English-Images
  14. Sone se pahle Nabi-e-Kareem ﷺ miswak farmate the.
  15. Sone ke uthne ke baad hamare pyare Aaqa Hazrat Muhammad ﷺ miswak farmate the.

miswak ke fayde fazilat hadees

Miswak Ki Ahmiyat Hadees Me

Hadees #1

Mai ek martaba Rasool ALLAH ﷺ ki khidmat mein hazir hua, to maine Aap ﷺ ko apne hath se miswak karte huye paya, aur Aap ﷺ ke muh se ‘u ‘u ki awaz nikal rahi thi. Aur miswak Aap ﷺ ke muh mein tha jis tarha Aap ﷺ qah kar reh hon.

Saheeh Bukhari: #244

Hadees #2

Rasool ALLAH ﷺ jab raat ko uthte to apne munh ko miswak se saaf karte.

Saheeh Bukhari: #245

Hadees #3

Abu Sa’id Khudri R.A. ne farmaya tha ke,

Main gawah hoon ke Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya ke jumu’ah ke din har jawan par ghusl, miswak aur khushboo lagana agar moyassar ho, zaruri hai. Amr bin Saleem ne kaha ke ghusl ki mut’aliq to mai ghawahi deta hun ke wo wajib hai lekin miswak aur khushboo ka ‘ilm ALLAH Ta’ala ko zyada hai ki wo bhi wajib hai ya nahi. Lekin hadees mein isi tarha hai.

Hadees #4

Abu Hurera R.A. bayan karte hai ke Rasoolullah ﷺ ne farmaya ke agar mujhe apni ummat ya logon ki takleef ka khayal na hota to main har namaz ke liye unko miswak ka hukm de deta.

Saheeh Bukhari: #887

Hadees #5

Huzeifa R.A. bayan karte hai ke Nabi-e-Kareem ﷺ jab raat ko tahajjud ke liye khade hote to pahle apna munh miswak se khoob saf karte.

Saheeh Bukhari: #1136

Hadees #6

Abu Hurera R.A. bayan karte hai ke Rasoolullah ﷺ ne farmaya agar meri ummat par shaaq na hota to main unpar miswak karna wajib qarar deta.

Saheeh Bukhari: #7240

Shaaq maane wazan, bojh ya pareshani

Hadees #7

Abd-al-Rahman bin Abd Sa’id-Al-Khudri apne walid se riwayat karte hai ke Rasoolullah ﷺ ne farmaya:

Jumu’ah ke din ghusl karna har baligh shakhs par wajib hai aur miswak karna bhi aur (har shakhs) apni isteta’at ke mutabiq khushbu istemal kare. Chahe wo aurat ki khushbu kyon na ho.

Saheeh Muslim: #846

Isteta’at maane mumkin ho ya qabil ho.

Yahan upar di hui Hadees me aurat ki khushbu ka maane hai wo khushbu jo aurat lagaye.

Zarur Dekhiye!

Pani Peene Se Pahle Aur Bad Ki Dua

Khana Khane Ki Dua

Miswak Karne Ki Niyyat

A’amaal ka daromadar niyyaton par hai. Achhi niyyat na ho to sawab nahi hashil hota. Lihaza miswak karte waqt ye niyyat kar lijiye:

Sunnat ka sawab kamane ke liye miswak karunga. Aur iske zariye ALLAH Ta’ala ka zikr, durood ki kasrat, tilawat-e-Quran ke liye munh ki safayi karunga. Afzal hai bismillah parhkar miswak karna shuru karein.

Miswak Istemal Karne Ka Tariqa

Miswak karne ki sunnatain kya hai? Sunnat tariqe se miswak karne walon ko bahot fayde hasil hai.

  1. Miswak karne se pahle use achhi tarha dho len. Zarur dekhiye→ Mani Nikalte Waqt Ki Dua

  2. Miswak ko sirf ek taraf se istemaal karein na ki dono taraf se. Yani ek hi sire se wo chhili hui ho.

  3. Aap chahen to miswak dhote-dhote durood sharif ka wird bhi kar sakte hai.

  4. Miswak ko is tarah se pakden ke chhoti (chhiti) ungli miswak ke pichhe (neeche) ki taraf ho, aur beech ki teen (3) ungliyan aage (upar) ki taraf aur angotha bhi pichhe ki taraf ho.

  5. Miswak dahine aur upar ki taraf se karna shuru karein. Teen-teen (3-3) martaba karen. Phir upar ke bayein taraf 3-3 martaba karein. Phir usi tarah niche ki dahine taraf 3 martaba se shuru karein aur phir niche ki bayein taraf 3 martaba karein. Har bar ise dho len.

  6. Miswak karne ke baad use phir se dho lein. Kahin hifazat se khadi karden. Ya apne kapdon ke jeb mein rakhlen. Aap ﷺ har waqt apne pas miswak rakhte the.  Fatawa Shami me hai baaz sahaba ikram ‘AlayhimurRizwan Imama shareef ke pech me bhi miswak rakhte the. (Raddul Mukhtar)
  7. Miswak ke chile hue hisse jin reshon se ham danton ko saf karenge. Un reshon ko thode-thode din me danton se chabakar chheel liya karein. Taki naye reshe nikal aye. Is tarah se purane reshon ke toot jane par unpar jami danton ki gandgi bhi chali jati hai.

  8. Muthhi bandhkar miswak karne se bawaseer hone ka andhesha hai.

Jab Miswak Kharab Ho Jaye To Kya Karen?

Jab miswak istimela karne ke layaq na rah jaye to uska kya karna chahiye?

Sunnat tariqa yahi hai ke miswak jab kharab ho jaye aur istemaal karne ke layak na rah jaye to use kahi paak saaf jagah mein dafna den. Ya Samundar, dariya, koowe ya nadi me mein eent bandh kar baha den. Zarur dekhiye→ Ayat-e-Sakina Ki Fazilat

Miswak Karne Ki Fazilat Aur Hadees

Miswak karne ki ahmiyat kya hai.

Islam mein miswak ke istemaal par kafi zor diya jata hai. Rasool ALLAH ﷺ ki sunnaton mein se yeh ek khas sunnat hai. Jo in Hadees-e-Mubarika se sabit hota hai.

Hazrat Muhammad ﷺ ne irshad farmaya:

“Atthurol shat-rul imaani” (safayi nifs (adha) imaan hai).

Saheeh Muslim: #534

Deen-e-islam mein safayi ko adhe imaan ka darja diya gaya hai. Nifs imaan (adhe imaan) ka ajar-o-sawab ka bayis qarar kiya gaya hai.

