Har Bimari Se Shifa Ki Dua

Aaj ke daur mein har koyi, kisi na kisi beemari se joojh hi raha hai. Aise mein har bimari se shifa ki dua ke zariye ghar baithe asani se shifa hasil ki ja sakti hai. Kyonke har beemar insan ki yehi khwahish hoti hai ke wo jald-az-jald theek ho jaye.

Har Bimari Se Shifa Ki Dua

Aur ye chahat ho bhi kyun na! marz (beemari) jitni sangeen hoti hai. Insan dawayi kha-kha kar pareshan ho jata hai. ALLAH Ta’ala ne ye sab pareshaniyan, beemari aur musibatein ek insan ko gunaho se paak karne ke liye utari hain.

Isliye humein chahiye ki aise halaat mein sabr karein. Aur hum yaha Qur’an ki un ayaton ke bare mein padhenge.

Jise ‘Ayate-e-Shifa’ kahi jati hai. Jo ki marz (beemari) se shifa ke liye bahut mufeed (fayedemand) sabit hoga Insha ALLAH.

Beemari Ke Bare Mein Humare Sarkar Mustafa Mu’hammad ﷺ Ki Hadees-e-Mubarika

Hazrat Abu ’Huraira RadiALLAHu ‘Anha se riwayat hai:

Nabi-e-Kareem ﷺ ne farmaya:

“ALLAH Ta’ala ne aisi koyi beemari nahi utaari jis ki dawa bhi nazil na ki ho.”

[Sahih Bukhari Hadees #5678]

Agar aap Doctor ke paas jakar aur dawaiyan le le kar thak gaye hain. To meri ye salaah hai ke ‘Ayat-e-Shifa’ padhna shuru kijiye. Kitna hi sangeen marz (beemari) kyon na ho ALLAH Rabbul ‘Alameen zaroor shifa karenge. Zarur dekhiye→ Har Bimari Ki Shifa Ka Wazifa

qul huwa lillazina amanu hudan-Har Bimari Se Shifa ki dua

Qur’an-e-Kareem mein ALLAH ne farmaya:

قُلْ هُوَ لِلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ هُدًى وَشِفَآءٌ

Qul Huwa Lil-lazeena Amanu Hudan Wa-Shifaa

“Farma dijiye (Mu’hammad) mumin ke liye (Qur’an) hidayet aur shifa hai.”

[Surah Fussilat | Ayat #44 Ka Ek Hissa]

Poori Qur’an momin (jo ALLAH par imaan laye) ke liye shifa hai. Aur khaskar ‘Ayat-e-Shifa’ to beemari se shifa ki ek dua hai. Marz se shifa ke liye ye ek mujarrab amal hai. Chahe phir beemari la-ilaaj hi kyon na ho. ‘Ayat-e-Shifa’ ke padhne se aapko zaroor shifa hasil hogi Insha ALLAH azzwajal.

Amal #1

Beemari Se Shifa Ki Dua Padhne Ka Tareeqa

Islam ke Imam ne farmaya hai ke:

Agar koyi shakhs beemar ho aur Ayat-e-Shifa ko poore aqeedat aur taqwe (ALLAH par yaqeen) ke sath neeche diye gaye tariqe se padhe.

To ALLAH Rabbul ‘Alameen use zaroor shifa ata karenge Insha ALLAH azzwajal. Zarur dekhiye→ Blood Pressure Ka Wazifa

  1. Wuzu ki halat mein padhna hai;
  2. Mareez khud bhi padh sakte ya phir koyi aur unke liye;
  3. Sabse awwal (pehle) koyi si bhi ek (1) Durood-e-Paak padhlein;
  4. Phir teen (3) martaba Surah Fatiha (Alhumdu Shareef) padhe;
  5. Ikkees (21) martaba Ayat-e-Shifa padhein;
  6. Phir se ek (1) dafa (bar) wahi Durood-e-Paak padhlein jo shuru mein padhi thi;
  7. Pani pe dam karke peelein;
  8. Agar aap kisi aur ke liye padh rahe hai, to jo mareez (beemar) hai use dam kiya hua pani pila dijiye;
  9. Aur phir apni shifa ki dua bhi kariye;
  10. Ye amal gyarah (11) youm (roz) ka hai.

Ayat-e-Shifa Ki Ayaten Qur’an Ki Kis Surah Aur Konsi Ayaton Mein Hai?

Yahan Dekhiye:

Qur’an ki alag-alag suraton (surah) ki kuchh khas ayat milkar Ayat-e-Shifa kehlati hain.

