Dua To Thank ALLAH For Blessings

Recently updated on October 26th, 2019

Did you actually thank ALLAH ever for the favors? Have you ever asked How to thank ALLAH for the food you eat. ALLAH’s love and blessings are unconditional. Every blessing is more than worth.→ Namaz Ke Baad Ki Dua

Dua To Thank ALLAH For Favor & Blessings

alhamdulillahilladzi bini'matihi tatimmushshalihaat dua

However, no one can thank ALLAH The Creator for the blessings

Dua To Thank ALLAH For Blessings

You don’t have much time for thanking ALLAH either once in a blue moon or never. → Dua to Get Someone Back in Your Life

Your soul and body if created by ALLAH and functioning only on HIS commands. We are just the puppets on the threads.

The breath you inhale suddenly stops. How do you manage? Breath is just air. The air we pay to fill in the tire of our vehicles.

However, your breath is totally free.→ Jaldi Hamal ki Dua ya Pregnant Hone Ka Wazifa

HE is ALLAH and Only ALLAH. Your life is entirely due to HIM. Still, you aren’t praising and gratifying ALLAH WHO is Solely worthy for worship. HE is The Greatest. He is The Sovereign King, The Creator of this Universe.

Don’t forget the reality of your life. Realize it before it ends. Please ALLAH as much as you can and you will be no need to ask HIM anything. HE will grant you everything before you ask.→ Dua for Any Wish Hajat to Come True

Thankfulness is a powerful weapon to please ALLAH The Majestic. Whoever learns to thank ALLAH. His prayers can’t be rejected at any cost.

Thankfulness is not just to move your tongue and utter the words ‘I am thankful to ALLAH’. The real meaning of thankfulness is when both your heart and your soul testify the words spoken by your tongue and your eyes start rolling tears with the feeling of gratitude.

Undoubtedly, ALLAH The Granter, has bestowed us with enormous blessings and HE will keep blessing us for the life-time. We can’t thank ALLAH in actual for all the bounties granted by HIM. Nothing can replace this life we are blessed with.

A human being can’t gratify ALLAH The Gracious even for a single breath he inhales. Whoever thinks to keep showing gratefulness to ALLAH The Almighty, for the entire life, even then he can’t fully gratify ALLAH. As this gratefulness is so small and the blessings of ALLAH are enormous, in fact, there is no limit to measure them.→ Dua to Remove Financial Difficulties

ALLAH likes when HIS servant puts all his efforts to make HIM pleased. ALLAH not only likes such a person rather blesses him more and more from HIS infinite treasurers.

Don’t miss this golden chance till you are alive. The time passed will never come back again. Therefore, start thanking ALLAH The Merciful for HIS countless blessings and bounties bestowed upon you unconditionally. Once you start gratifying ALLAH The Creator, you will see no one can harm you. ALLAH will surely answer your prayers and will shower HIS mercy upon you.→ Job Milne Ke Liye Dua-Dua for Job Success

The Truth is one cannot thank ALLAH The Creator!

How To Thank ALLAH?

  1. Offer at least 2 rak’at prayer of thankfulness with the intention of pleasing and gratifying ALLAH The Glorious. Then thank Him with the bottom of your heart for all HIS blessings.
  2. To show your gratefulness towards ALLAH The Greatest, recite this dua abundantly.

Al’hamdu Lillahillazee Bini’matihi Tatimmus Saalihaat

ALLAH The Beneficiant will get pleased with you. HE will bless you not only in this world but in the hereafter as well.

Must Read: Females should not offer prayer of thankfulness while they can read dua for gratitude anytime.

ALLAH Ka Shukr Ada Karne Ki Dua-Jabki Shukr Ada Nahi Kiya Ja Sakta

Roman English

‘Shukr’ ALLAH Ta’ala ko razi karne ka ek bahut bada hathiyar hai. Jis insan ne sahee maano (tareeqe) me ALLAH Ta’ala ka shukr ada karna seekh liya. Uski duaon ki qubooliyat ko koi cheez nahi rok sakti.→ King of All Wazifa-ya Hayyu ya Qayyum

Shukr sirf zubani kalami ye bol dene ka naam nahi hai ke, ‘ALLAH ka shukr hai’. Yani sirf zuban se upar se alfaaz ki adayegi kar dena shukr nahi kahlaata. Balke shukr to wo hai ke jab insan ki zuban par ye kalmaat aayen, ‘ALLAH! Tera lakh-lakh shukr hai’ to dil aur rooh is baat ki gawaahi de aur ankhein shukr guzari se pur-nam ho jayen (aankho me aansu aa jayen).