ALLAH ki raza aur Nabi-e-Kareem ﷺ ki sunnat ki niyyat se miswak karlein to safayi ke sath-sath hame sawab kamane ka mauka bhi mil jayega.

Ibad’aat ki adayegi se pahle aur aam halat mein bhi jab bhi zarurat pade momin ke liye datoon (miswak) ka amal saaf-safayi ke sath-sath sawab kamane ka behad asaan tareen amal bhi hai. Zarur dekhiye→ Dulha Dulhan Ke Liye Dua

Miswak Ke 70 Fayde

Miswak karne ka tariqa agar sahi ho to iske beshumar fayde hai. Inme se 70 main yahan darj kar raha hoon.

Yun to miswak kisi bhi darakht ki ho iske fayde yaqinan milte hai. Lekin makhsoos bimariyon ke liye ALLAH Ta’la ne kuch darakhton aur paudhon mein khusoosan shifa rakhi hai.

  1. Badaam Aur Akhrot ki Miswak:

    1. Danton ki sehat ke liye shifayab sabit hoti hai.

    2. Nazar ki kamzori ke liye bahut fayde mand sabit hoti hai.
  1. Peepal Ki Miswak:

    1. Khooni bawaseer ke mareezon ke liye shifayab hai.

    2. Tuberculosis (T.B.) ke marz se shifa milti hai.
    1. Alsar ke mareezon ke liye bahut fayedemand hai.

  1. Neem Ki Miswak:

    1. Agar badan ya chehre par phude ya phonsi hote hon.

    2. Danton mein kide lag jaye.

    3. Munh se badboo ate ho.

    4. Munh se jhaag ate ho.

    5. Badan mein khujli yani kharish hoti hon.

To in sari bimariyon se shifa pane ke liye neem ki miswak bahut mufeed sabit hogi. Insha ALLAH

  1. Zaitoon Ki Miswak:

    1. Yeh Miswak dusre Miswak se mukhtalif hoti hai. Kyunki iske istemal mein aapko kudrati jhaag milegi.

    2. Aur yeh muh ka zaiqa durust karti hai.

    3. Muh ke har masail jaise muh se badbo ana, dant dard hona wagaira se nijat pane mein mufeed sabit hogi.

  1. Pilu ki Miswak:

    1. Sans ki naliyun sozish ke liye.

    1. Sans ki takleef ke liye bhi isko istemal kiya jata hai.

    1. Rasoli, pathri, gurda masana ki pathriyun ke liye bhi bahut mufeed hai.

    1. Kayi tarha ke manjan me iska istemaal hota hai. Zarur dekhiye→ Blood Pressure Ka Wazifa

    2. Iska miswak danton ki safayi ke liye bahut achha sabit hota hai.
  1. Danton Ka Pilepan:

    1. Jo daag chayi, coffee ya tambaaku se pad jate hai. Miswak ke istemaal se wo daag dhire-dhire kam hote jati hai.

  1. Nashe Ki Lat:

    1. Agar Aap tambaaku, cigarette waghairah ke aadi hai to miswak in sab adaton se pichha chhudane mein aapke behad kaam aa sakti hai.

  1. Miswak badan ko taqat puhcha kar badan mein phurti lati hai.

  2. Miswak karne se ALLAH Ta’ala ki khushnoodi hasil hoti hai.

  3. Zindagi bhar sunnat par amal karne ka azeem sawab hasil hoga.

  4. Munh se ane wali gandi badboo khatm hoti hai.

  5. Balgham khatm hota hai.

  6. Raat ko sone se pahle miswak karne se ankhon ki roshni badhti hai. Zarur dekhiye→ Ankhon Ki Roshni Ki Dua
  7. Dant jagmagate aur saaf rahte hai.

  8. Khana khane ke baad Miswak karne se danton ka pila pan jata rahta hai.

Miswak Mein Kaun-Kaunse Chemical Maujood Hai aur Iske Fayde Kya Hai?

  1. Silica: Danton mein jo daag dhabbe (plague) aa jate hai use khatm karne mein bahut achha kam karti hai.

  2. Vitamin C: Miswak mein vitamin C hota. Hamare munh mein jo lining hoti hai jise ham oral mucous membrane kahte hai Vitamin c is membrane ko heal karti hai aur fayde pahunchati hai.

  3. Sodium bicarbonate: Miswak mein Sodium bicarbonate paya jata hai. Yeh bhi danton ke daag ko khatm karta hai. Danton aur masudon mein jaraseem (bacteria) hote hai yeh unhe marte hai.

  4. Tannic Acid: Danton se khoon nikalne par tannic acid us khoon ko rukti hai. Munh ke chhalon ko khatm karti hai. Chhalon ko hone se bachati hai.

  5. Alkaloids: Bazaar mein jo bhi toothpaste ya mouth wash ate hai wo sirf jaraseem ko badhne se rokte hai. Lekin miswak mein aise-aise chemical payen gaye hai jo jaraseem ko maar sakte hai. Aur jab jaraseem hi nahi honge to munh aur danton ke marz hone ka dar khatm ho jayega. Zarur dekhiye→ Wazifa For Migraine

  6. Essential oils: Miswak mein kuch aise tel (oils) hote hai jo hamare munh ane wale thook mein mil jata hai jo hamare munh ke bacteria ko door karne mein mufeed hai.
  7. Benzyl isothiocyanate: Yeh jaraseem (bacteria) ko khatm karne ki taaqat rakhta hai.

  8. Kamar ke dard peeth ki haddiyon ka hil jana aur jism ke tarha-tarha ke dard ka ta’alluq daton ki safayi se hai. Agar kamar ke dard aur judon ke dard ke mareez ko din 22 martaba miswak karwayi jaye. To in dardon se shifa mil sakti hai insha ALLAH.
  1. Miswak mayda dusurt kart hai. Khane achhe tarha se hazam ho jati hai.