  1. Surah Tauba ki ayat #14 ka ek hissa;
  2. Surah Yunus ki ayat #57 ka ek hissa;
  3. Surah An-Nahl ki ayat #69 ka ek hissa;
  4. Surah Al-Isra ki ayat #82 ka ek hissa;
  5. Surah Ash-Shu’ara ki ayat #80;
  6. Surah Fussilat ki ayat #41 ka ek hissa.

Har Bimari Se Shifa Ki Dua | Ayat-e-Shifa Arbi Aur Roman English Mein

وَيَشْفِ صُدُورَ قَوْمٍ مُّؤْمِنِينَ

Wa Yashfee Sudoora Qawmin Mumineena

وَشِفَاۤءٌ لِّمَا فِى الصُّدُوْرِۙ

Wa Shifaun Limaa Fee As-Sudoori

فِيهِ شِفَآءٌ لِّلنَّاسِ

Feehi Shifaun Lin-Naas

مَا هُوَ شِفَآءٌ وَرَحْمَةٌ لِّلْمُؤْمِنِينَ

Ma Huwa Shifaun Wa Rahtmatun Lil-Mumineena

وَإِذَا مَرِضْتُ فَهُوَ يَشْفِينِ

Wa Idha Maridtu Fahuwa Yashfeeni

قُلْ هُوَ لِلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ هُدًى وَشِفَآءٌ

Qul Huwa Lil-lazeena Amanu Hudan Wa-Shifaa

Amal #2

Har Bimari Se Shifa Ka Amal

Subah ki sunnatein aur fajr ki namaz ke darmiyan jo koi shakhs ‘ya ALLAHu ya Ra’hmano’ wk sau ekkees (121) bar beemar ke sirhaane par khada hokar parhega.

To Insha ALLAH saat (7) hi din ke ander-ander kitna hi sakht beemar sakhs kyon na ho us shakhs ko shifa hasil hogi. Aur wo jald hi sehatyab ho jayega, Ameen.

Ye amal buzurgon ka mujarrab hai.

ALLAH ke Habeeb Mu’hammad ﷺ ne farmaya:

“Koyi beemari; afat; pareshani insan ko nahi lagti, jabki iske badle ALLAH Ta’ala uske gunah bakhsh deta hai.”

[Saheeh Al-Bukhari Hadees #545]

Isliye sabr karne ke sath-sath insan ALLAH se rokar, gidgida kar apni beemari se shifa ki dua mange. To ALLAH Rabbul ‘Izzat apne bande ka utha hath kabhi khali nahi lautayenge.

ALLAH Ta’ala ka ek Ism-e-Mubarak Ash-Shafi hai yani shifa dene wala. ALLAH tamam marz (beemari) mein mubtila logo ko shifa de Ameen.
Agar apko post pasand aye to apno se share zarur kijiyega.

Har Beemari Se Shifa Ka Amal #3

Aisa marz jisse tabeeb (doctor) ke ilaaj ke bawajood shifa hasil na ho pa rahi ho. Ya phir marz (beemari) la-ilaaj hi kyon na ho. Aise mein is dua ke zariye Insha ALLAH yaqeenan mareez ko shifa milegi.

  1. Sabse pehle satrah (17) martaba Durood-e-Paak padhiye.
  2. Uske bad Surah Fatiha (Alhumdu Shareef) har baar bismillah ke sath, satrah (17) martaba padhiye.
  3. Phir satrah (17) martaba Surah Ikhlas (Qul Huwal Lahu Ahad) padhiye.
  4. Satrah (17) martaba Ayatal Kursi padhiye.
  5. Phir se satrah (17) martaba Durood-e-Paak padhiye, jo shuru mein padhi thi.
  6. Pani par dam kar dein.
  7. Agar aap khud mareez hain to dam kiya hua pani peelein. Ya jis bhi shakhs, jo ki mareez hai use ye dam kiya hua pani pila dein.
  8. Yeh amal mujarrab hai. Insha ALLAH Ajjwazal yaqeenan ek shakhs ko Is dua ke zariye shifa hogi.
  9. Is amal ki koyi miyad nahi hai. Jab tak shifa hasil na ho jaye, yeh wazeefa karte rahiye.

