Ehsas e Kamtari Ka Wazifa

August 11th, 2021

Ehsas e kamtari yani koi shakhs khud ko dusron se adna samajhta ho. Is marz se nijat ke liye ehsas e kamtari ka wazifa jo bahot hi asan hai logon ko kargar sabit hua hai.

Ehsas e Kamtari Ka Wazifa-Dua for Inferiority Complex

Also known as dua for inferiority complex.

Ye wo zahni marz hai jisme koi shakhs khud ko dusron se adna aur kamtar samajhta hai. Wo khud ke bare mein yoon sochta hai ke wo har ek insan se niche hai. Aur usme kisi tarah ki koi khoobi nahi hai.

Ehsas-e-kamtari ko angrezi mein inferiority complex kahte hai. Aise log samaaj mein dusron se peeche rah jate hai. Meri ek bahen jo ehsas-e-kamtari ka kafi arse se shikar thi.

Unme itne hunar aur itni khubsurati hone ke bawajood wo kisi ke samne khud ki bat rakhne par ghabrate hai. Aise log darte hai. Aur khud mein himmat nahi juta pate apna khud ka qadam nahi rakh pate. Dekhiye→ Neend Na Aane Ki Dua

Aise log dusron ke peechhe-peechhe chalne ke aadi hote hai. Aur bheed mein hi rahna pasand karte hai. Samne aane se darte hai. Aur peshwa yani leader nahi ban pate.

Aise logon ko zarurat hai ke wo khud ke bare mein tanhayi mein sochein. Khud mein kya qabiliyat hai unhe pehchane. Aur jo khas qabiliyat hai usi par kaam kar khud ko aage badhaye.

Aur in sab ke sath ye Qurani wazifa zarur kijiyega insha ALLAH apko zarur is zahni marz se chhutkara milega.

Ehsas-e-Kamtari Ka Sabse Asan Amal #1

Bahot hi asan amal hai jiske rozana karne se bahot jald fayda hasil hoga. Aise log din bhar wuzu ki halat mein rahein. Aur jaise hi wuzu toote unhe phir se wuzu bana lena chahiye.

Aur wo khud apne zahen mein tabdeeli dekhenge. Chand dinon mein is marz se nijat yaqeenan milegi. Dekhiye→ Ghabrahat Ki Dua

ya salamo-ehsas e kamtari

Ehsas e Kamtari Ka Wazifa Sabse Asan Amal #2

Jo shakhs ehsas-e-kamtari ka shikar hai unhe chahiye ke namaz-e-fajr, namaz-e-zuhr aur namaz-e-isha ke bad chaudah (14) martaba “ya Salaamo” parhne ki adat daal lein.

Insha ALLAH chalees (40) din hi mein ya phir usse bhi pahle ehsas-e-kamtari ke is marz se nijat hasil ho jayegi.

एहसास-ए-कम तरी क्या है?

ये वो ज़हनी मर्ज़ है जिसमे कोई शख़्स खुद को दूसरों से अदना और कमतर समझता है| वो खुद के बारे में यूं सोचता है के वो हर एक इंसान से कम है| और उसमे किसी तरह की कोई खूबी नही है|

एहसास-ए-कमतरी को अँग्रेज़ी में इन्फीरियारिटी कॉंप्लेक्स कहते है| ऐसे लोग समाज में दूसरों से पीछे रह जाते है| मेरी एक बहन जो एहसास-ए-कमतरी का काफ़ी अरसे से शिकार थी|

उनमे इतने हुनर और इतनी खूबसूरती होने के बावजूद वो किसी के सामने खुद की बात रखने पर घबराती थी| फिर धीरे-धीरे उन्होंने ख़ुद पर मेहनत करना शुरू किया और ख़ूब वज़ीफ़ा पाबन्दी से पढ़ा करती| और अल्लाह का शुक्र है उनमे काफ़ी बदलाव अब महसूस होता है|

ऐसे लोग डरते है| और खुद में हिम्मत नही जुटा पाते अपना खुद का क़दम नही रख पाते|

ऐसे लोग दूसरों के पीछे-पीछे चलने के आदि होते है| और भीड़ में ही रहना पसंद करते है| सामने आने से डरते है| और पेशवा यानी लीडर नही बन पाते|

ऐसे लोगों को ज़रूरत है के वो खुद के बारे में तन्हाई में सोचें| खुद में क्या क़ाबिलियत है उन्हे पहचाने| और जो खास क़ाबिलियत है उसी पर काम कर खुद को आगे बढ़ाए| देखिए→ हर मुश्किल का वज़ीफ़ा

और इन सब के साथ ये क़ुरआनी वज़ीफ़ा ज़रूर कीजिएगा इंशा अल्लाह आपको ज़रूर इस ज़हनी मर्ज़ से छुटकारा मिलेगा|

एहसास-ए-कमतरी का सबसे आसान अमल #1

बहोत ही आसान अमल है जिसके रोज़ाना करने से बहोत जल्द फायदा हासिल होगा| ऐसे लोग दिन भर वुज़ू की हालत में रहें| और जैसे ही वुज़ू टूटे उन्हे फिर से वज़ु बना लेना चाहिए|

और वो खुद अपने ज़हन में तब्दीली देखेंगे| चाँद दिनों में इस मर्ज़ से निजात यक़ीनन मिलेगी|

एहसास-ए-कमतरी का सबसे आसान अमल #2

जो शख़्स एहसास-ए-कमतरी का शिकार है उन्हे चाहिए के नमाज़-ए-फज्र, नमाज़-ए-ज़ुहर और नमाज़-ए-ईशा के बाद चौदह (14) मर्तबा “या सलामो” पढ़ने की आदत डाल लें|

इंशा अल्लाह चालीस (40) दिन ही में या फिर उससे भी पहले एहसास-ए-कमतरी के इस मर्ज़ से निजात हासिल हो जाएगी|
If you loved this post please do not forget to share it with your loved ones to earn rewards.

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

8 Comments

  1. Mohammad Shakir Ahasan on said:

    Kisi bhi wazifa ko shuru Karne ke Lea permission Leni hogi kya

    • Ap kisi bhi jaiz maqsad ke liye wazifa kar sakte hain

  2. Nikhat on said:

    Ji mera sawal tha my 5 weeks ki pregnant hoon lekin mere ander bache ki growth nahi hai iske liye aap koi strong wazifa batayin pls….

  3. Wasim on said:

    Unchai se darr lagta hai mujhe, koi wazeefa batayenge.

    • dear sis ap khoob la lawla parhein.

  4. MUHAMMAD JUNAID AHMED on said:

    Assalam O Allaikum
    Ap mujhai ek wazifah bata den jo mere ruke huwe kam me ruqawat khatam karde or asaani paida kar len mere safar me bhut mushqilat a rhi hai me bahir mulk nhi ja pa raha ho baraye meharbani koi wazifah bta den or ijazat de den pharne ki

Apne sawal yahan puchiye!