  2. Dimag tez kart hai, zehan badhati hai.

  3. Zaban mein quwwat paida karti hai.

  4. Maut ke waqt ki pareshaniyon se mein asani paida karti hai.

  5. Miswak karne se muh se achhi khushboo ati hai. Jo Aapko kisi toothpaste ya mouth wash mein nahi milegi.

  6. Miswak naak ko saaf karta hai.
  7. Miswak karne ke baad aapko khud ko taza (fresh) mehsoos karenge.

  8. Phefdon ke ander wale balgham ko bhi nikalti hai.
  1. Gale ki kharish khatam karti hai.

  2. Masudon (gums) mein khoon ki gardish (blood circulation) paida karti hai.

  3. Danton mein dard rahta ho to Miswak ke musalsal istemal se dard khatm ho jata hai. Zarur dekhiye→ Dant Dard Ka Ilaj

  4. Masudon ki soojan ko door karti hai.

  5. W.H.O (World Health Organization) ne Miswak ki shifarish (recommend) ki hai. Aur mana hai ke miswak mein wo chemical maujood hai jo bina nuksan ke iska jetna istemal karein isse danton aur jism ko faida hi hoga.

  6. Miswak farishton ko khush rakhti hai.
  7. Miswak karne wale se shaitan naraz hota hai aur shaitan door ho jate hai. Zarur dekhiye→ Shaitani Waswasay Ki Dua

  8. Miswak balon badhati hai.
  1. Miswak karne wale par budhapa der se ati hai.

  2. Miswak se badan ka dard dor hota hai.

  3. Miswak mani (sperm) ko gadha karti hai.

  4. Miswak chehre Or jism ko raunak deti hai aur rang ko nikharti hai.

  5. Miswak sar (head) ke dard ko door karne mein mufeed hai. Zarur dekhiye→ Sar Dard Ki Dua

  6. Miswak karne wala jis din Miswak na kare to usdin ke liye bhi sawab likh diya jata hai.
  7. Miswak shaitan ke waswase se bachati hai.

  8. Miswak choonki sunnat hai isliye nekiyon ko badhati hai.
  1. Purane jakde huye nazle (cough) ko nikalti hai.

  2. Miswak se kano (ears) ke amraz se shifa me madad milti hai.

  3. Babool ki miswak: Danton ko sehatmand rakhti hai.

  4. Keekar Ki Miswak: Isse hilte huye kamzor danton mein taqat aa jati hai aur wo apni jagah par mazbuti se jam jate hai.

  5. Aur dant safed hokar deegar amrazon se mehfuz ho jate hai.

  6. Miswak awaz ko saaf karti hai.
  7. Miswak karna rizk mein barkat ka sabab banti hai.

  8. Miswak badan ko taqat puhcha kar badan mein phurti lati hai.
  1. Miswal karne se ALLAH ki madad ati hai. Zarur dekhiye→ Dua For Help From ALLAH

  2. Miswak karne se danton ki jado me cavity nahi jamti. Jiski wajah se thanda-garam aur cheesen chalti.

Miswak Karne Ki Dua

Miswak karne ki do (2) duayein alimon ki do (2) alhaida kitabon me hamne darj payi. Jo Shar-hul-Muhazzib Lin-Navavi aur Umdat-ul-Qari mein tehreer hai.

Ye dua kisi bhi hadees se bilkul sabit nahi hai. Lekin is dua ke maane pyare hai aur Nabi ﷺ ki sunnat ko poora karne ki niyyat se ye dua parhne wale ko Insha ALLAH sawab ‘ata hasil hoga!

Miswak Karne Ki Dua #1 Ye Hai:

ALLAHumma Bayyiz Bihi As-naanim,

Wa-Shudda Bihi Lisaani,

Wa-Sabbit Bihi Lahaati,

Wa-Baarik Lee Feehi,

ya Ar-Hamar-Raahemeen!

Miswak Karne Ki Dua #1 Ka Tarjuma:

Ae ALLAH ‘Azzawajal! iske zariye mere danton ko safed, masoodon ko mazboot aur halq ko taqatwar farma de aur mere liye isme ba-ra-kat ‘ata farma, Ae sab meherbano se badkar meherbaan!

Miswak Karne Ki Dua #2 Ye Hai:

ALLAHumma Tahhir Famee,

Wa-Navvir Qalbee,

Wa-Tahhir Ba-da-nee,

Wa-‘Harrim Ja-sa-dee ‘Alannaari,

Wa-ad-khilnee birahmatika Fee ‘Ibadika-s-Saliheen

Miswak Karne Ki Dua #2 Ka Tarjuma:

Ae ALLAH ‘Azzawajal! Mere munh ko saaf suthra, dil ko roshan, badan ko paak aur mere jism ko jahannam par haram farma de aur mujhe apni rahmat se apne nek bandon me shamil farma. Zarur dekhiye→ Nooh Alaihis Salam Ki Dua

Miswak Karne Ke 7 Nuqsan

Miswak ke kuch nuqsanat bhi ho sakte hai. Aapne kabhi iska tasavvur bhi na kiya hoga. Hamne tafteesh kar iske kuch mumkin nuqsanat aapke liye dhoondh nikale hai.

Ghalat tareeqe se miswaak karne ke kuch nuqsanaat hone ka andesha rahta hai. Jante hai wo kya hai?

  1. Miswak muththi bandh kar ya muththi mein pakad kar nahi karein.
      • Kyunki yeh sunnat ke mutabik nahi hai aur isse bawasir hone ka kafi had tak andesha hai.
  1. Miswak ke istemaal ke baad use sula kar yani use lita kar na rakhein.

      • Yeh aqal ki kamzori ka bayis ban sakta hai.
  1. Kisi aur ke munh ka istemaal kiya hua miswak kisi dusre ko nahi istemaal karna chahiye.

      • Isse bhi aqal ki kharabi ya kami ho sakti hai.
  1. Aur waqt dar waqt miswak ke jo reshein hote hai unhe chaba kar hata dene chahiye.

      • Dantoon karne ke par jo bhi cavities miswak mein aa jati hai. Reshein saaf na karne par wo cavities miswak se dubara danton mein aa sakti hai.
  1. Miswak ek balish (ek hath) se badi na ho.

      • Alimon ki kitabon me darj hai ke iske dusre kinare par phir shaitan baitha karta hai. Miswak zyada chhoti bhi na ho ke sunnat ke mutabik na rahe.
  1. Bayt-ul-khalaa (toilet) mein iske reshein na bahaye.

      • Yeh miswak sharif ki be-adbi ka sabab ban sakta hai. Beh jane se koyi gunah nahi hai lekin adab karne se sawab hasil hoga. Insha ALLAH.
  1. Miswak ke reshon ko munh se nikaalna hi durust hai.

      • Use qatayi nigle nahi, pait me na jane dein. Yeh Aapke maide (pait) ko nuqsan puhcha sakti hai.

Sawab-e-Jariya kijiye miswak ki ahmiyat ke bare mein apke apne bhi jane to unse share zarur kijiyega!