बीमारी से शिफ़ा की दुआ हिंदी में

आज के दौर में हर कोई, किसी ना किसी बीमारी से जूझ ही रहा है, ऐसे में हर बीमारी से शिफ़ा की दुआ के ज़रिए घर बैठे आसानी से शिफ़ा हासिल की जा सकती है।

हर बीमार इंसान की यही ख़्वाहिश (चाहत) है की वो जल्द-अज़-जल्द (जल्दी) ठीक हो जाए।

और ये चाहत हो भी क्यों ना! मर्ज़ (बीमारी) जितनी संगीन होती है।
इंसान दवाइयां खा-खा कर परेशान हो जाता है।

अल्लाह तआ’ला ने सब परेशानियां, बीमारी और मुसीबतें एक इंसान को गुनाह से पाक करने के लिए उतारी हैं।

इसलिए हमें चाहिए की ऐसे हालात में सब्र करें। और हम यहां क़ुरान की उन आयतों के बारे में पढ़ेगे।

जिसे ‘आयत-ए-शिफ़ा’ कही जाती है।

जो की मर्ज़ (बीमारी) के लिए बहुत मुफ़ीद

(फ़ायदेमंद) साबित होगा इंशा अल्लाह।

बीमारी के बारे में हमारे सरकार मुसतफ़ा ﷺ के कुछ हदीस

हज़रत अबु ’हुरैरा रज़िअल्लाहु ’अनहा से रिवायत है:

नबी पाक ने फ़रमाया:

“अल्लाह ताआ’ला ने ऐसी कोई बीमारी नही उतारी, जिस की दवा भी नाज़िल ना की हो।”

[सहीह बुख़ारी हदीस #5678]

अगर आप डॉक्टर के पास जाके और दवाइयां ले-ले कर थक गए हैं। तो मेरी सलाह यह है के ‘‘आयत-ए-शिफ़ा’ पढ़ना शुरू करें।

कितना ही संगीन मर्ज़ (बीमारी) क्यों ना हो अल्लाह रब्बुल ’आलमीन ज़रूर शिफ़ा करेंगे।

क़ुरआन-ए-करीम में अल्लाह ने फ़रमाया:

قُلْ هُوَ لِلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ هُدًى وَشِفَآءٌ

क़ुल हुवा लिल-लज़ीना आ-मनु हुदन वा शिफ़ा

“फ़रमा दीजिए (मु’हम्मद) मोमिन के लिए (क़ुरान) हिदायत और शिफ़ा है।”

[सूरह फुस्सिलत | आयत #44 का एक हिस्सा]

बीमारी से शिफ़ा की दुआ पढ़ने का तरीक़ा

इस्लाम के इमाम ने फ़रमाया है की:

अगर कोई शख़्स बीमार हो और ‘आयत-ए-शिफ़ा’ को पूरे अक़ीदत और तक़वे (अल्लाह पर यक़ीन) के साथ नीचे दिए गए तरीके से पढ़े।

तो अल्लाह रब्बुल ’आलमीन उसे ज़रूर शिफ़ा अता करेंगे इंशा अल्लाह।

  1. वुज़ू के हालत में पढ़ना है;
  2. मरीज़ ख़ुद भी पढ़ सकते हैं या फिर कोई और उनके लिए;
  3. सबसे अव्वल (पहले) कोई भी दुरुद पाक एक (1) दफ़ा पढ़े;
  4. फिर तीन (3) मरतबा सूरह फ़ातिहा (अलहुमदु शरीफ़) पढ़े;
  5. इक्कीस (21) मरतबा आयत-ए-शिफ़ा पढ़े;
  6. फिर से एक (1) दफ़ा (बार) वही दुरूद पाक पढ़े जो शुरू में पढ़ी थी;
  7. पानी ले दम करके पी लें;
  8. अगर आप किसी और के लिए पढ़ रहे हैं,तो दम किया पानी उस मरीज़ को पिला दीजिए।
  9. यह अमल ग्यारह रोज़ का है।

ज़रूर देखिये→ मरने के बाद की दुआ

आयत-ए-शिफ़ा की आयतें क़ुरआन की किस सूरह और कौनसी आयतों में है?

यहां देखिए:

क़ुरान की अलग-अलग सूरतों (सूरह) की कुछ ख़ास आयत मिलकर आयत-ए-शिफ़ा कहलाती हैं।

  1. सूरह तौबा की आयत #14 का एक हिस्सा;
  2. सूरह युनुस की आयत #57 का एक हिस्सा;
  3. सूरह अन-नहल की आयत #69 का एक हिस्सा;
  4. सूरह अल-इसरा की आयत #82 का एक हिस्सा;
  5. सूरह अश-शु’अरा की आयत #80;
  6. सूरह फुस्सिलत की आयत #41 का एक हिस्सा।

बीमारी से शिफ़ा की दुआ | आयत-ए-शिफ़ा अरबी और हिंदी में

وَيَشْفِ صُدُورَ قَوْمٍ مُّؤْمِنِينَ

वा यशफ़ी सुदूरा क़ौ-मिंम-मुअ-मिनीना

وَشِفَاۤءٌ لِّمَا فِى الصُّدُوْرِۙ

वा शिफ़ा-उन लिमा फ़ी-अस सुदूरी

فِيهِ شِفَآءٌ لِّلنَّاسِ

फ़ी-ही शिफ़ा-उन लिन-नास

مَا هُوَ شِفَآءٌ وَرَحْمَةٌ لِّلْمُؤْمِنِينَ

मा हुवा-शिफ़ा उन व-’रहमतुन लि-ल्मुमि-नीना

وَإِذَا مَرِضْتُ فَهُوَ يَشْفِينِ

व-इज़ा मरिद-तु फ़-हुवा यश-फ़ीनी

قُلْ هُوَ لِلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ هُدًى وَشِفَآءٌ