Yun to ALLAH Jalla Jalaaluhoo ne ham gunahgaaro par an-gint (beshumaar) nematen nazil farmayi hain aur ta-hayaat (zindagi bhar) ata farmata rahega. Ham chah kar bhi in tamam nematon ka shukr ada kar hi nahi sakte. Hamen ata ki gayi is zindagi ka koi nemul badal (jiska badla nahi diya ja sakta) hai hi nahi.→ Durud e Pak Ka Wazifa

Insan to ALLAH Zille Shanahu ki di gayi ek sans ka haq bhi ada nahi kar sakta. Jisne ye soch liya ke main puri zindagi ALLAH ka shukr ada karu to bhi shukr ada nahi kar sakega. Uske shukr ke aage ALLAH Ta’ala ki nematen bohat hi badi hain.

Lekin jo ALLAH Tabarak Wata ‘Ala ki nematon aur rahmaton ka dil se shukr ada karna shuru kar de. To ALLAH Tabarak Wata ‘Ala usse na sirf khush hota hai balke razi bhi hota hai. ALLAH Ta’ala ko Apna shukr ada karne wala banda bohat pasand hai. Aur WO apne na khatm hone wale khazano se usay khoob nawaazta hai.→ Most Powerful Dua

Ye zindagi ALLAH Subhanahu ki di gayi bohat badi nemat hai. Jab tak aapki sansen chal rahi hain, is sunehari moqe ko yun na ganwaiye. Balke har dam ALLAH ka shukr ada karte rahiye.

Aajse hi dil ki gahraiyon se ALLAH Ta’ala ka shukr ada karna shuru kar dijiye. ALLAH ka shukr ada karne ki adat aapki zindagi ki tamam museebaton ko rafa karegi. Aapke bigde kaamo ko seedha kar degi. Aur aapki duaon ki qubooliyat ko yaqeeni bana degi.→ Surah Yaseen 7 Mubeen Wazifa for Shadi

ALLAH Ka Shukr Kaise Ada Kiya Jaye?

  1. Kam se kam 2 rak’at salatul shukr (shukrane ki namaz) ALLAH ki raza ke liye, ALLAH ko razi karne ke liye aur ALLAH ki tamam nematon ka shukr karne ke liye parhi jaye. Parhne ke bad ALLAH Haq Shanahu ka dil se shukr ada kijiye.
  2. ALLAH ki karam nawaziyon ka shukr ada karne ke liye zyada se zyada is dua ka wird kijiye.

Al’hamdu Lillahillazee Bini’matihi Tatimmus Saalihaat

Insha ALLAH, ALLAH Ta’ala aapse zarur razi hoga. Aapki duniya aur aakhirat dono sanwar jayengi, aameen!

Zarur Parhiye: Khawateen khas dino me shukrana ke nifl ada nahi kar sakti magar shukr ki dua parh sakti hain.

अल्लाह का शुक्र अदा करने की दुआ-जबकि शुक्र अदा नहीं किया जा सकता

‘शुक्र’ अल्लाह पाक को राज़ी करने का एक बहुत बड़ा हथियार है| जिस इंसान ने सही मायने में अल्लाह पाक का शुक्र अदा करना सीख लिया| उसकी दुआओं की क़ुबूलियत को कोई चीज़ नहीं रोक सकती|

शुक्र सिर्फ ज़ुबानी कलमी ये बोल देने का नाम नहीं है के, ‘अल्लाह का शुक्र है’| यानि सिर्फ ज़ुबान से ऊपर से अलफ़ाज़ की अदाएगी कर देना शुक्र नहीं कहलाता| बल्कि शुक्र तो वो है के जब इंसान की ज़ुबान पर ये कलमात आएं , ‘अल्लाह! तेरा लाख -लाख शुक्र है’ तो दिल और रूह बात की गवाही दे और आंखें शुक्र गुज़री से पुर-नाम हो जाएँ (आँखों में आंसू आ जाएँ)|→ या रहमान-उद-दुनिया का वज़ीफ़ा

यूँ तो अल्लाह जल्ला जलालूहू ने हम गुनाहगारो पर अन-गिनत (बेशुमार) नेमतें नाज़िल फ़रमाई हैं ता-हयात (ज़िन्दगी भर) अता फरमाता रहेगा| हम चाह कर भी इन तमाम नेमतों का शुक्र अदा कर ही नहीं सकते| हमें अता की गयी इस ज़िन्दगी का कोई नेमुल बदल है ही नहीं|

इंसान तो अल्लाह जल्ला शानहु की दी गयी एक साँस का हक़ भी अदा नहीं कर सकता| जिसने ये सोच लिया के मैं पूरी ज़िन्दगी अल्लाह का शुक्र अदा करू तो भी शुक्र अदा नहीं कर सकेगा| उसके शुक्र के आगे अल्लाह पाक की नेमतें बहुत ही बड़ी हैं|→

लेकिन जो अल्लाह तबारक वत’आला की नेमतों और रहमतों का दिल से शुक्र अदा करना शुरू कर दे| तो अल्लाह तबारक वत’आला उससे न सिर्फ खुश होता है बल्कि राज़ी भी होता है| अल्लाह पाक को अपना शुक्र अदा करने वाला बाँदा बहुत पसन्द है| और वो अपने बेतहाशा बेशक़ीमती ख़ज़ानों से उसे खूब नवाज़ता है|