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

मिस्वाक के 70 फायदे

मिस्वाक् करने का सही तरीक़ा क्या है? मिस्वाक् के 70 फायदे क्या है? क्या मिस्वाक करने की वाक़ई हदीस में फ़ज़ीलत है? चलिए तो इसकी सुन्नतें और जो हर किसी को ना मालूम ऐसी जनकारी हम पढ़ते है।

मिस्वाक के 70 फायदे, फ़ज़ीलत, सुन्नतें और हदीस

शैतान भले आपको लाख सुस्ती दिलाये।

लेकिन मिस्वाक् के बारे में ये इल्म भरा पोस्ट पढ़कर आप इसे मुहब्बत कर बैठेंगे।

क़ुरआन-ए-करीम सूरह #2, सुरह अल-बक़राह , आयत #222

इन्नअल्लाह यू’हिब्बुनत- तवाबीना व-यू’हिब्बुल मुतत्तहिरीना

बेशक, अल्लाह तौबा करने वालों से मुहब्बत करता है और बहुत पाक रहने वालों से मुहब्बत करता है।

मिस्वाक के इस्तेमाल से जिस्मानी सेहत, मुँह और मसूड़ो की सफ़ाई के जो फवायिद (फायदे) पोशीदा (छुपे) है उससेे आप शायद बेखबर हो। आज उसी पर से पर्दा उठायेंगे।

यूँ तो मिस्वाक एक मामूली दरख़्त की जड़ से बनाई जाती है जो छोटी सी और डंडीनुमा होती है। जिसे दांतों की सफ़ाई के लिए आगे सिरे से चबा कर ब्रश की तरह बना लिया जाता है।

मिस्वाक आम तौर पर ‘सल्वाडोरा पर्सिका’ पेड़ की जड़े होती है। जिसे पीलू का पेड़ भी कहते है।

ज्यादातर मिस्वाक पीलू की लकड़ी की होती है जिसके बहुत टिब्बी फायदे है। डॉक्टर्स ने भी इसे कंफर्म किया है। इस लकड़ी मे ऐसा माद्दा होता है के इसे इस्तिमाल से दांतों के ही नही बल्कि जिस्म के और भी जुमला अमराज़ से शिफा मिलती है।

मिस्वाक् के माने क्या है?

‘मिस्वाक’ लफ्ज़ ‘सिवाक’ से बना है जिसका अरबी मे मतलब वो लकड़ी जिसे दांतों को रगड़ा जाये। ये मखूज़ है और ये उस वक़्त कहते है जब ऊँट कमज़ोरी की वजह से आहिस्ता और नरम चल चल रहे हों।

इससे इस बात की तरह इशारा है के मिस्वाक से अपने दांतों की सफ़ाई बड़े ही नर्मी के साथ करनी चाहिए। न के ज़ोर-ज़ोर से रगड़ कर।

मिस्वाक कैसी होनी चाहिए?

मिस्वाक आपके हाथ के बराबर ही हो या उससेे थोड़ी सी छोटी हो। ज्यादा बड़ी और लंबी न हो। लंबी मिस्वाक पर शैतान बैठता है कई जगह ये तेहरीर है मगर हदीस से इसकी कोई रिवायत हमें नही मिली।

ताके इसे इस्तिमाल करने मे दांतों को कोई नुक़्सान न हो। मिस्वाक की मोटाई छुंगलियाँ यानी छोटी उंगली के बराबर हो। ताके उसे पकड़ने मे भी आसानी हो।

ईद के दिन पढ़ने की दुआ

मिस्वाक कब करनी चाहिए?

नमाज़ के वक़्त मिस्वाक करना सुन्नत-ए-रसूल ﷺ है।

अगर आपके मसूड़े कमज़ोर है यानी उनमे ब्रश या मिस्वाक करते वक़्त खून आने लगे। तो आपके वुज़ू के पहले ही नर्मी और आहिस्ता से मिस्वाक् से दांतों की सफ़ाई कर लेनी चाहिए। और फिर वुज़ू बना लें।

जिसके मसूड़ों मे खून आता हो उसे वुज़ू बनाने के बाद मिस्वाक् करने से परहेज़ करना चाहिए। ताकि खून से वुज़ू न टूटे।

लेकिन कुछ वक़्त ऐसे भी है जिस वक़्त में सवाब बढ़ जाते है और नबी-ए-करीम ﷺ की सुन्नत करने का सवाब हासिल होगा।

  1. कुर’आन पाक की तिलावत से पहले।
  2. हदीस पढ़ने से पहले।
  3. मुँह से बदबू आने पर मिस्वाक करलें तो बदबू कम या ख़त्म हो जायेगी। मिस्वाक के लगातार इस्तेमाल से यह बीमारी खत्म भी हो जाती हौ।
  4. इस्लाम के बारे में पढ़ने और पढ़ाने से पहले मुस्तफा ﷺ मिस्वाक फरमाते थे।
  5. अल्लाह सुबहान व-त’आला के ज़िक्र-ओ-अज़कार से पहले आप ﷺ मिस्वाक फरमाते।
  6. घर में दाखिल होने के बाद मिस्वाक करना आप ﷺ की सुन्नत है।
  7. घर से जाने से पहले मिस्वाक करना भी आपकी ﷺ की सुन्नत है।
  8. भूख और प्यास की शिद्दत मे भी आप ﷺ मिस्वाक फरमाते थे। रोज़े के हालत में भी आप ﷺ मिस्वाक फरमाते थे।
  9. जब ऐसा महसूस हो के अब अल्लाह ‘अज़्जवजल’ के पास जाना है। लगे के मौत की घडी नज़दीक है तो मिस्वाक करना बहुत अच्छा है। इससे सवाब मिलेगा और सकरत-उल-मौत (ज़िन्दगी की आख़िरी घड़ी, मरने से एक दम पहले की वक़्त) में आसानी होगी।
  10. सेहरी करने से पहले मिस्वाक फरमाते थे।
  11. खाना खाने के बाद मिस्वाक फरमाते थे।
  12. सफर पे जाने से पहले मिस्वाक करना भी आपकी सुन्नत है।
  13. सफर से वापस आने के बाद भी मिस्वाक करना सुन्नत है।
  14. सोने से पहले नबी-ए-करीम ﷺ मिस्वाक फरमाते थे।
  15. सोके उठने के बाद हमारे प्यारे आक़ा ﷺ मिस्वाक फरमाते थे|