क़ुल हुवा लि-ल्लज़ीना अ-मनु हुदन व-शिफ़ा

हर बीमारी से शिफ़ा का अमल #2

सुबह की सुन्नतें और फ़ज्र की नमाज़ के दरमियान जो कोई शख़्स ‘या अल्लाहु या र’हमानु’ एक सौ इक्कीस (121) मरतबा किसी बीमार के सिरहाने खड़े होकर पढ़ेगा।

तो सात (7) दिन में कितनी ही सख़्त बीमारी हो। उस शख़्स को शिफ़ा हासिल होगी और वो तंदुरुस्त हो जाएगा इंशा अल्लाह।

यह अमल मेरे बुज़ुर्गों का मुजर्रब है।

अल्लाह के हबीब मु’हम्मद ﷺ ने फ़रमाया:

“कोई बीमारी; आफ़त; परेशानी इंसान को नहीं लगती, जबकि इसके बदले अल्लाह तआ’ला उसके गुनाह बख़्श देता है।’’

[सहीह अल-बुख़ारी हदीस #545]

इसलिए सब्र इख़्तियार करने के साथ-साथ इंसान अल्लाह से रोकर, गिड़गिड़ा कर अपनी बीमारी से शिफ़ा मांगे।

तो अल्लाह रब्बुल ’इज़्ज़त अपने बंदे का उठा हाथ कभी ख़ाली नहीं लौटाएंगे।

अल्लाह तमाम मर्ज़ में मुब्तिला लोगो को शिफ़ा दे आमीन।

हर बीमारी से शिफा का अमल #3

ऐसा मर्ज़ जिससे तबीब (डॉक्टर) के इलाज के बावजूद शिफा हासिल ना हो पा रही हो| या फिर मर्ज़ (बीमारी) ला-इलाज ही क्यों ना हो| ऐसे में इस दुआ के ज़रिए इंशा अल्लाह यक़ीनन मरीज़ को शिफा मिलेगी|

  1. सबसे पहले सत्रह (17) मर्तबा दूरूद-ए-पाक पढ़िए|
  2. उसके बाद सूरह फातिहा (अल्हुंडू शरीफ) हर बार बिस्मिल्लाह के साथ, सत्रह (17) मर्तबा पढ़िए|
  3. फिर सत्रह (17) मर्तबा सूरह इख़लास (क़ुल हुवल्लाहु अ’हद) पढ़िए|
  4. सत्रह (17) मर्तबा आयतुल कुर्सी पढ़िए|
  5. फिर से सत्रह (17) मर्तबा दूरूद-ए-पाक पढ़िए, जो शुरू में पढ़ी थी|
  6. पानी पर दम कर दें|
  7. अगर आप खुद मरीज़ हैं तो दम किया हुआ पानी पीलें| या जिस भी शख़्स, जो की मरीज़ है उसे ये दम किया हुआ पानी पीला दें|
  8. यह अमल मुजर्रब है| इंशा अल्लाह अज्ज़वजल यक़ीनन एक शख़्स को इस दुआ के ज़रिए शिफा होगी|
  9. इस अमल की कोई मियाद नही है| जब तक शिफ़ा हासिल ना हो जाए, यह वज़ीफ़ा करते रहिए|

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

34 Comments

  1. Assalamualikum mere daat me bht dard hai 2 mnth pregnant hu pregnant rehne ki wajaise root canal nai karasakte plz kuch maadad kriye

  2. Assalamualaikum bhai … Mere lover ne har wakth har time kuch na kuch thinking mind meh heh rhathahey … I can’t able to see him like this … He is thinking about our future career etc etc … He neet to start a business but we don’t have sufficient money for that and we don’t have any job also don’t know wat to do … I need to see him happily plsss kuch wazifa bathadho naa plsss mujey unke pareshani aur stress ko dur karna hey plsss I beg you plss kuch wazifa bathadho….😭

  3. 3 months se bhut bodypain aur bechini rhetin hai ,dar jaisa lagta
    Kaam pe ja nhi paa raha hu
    Dua bata dijiye
    Vaisa dua b pad raha hu mai
    Shifa nhi mil rahu hai

Apne sawal yahan puchiye!