मिस्वाक की एहमियत हदीस मे

मै एक मरतबा रसूल अल्लाह ﷺ की ख़िदमत में हाज़िर हुआ, तो मैंने आप ﷺ को अपने हाथ से मिस्वाक करते हुए पाया, और आप ﷺ के मुह से ‘उ ‘उ की आवाज़ निकल रही थी। और मिस्वाक आप ﷺ के मुह में था जिस तरह ﷺ क़ह कर रेह हों।

सहीह बुखारी: #244

हदीस #2

रसूल अल्लाह ﷺ जब रात को उठते तो अपने मुँह को मिस्वाक से साफ करते।

सहीह बुखारी: #245

हदीस #3

अबू  स’ईद ख़ुदरी र.अ. ने फरमाया था के, मैं गवाह हूँ के रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया के जुमु’अह के दिन हर जवान पर ग़ुस्ल, मिस्वाक् और खुशबू लगाना अगर मोयस्सर हो, ज़रूरी है। अम्र बिन सलीम ने कहा के ग़ुस्ल की मुत’अलिक़ तो मै ग़वाहि देता हूँ के वो वाजिब है लेकिन

अबू सा’इड ख़ुद्रि र.आ. ने फरमाया था के, मैं गवाह हूँ के रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया के जुमु’अह के दिन हर जवान पर ग़ुस्ल, मिस्वाक् और खुशबू लगाना अगर मॉयसार हो, ज़रूरी है। अमृ बिन सलीम ने कहा के ग़ुस्ल की मुत’अलिक़ तो मै ग़वाहि देता हूँ के वो वाजिब है लेकिन मिस्वाक और खुशबू का ‘इल्म अल्लाह त’आला को ज़्यादा है की वो भी वाजिब है या नही। लेकिन हदीस में इसी तरह है।

हदीस #4

अबु ‘हुरेरा र.अ. बयान करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया के अगर मुझे अपनी उम्मत या लोगो की तक़लीफ का ख़्याल न होता तो में हर नमाज़ के लिए उनको मिस्वाक का हुक्म दे देता।

सहीह बुखारी: #887

हदीस #5

हुज़ैफ़ा र.अ. बयान करते है के नबी-ए-करीम ﷺ जब रात को तहज्जुद् के लिए खड़े होते तो पहले अपना मुँह मिस्वाक से खूब साफ करते।

सहीह बुखारी: #1136

हदीस #6

अबू हुरेरा र. आ. बयान करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया अगर मेरी उम्मत पर शाक़ न होता तो मैं उनपर मिस्वाक करना वाजीब क़रार देता।

सहीह बुखारी: #7240

शाक़ माने वज़न, बोझ या परेशानी

हदीस #7

अब्द-अल-रहमान बिन अब्द स’ईद-अल-ख़ुदरी अपने वालिद से रिवायत करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया:

जुमु’आह के दिन ग़ुस्ल करना हर बालिग़ शख़्स पर वाजिब है मिस्वाक करना भी और (हर शख़्स) अपनी इस्तेता’अत के मुताबिक़ खुशबु इस्तेमाल करे। चाहे वो औरत की खुशबु क्यों न हो।

सहीह मुस्लिम: #846

इस्तेता’अत माने मुमकिन हो या क़ाबिल हो।

यहाँ उपर दी हुई हदीस मे औरत की खुशबु का माने है वो खुशबु जी औरत लगाए।

देखिये→ मय्यत की मग़फिरत की दुआ

मिस्वाक करने की निय्यत

अ’अमाल का दारोमदार निय्यतों पर है। अच्छी निय्यत न हो तो सवाब नही हासिल होता। लिहाज़ा मिस्वाक करते वक़्त ये निय्यत कर लीजिये:

सुन्नत का सवाब कमाने के लिए मिस्वाक करूँगा। और इसके जरिये अल्लाह ता’आला का ज़िक्र, दुरूद् की कसरत् , तिलावत-ए-कुर’आन के लिए मुँह की सफ़ाई करूँगा। अफज़ल है बिस्मिल्लाह पढ़कर मिस्वाक् करना शुरू करें।

जब मिस्वाक् खराब हो जाए तो क्या करें?

जब मिस्वाक इस्तिमाल करने के लायक़ न रह जाये तो उसका क्या करना चाहिए?

सुनत तरीक़ा यही है के मिस्वाक जब ख़राब हो जाये तो उसे कही पाक साफ जगह में दफना दें। या समुंदर, दरिया, कूवे या नदी में ईट बंध कर बहा दें।

मिस्वाक करने की फ़ज़ीलत और हदीस मिस्वाक करने की अहमियत क्या है?

इस्लाम में मिस्वाक के इस्तेमाल पर काफी ज़ोर दिया जाता है। रसूल अल्लाह ﷺ की सुन्नतों में से यह का ख़ास सुन्नत है। जो इन हदीस-ए-मुबारिका से साबित होता है।

हज़रत मुहम्मद ﷺ ने इरशाद फरमाया:

“अत्तहुरोल शत-रूल इमानी” ( सफ़ाई निफ्स (आधा) ईमान है)

सहीह मुस्लिम: #534

दीन-ए-इस्लाम में सफ़ाई को आधे ईमान का दर्जा दिया गया है। निफ्स ईमान ( आधे ईमान) का अजर-ओ-सवाब का बाईस क़रार किया गया है।

अल्लाह की रज़ा और हमारे नबी ﷺ की सुन्नत की निय्यत से मिस्वाक् करलें तो सफ़ाई के साथ-साथ हमे सवाब कमाने का मौका भी मिल जायेगा।

इबाद’आत की अदायेगी से पहले और आम हालात में भी जब भी ज़रूरत पड़े मोमिन के लिए दातून (मिस्वाक्) का अमल साफ-सफ़ाई के साथ-साथ सवाब कमाने का बेहद आसान तरीन अमल भी है।

मिस्वाक के 70 फायदे

मिस्वाक करने का तरीक़ा अगर सही हो तो इसके बेशुमार फायदे है। इनमे से 70 मैं यहाँ दर्ज कर रहा हूँ।

यूँ तो मिस्वाक किसी भी दरख़्त की हो इसके फायदे यक़ीनन मिलते है। लेकिन मख़्सूस बीमारियों के लिए अल्लाह ता’आला ने कुछ दरख्तों और पौधों में ख़ुसूसन् शिफा रखी है।

• बादाम और अखरोट की मिस्वाक:
1. दांतों की सेहत के लिए शिफायाब साबित होती है।
2. नज़र की कमज़ोरी के लिए बहुत फायदे मंद साबित होती है।
• पीपल की मिस्वाक्
3. खूनी बवासीर के मरीजों के लिए शिफायाब है।
4. टुबरक्युलूसीस (टी.बी.) के मर्ज़ से शिफा मिलती है।
5. अल्सर के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है।
• नीम की मिस्वाक्:
6. अगर बदन या चेहरे पर फुडे या फोनसी होते हों।
7. दांतों में कीड़े लग जाये।
8. मुँह से बदबू आते हो।
9. मुँह से झाग आते हो।
10. बदन में खुजली यानी खरिश् होती हों।
• ज़ैतून की मिस्वाक्:
11. यह मिस्वाक् दूसरे मिस्वाक् से मुख्तालिफ् होती है। क्यों की इसके इस्तेमाल में आपको कुद्रति झाग मिलेगी।
12. और ये मुँह का ज़ाइक़ा दुरुस्त करती है।
13. मुँह के हर मसाइल जैसे मुँह से बदबू आना, दांत दर्द होना वगैरह से निजात पाने में मुफीद साबित होगी।
• पिलो की मिस्वाक्:
14. सांस की नलियों की साज़िश के लिए।
15. सांस की तकलीफ के लिए भी इसको इस्तेमाल किया जाता है।
16. रसोली, पथरी, गुर्दा मसाना की पथरियों के लिए भी बहुत मुफीद है।
17. कई तरह के मंजन मे इसका इस्तेमाल होता है।
18. इसका मिस्वाक् दांतों की सफ़ाई के लिए बहुत अच्छा साबित होता है।

और खुशबू का ‘इल्म अल्लाह ता’आला को ज़्यादा है की वो भी वाजीब है या नही। लेकिन हदीस में इसी तरह है।

देखिये→  नमाज़ के बाद की दुआ

हदीस #4

अबु हुरेरा र. आ. बयान करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया के अगर मुझे अपनी उम्मत या लोगो की तक़लीफ का ख़्याल न होता तो में हर नमाज़ के लिए उनको मिस्वाक् का हुक्म दे देता।

सहीह बुखारी: #887

हदीस #5

हुज़ैफ़ा र. अ. बयान करते है के नबी-ए-करीम ﷺ जब रात को तहज्जुद् के लिए खड़े होते तो पहले अपना मुँह मिस्वाक् से खूब साफ करते।

सहीह बुखारी: #1136

हदीस #6

अबू हुरेरा र. अ. बयान करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया अगर मेरी उम्मत पर शाक़ न होता तो मैं उनपर मिस्वाक् करना वाजीब क़रार देता।

सहीह बुखारी: #7240

शाक़ माने वज़न, बोझ या परेशानी

हदीस #7

अब्द-अल-रहमान बिन अब्द सईद अल-ख़ुदरी अपने वालिद से रिवायत करते है के रसूलुल्लाह ﷺ ने फरमाया:

जुमु’आह के दिन ग़ुस्ल करना हर बालिग़ शख्स पर वाजीब है मिस्वाक करना भी और (हर शख्स) अपनी इस्तेता’अत के मुताबिक़ खुशबु इस्तेमाल करे। चाहे वो औरत की खुशबु क्यों न हो।

सहीह मुस्लिम: #846

इस्तेता’अत माने मुंकिन हो या क़ाबिल हो।

यहाँ उपर दी हुई हदीस मे औरत की खुशबु का माने है वो खुशबु जी औरत लगाए।

देखिये→ रब्बिग़ फ़िर वर-हम अन्ता ख़ैरुर्राहेमीन

मिस्वाक करने की निय्यत

आ’अमाल का दारोमदार निय्यतों पर है। अच्छी निय्यत न हो तो सवाब नही हासिल होता। लिहाज़ा मिस्वाक् करते वक़्त ये निय्यत कर लीजिये:

सुन्नत का सवाब कमाने के लिए मिस्वाक करूँगा। और इसके जरिये अल्लाह ता’आला का ज़िक्र, दुरूद् की कसरत् , तिलावत-ए-कुर’आन के लिए मुँह की सफ़ाई करूँगा। अफज़ल है बिस्मिल्लाह पढ़कर मिस्वाक् करना शुरू करें।

जब मिस्वाक खराब हो जाए तो क्या करें?

जब मिस्वाक इस्तिमाल करने के लायक़ न रह जाये तो उसका क्या करना चाहिए?

सुन्नत तरीक़ा यही है के मिस्वाक जब ख़राब हो जाये तो उसे कही पाक साफ जगह में दफना दें। या समुंदर, दरिया, कूवे या नदी में ईट बंध कर बहा दें।

मिस्वाक् करने की फ़ज़ीलत और हदीस मिस्वाक् करने की अहमियत क्या है?

इस्लाम में मिस्वाक् के इस्तेमाल पर काफी ज़ोर दिया जाता है। रसूल अल्लाह ﷺ की सुन्नतों में से यह का खास सुन्नत है। जो इन हदीस-ए-मुबारिका से साबित होता है।

हज़रत मुहम्मद ﷺ ने इरशाद फरमाया:

“अत्तहुरोल शत-रूल इमानी” ( सफ़ाई निफ्स (आधा) ईमान है)

सहीह मुस्लिम: #534

दीन-ए-इस्लाम में सफ़ाई को आधे ईमान का दर्जा दिया गया है। निफ्स ईमान ( आधे ईमान) का अजर-ओ-सवाब का बाईस क़रार किया गया है।

अल्लाह की रज़ा और हमारे नबी ﷺ की सुन्नत की निय्यत से मिस्वाक् करलें तो सफ़ाई के साथ-साथ हमे सवाब कमाने का मौका भी मिल जायेगा।

इबाद’आत की अदायेगी से पहले और आम हालात में भी जब भी ज़रूरत पड़े मोमिन के लिए दातून (मिस्वाक्) का अमल साफ-सफ़ाई के साथ-साथ सवाब कमाने का बेहद आसान तरीन अमल भी है।

मिस्वाक के 70 फायदे

मिस्वाक करने का तरीक़ा अगर सही हो तो इसके बेशुमार फायदे है। इनमे से 70 मैं यहाँ दर्ज कर रहा हूँ।

यूँ तो मिस्वाक किसी भी दरख़्त की हो इसके फायदे यक़ीनन मिलते है। लेकिन मख़्सूस बीमारियों के लिए अल्लाह ता’आला ने कुछ दरख्तों और पौधों में ख़ुसूसन् शिफा रखी है।

• बादाम और अखरोट की मिस्वाक:
1. दांतों की सेहत के लिए शिफायाब साबित होती है।
2. नज़र की कमज़ोरी के लिए बहुत फायदे मंद साबित होती है।
• पीपल की मिस्वाक्
3. खूनी बवासीर के मरीजों के लिए शिफायाब है।
4. टुबरक्युलूसीस (टी.बी.) के मर्ज़ से शिफा मिलती है।
5. अल्सर के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद है।
• नीम की मिस्वाक्:
6. अगर बदन या चेहरे पर फुडे या फोनसी होते हों।
7. दांतों में कीड़े लग जाये।
8. मुँह से बदबू आते हो।
9. मुँह से झाग आते हो।
10. बदन में खुजली यानी खरिश् होती हों।
• ज़ैतून की मिस्वाक्:
11. यह मिस्वाक दूसरे मिस्वाक् से मुख्तालिफ् होती है। क्यों की इसके इस्तेमाल में आपको कुद्रति झाग मिलेगी।
12. और ये मुँह का ज़ाइक़ा दुरुस्त करती है।
13. मुँह के हर मसाइल जैसे मुँह से बदबू आना, दांत दर्द होना वगैरह से निजात पाने में मुफीद साबित होगी।
• पिलो की मिस्वाक्:
14. सांस की नलियों की साज़िश के लिए।
15. सांस की तकलीफ के लिए भी इसको इस्तेमाल किया जाता है।
16. रसोली, पथरी, गुर्दा मसाना की पथरियों के लिए भी बहुत मुफीद है।
17. कई तरह के मंजन मे इसका इस्तेमाल होता है।
18. इसका मिस्वाक दांतों की सफ़ाई के लिए बहुत अच्छा साबित होता है।

19. दांतों का पिलापन:
जो दाग चाई, कॉफी या तंबाकू से पड़ जाते है। मिस्वाक् के इस्तेमाल से वो दाग धीरे-धीरे कम होते जाती है।

20. नशे की लत:
अगर आप तंबाकू, सिगरेट वग़ैरह के आदि है तो मिस्वाक् इन सब आदतों से पीछा छुड़ाने में आपके बेहद काम आ सकती है।

21. मिस्वाक बदन को ताक़त पुह्चा कर बदन में फुर्ती लाती है।
22. मिस्वाक करने से अल्लाह ता’आला की खुशनूदि हासिल होती है।
23. ज़िंदगी भर सुन्नत पर अमल करने का अज़ीम सवाब हासिल होगा।
24. मुँह से आने वाली गंदी बदबू खत्म होती ही।
25. बलग़म खत्म होता है।
26. रात को सोने से पहले मिस्वाक् करने से आँखों की रोशनी बढ़ती है।
27. खाना खाने के बाद मिस्वाक् करने से दांतों का पिला पन जाता रहता है।
28. मिस्वाक में कौन कौन कैमिकल मौजूद है और इसके फायदे क्या है?
29. सिलिका: दांतों में जो दाग धब्बे (प्लाग्) आ जाते है उसे खत्म करने में बहुत अच्छा काम करती है।
30. विटेमिन C: मिस्वाक् में विटेमिन C होता है। हमारे मुँह में जो लीनिंग होती है जिसे हम ओरल मुकोस मेमब्रेन को हील करती है और फायदा पहुँचाती है।
31. सोडियम विकारबोनेट: मिस्वाक् में सोडियम विकारबोनेट पाया जाता है। यह भी दांतों के दाग को खत्म करता है। दांतों और मसूड़ों में जरासीम ( बैकटैरिया) होते है यह उन्हे मारते है।

टेनिक एसिड: दांतों से खून निकलने पर टेनिक एसिड उस खून को रुकती है। मुँह के छालों को खत्म करती है। छालों को होने से बचाती है।

अलकालॉइड्स: बाजार में जो भी टूथपेस्ट या मौथ वॉश आते है वो सिर्फ जरासीम को बढ़ने से रोकती है लेकिन मिस्वाक् में ऐसे-ऐसे केमिकल पायें गये है जो जरासीम को मार सकते है। और जब जरासीम ही नही होंगे तो मुँह और दांतों के मर्ज़ होने का डर खत्म हो जायेगा।

34. एसेंशियल ओइल्स: मिस्वाक् में कुछ ऐसे तेल (ओइल्स) होते है जो हमारे मुँह आने वाले थूक में मिल जाता है जो हमारे मुँह के बेकटेरिया को दूर करने में मुफीद है।
35. बेंज़यल आईसोथिओसाइनेट: यह जरासीम (बेकटेरिया) को खत्म करने की ताक़त रखता है।
36. कमर के दर्द पीठ की हड्डियों का हिल जाना और जिस्म के तरह-तरह के दर्द का ता’अल्लुक़ दातों की सफ़ाई से है। अगर कमर के दर्द और जड़ों के दर्द के मरीज़ को दिन में 22 मरतबा मिस्वाक् करवाई जाये। तो इन दर्दों से शिफा मिल सकती है इंशा अल्लाह।
37. मिस्वाक मय्दा दुरुस्त करती है। खाना अच्छे तरह से हज़म हो जाती हैं।
38. दिमाग़ तेज़ करती है, ज़ेहन बढ़ाती है।
39. ज़बान में कुव्वत पैदा करती है।
40. मौत के वक़्त की परेशानियों से में आसानी पैदा करती है।

41. मिस्वाक् करने से मुँह से अच्छी खुशबू अति है। जो आपको किसी टूथ पेस्ट या मॉथ वॉश में नही मिलेगी।
42. मिस्वाक् नाक को साफ करती है।
43. मिस्वाक् करने के बाद आप खुद को ताज़ा (फ्रेश्) मह्सूस लरेंगे।
44. फिफ्ड़ों के अंदर वाले बलग़म को भी निकालती है।
45. गले की खांरिश् खत्म करती है।
46. मसूड़ों (ग़म्स्) में खून की गर्दिश ( ब्लड सरक्यूलेशान ) पैदा करती है।
47. दांतों में दर्द रहता हो तो मिस्वाक् के मुसलसल इस्तेमाल से दर्द खत्म हो जाता है।
48. मसूड़ों की सूजन को दूर करती है।
49. W.H.O (वर्ल्ड् हेल्थ ओर्गानईज़ेशान) ने मिस्वाक की शिफारिश् की है। और माना है के मिस्वाक् में वो केमिकल मौजूद है जो बिना नुक्सान के इसका जेतना इस्तेमाल करें इससे दांतों और जिस्म को फायदा ही होगा।
50. मिस्वाक फरिश्तों को खुश रखती है। मिस्वाक करने वाले से शैतान नाराज़ होता है और शैतान दूर हो जाते है।
51. मिस्वाक बलों बढ़ाती है।
52. मिस्वाक करने वाले पर बुढ़ापा देर से अति ही।
53. मिस्वाक से बदन का दर्द दूर होता है।
54. मिस्वाक मानी (स्पर्म) को गधा करती है।
55. मिस्वाक चेहरे और जिस्म को रौनक देती है और रंग को निखारती है।
56. मिस्वाक सर के दर्द को दूर करती है।
57. मिस्वाक करने वाला जिस दिन मिस्वाक् न करे तो उसदिन के लिए भी सवाब लिख दिया जाता है।
58. मिस्वाक शैतान के वस्वसे से बचाती है।
59. मिस्वाक चूंकि सुन्नत है इसलिए नेकियों को बढ़ाती है।
60. पुराने जकड़े हुये नज़ले को निकालती है।
61. मिस्वाक से कानों के अमराज़ से शिफा मे मदद मिलती है।
62. बबूल की मिस्वाक्: दांतों को सेहतमंद रखती है।
63. कीकर की मिस्वाक्: इससे हिलते हैं कमजूर दांतों में ताक़त आ जाती है और वो अपनी जगह पर मजबूती से जम जाते जाते।
64. और सफेद हो कर दीगर अमराज़ों से मेहफ़ूज़ हो जाते है।
65. मिस्वाक आवाज़ को साफ करती है।
66. मिस्वाक करना रिज़्क़ में बरकत का सबब बांटी है।

67. मिस्वाक बदन को ताक़त पुह्चा कर बदन में फुर्ति लाती है।
68. मिस्वाक करने से अल्लाह की मदद अति है।
69. मिस्वाक करने से दांतों की जड़ों में केविटि नही जमती। जिसकी वजह से ठंडा-गरम से दांतों को तकलीफ होती है।
70. मिस्वाक से दिल को सुकून मिलता है।

मिस्वाक करने की दुआ

मिस्वाक करने की दो (2) दु’आयें ‘आलिमों की दो (2) अलहैदा किताबों मे हमने दर्ज पायी। जो शर-हुल-मुहज्ज़िब लिन-नववि और उम्दत-उल-क़ारि में तहरीर है।

देखिये→ आँखों की रोशनी की दुआ

याद रहे मिस्वाक करने की यह दुआ किसी भी हदीस से बिल्कुल साबित नही है।

लेकिन इस दुआ के माने प्यारे है और नबी ﷺ की सुन्नतों को पूरा करने की निय्यत से यह दुआ पढ़ने वाले को इंशा अल्लाह सवाब ‘आता हासिल होगा।

मिस्वाक करने की दुआ #1 यह है:

 अल्लाहुम्मा बय्यिज़ बिही अस-नानिम
व-शुद्दा बिही लिसानी,
व-सब्बित बिही लहाती,
व-बारिक-ली फीहि,
या अर-‘हमर-राहेमीन।

मिस्वाक करने की दुआ #1 का तरजुमा:

ऐ अल्लाह ‘अज़्जवजल। इसके जरिये मेरे दांतों को सफेद, मसूड़ों को मज़बूत और हलक़ को ताक़तर फर्मा दे और मेरे लिए इसमे ब-र-कत ‘अता फर्मा, ऐ सब मेहरबान-ओ-से बड़कर मेहरबान।

मिस्वाक करने की दुआ #2 यह है:

अल्लाहुम्मा तह्हिर फमी,
व-नव्विर क़ल्बी,
व-तह्हिर ब-द-नी,
व-‘हर्रिम ज-सदी ‘अलन्नारी
व-अद-ख़िल-नी बिर’हमतिका फी
‘इबादिक-स-सालिहीन

मिस्वाक करने की दुआ #2 का तरजुमा:

ऐ अल्लाह ‘अज़्जवजल, मेरे मुँह को साफ सुथरा, दिल को रोशन, बदन को पाक और मेरे जिस्म को जहन्नम पर हराम फर्मा दे और मुझे अपनी रहमत से अपने नेक बन्दों मे शामिल फर्मा।

मिस्वाक करने के 7 नुक़्सान

मिस्वाक के कुछ नुक़्सनात भी हो सकते है। अपने कभी इसका तसव्वुर भी न किया होगा। हमने तफ्तीश कर इसके कुछ मुमकिन नुक़्सनात है।

ग़लत तरीक़े से मिस्वाक करने के कुछ नुक़्सनात् होने का अंदेशा रहता है।

जानते है वो क्या है?

1. मिस्वाक मुठ्ठी बंध कर या मुठ्ठी में पकड़ कर नही करें।
क्योंकि यह सुन्नत के मुताबिक नही है और इससे बवासीर होने का काफी हद तक अंदेशा है।
2. मिस्वाक के इस्तेमाल के बाद उसे सुला कर यानी उसे लिटा कर न रखें।
यह अक़ल की कमज़ोरी का बाईस बन सकता है।
3. किसी दूसरे को नही इस्तेमाल करना चाहिए।
इससे भी अक़ल की खराबी या कमी हो सकती है।
4. और वक़्त दर वक़्त मिस्वाक के जो रेशें होते है उन्हे चबा कर हटा देने चाहिए।
मिस्वाक करने पर जो भी केविटिज़ (दांतों की गन्दगी) मिस्वाक से दोबारा दांतों में आ सकती है।

5. मिस्वाक एक बालिश (एक हाथ) से बड़ी न हो।
‘आलिमों की किताबों में दर्ज है के इसके दूसरे किनारे पर फिर शैतान बैठा करता है। मिस्वाक ज़्यादा छोटी भी न हो के सुन्नत के मुताबिक न रहे।
6. बैत-उल-ख़ला (टाईलेट) में इसके रिशें न बहाये।
यह मिस्वाक शरीफ की बे-अदबि का सबब बन सकता है। बे जाने से कोई गुनाह नही है लेकिन अदब करने से सवाब हासिल होगा। इंशा अल्लाह
7. मिस्वाक के रेशों को मुँह से निकालना ही दुरुस्त है।
उसे कटाई निंगले नही, पेट मे न जाने दें। यह आपके मैदे (पेट) को नुक्सान पुह्चा सकती है।

सवाब-ए-जरिया कीजिये मिस्वक् की अहमियत के बारे में आपके अपने भी जाने तो उनसे शेयर कीजिये।

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

Apne sawal yahan puchiye!