अल्लाह का शुक्र अदा करने की दुआ-जबकि शुक्र अदा नहीं किया जा सकता

‘शुक्र’ अल्लाह पाक को राज़ी करने का एक बहुत बड़ा हथियार है| जिस इंसान ने सही मायने में अल्लाह पाक का शुक्र अदा करना सीख लिया| उसकी दुआओं की क़ुबूलियत को कोई चीज़ नहीं रोक सकती|→ या अल्लाह मेरी ज़िन्दगी में मदद कीजिए

शुक्र सिर्फ ज़ुबानी कलमी ये बोल देने का नाम नहीं है के, ‘अल्लाह का शुक्र है’| यानि सिर्फ ज़ुबान से ऊपर से अलफ़ाज़ की अदाएगी कर देना शुक्र नहीं कहलाता| बल्कि शुक्र तो वो है के जब इंसान की ज़ुबान पर ये कलमात आएं , ‘अल्लाह! तेरा लाख -लाख शुक्र है’ तो दिल और रूह बात की गवाही दे और आंखें शुक्र गुज़री से पुर-नाम हो जाएँ (आँखों में आंसू आ जाएँ)|

यूँ तो अल्लाह जल्ला जलालूहू ने हम गुनाहगारो पर अन-गिनत (बेशुमार) नेमतें नाज़िल फ़रमाई हैं ता-हयात (ज़िन्दगी भर) अता फरमाता रहेगा| हम चाह कर भी इन तमाम नेमतों का शुक्र अदा कर ही नहीं सकते| हमें अता की गयी इस ज़िन्दगी का कोई नेमुल बदल है ही नहीं|

इंसान तो अल्लाह जल्ला शानहु की दी गयी एक साँस का हक़ भी अदा नहीं कर सकता| जिसने ये सोच लिया के मैं पूरी ज़िन्दगी अल्लाह का शुक्र अदा करू तो भी शुक्र अदा नहीं कर सकेगा| उसके शुक्र के आगे अल्लाह पाक की नेमतें बहुत ही बड़ी हैं|→ वालिदैन के लिए दुआ

लेकिन जो अल्लाह तबारक वत’आला की नेमतों और रहमतों का दिल से शुक्र अदा करना शुरू कर दे| तो अल्लाह तबारक वत’आला उससे न सिर्फ खुश होता है बल्कि राज़ी भी होता है| अल्लाह पाक को अपना शुक्र अदा करने वाला बाँदा बहुत पसन्द है| और वो अपने बेतहाशा बेशक़ीमती ख़ज़ानों से उसे खूब नवाज़ता है|

ये ज़िन्दगी अल्लाह सुब्हानहु की दी गयी बहुत बड़ी नेमत है| जब तक आपकी सांसें चल रही हैं, इस सुनहरी मौक़े को यूँ न गंवाइए| बल्कि हर डैम अल्लाह का शुक्र अदा करते रहिये|→ रब्बि ज़िदनी ‘इल्मा इन क़ुरआन

आजसे ही दिल की गहराइयों से अल्लाह पाक का शुक्र अदा करना शुरू कर दीजिये| अल्लाह का शुक्र अदा करने की आदत आपकी ज़िन्दगी की तमाम मुसीबतों को रफ़ा करेगी| आपके बिगड़े कामो को सीधा कर देगी| और आपकी दुआओं की क़ुबूलियत को यक़ीनी बना देगी|

अल्लाह का शुक्र कैसे अदा किया जाए?

कम से कम 2 रक’अत सालतुल शुक्र (शुक्राने की नमाज़) अल्लाह की राजा के लिए, अल्लाह को राज़ी करने के लिए और अल्लाह की तमाम नेमतों का शुक्र करने के लिए पढ़ी जाये| पढ़ने के बाद अल्लाह हक़ शानहु का दिल से शुक्र अदा कीजिए|→ प्यार में पागल करने का वज़ीफ़ा माशूक़ को मुहब्बत में गिरफ्गतार करें

अल्लाह की करम नवाज़ियों का शुक्र अदा करने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा इस दुआ का विर्द कीजिए|

दुआ ऊपर पढ़िए

इन्शा अल्लाह, अल्लाह पाक आपसे ज़रूर राज़ी होगा| आपकी दुनिया और आख़िरत दोनों सँवर जाएँगी, आमीन!

ज़रूर पढ़िए: ख़वातीन ख़ास दिनों में शुक्राना की निफल के निफल अदा नहीं कर सकती मगर शुक्र की दुआ पढ़ सकती हैं|

Join ya ALLAH Community!

Subscribe YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

5 Comments

  1. Tithi on said:

    Alhamdulillah.. thank you.. Allah. Thank you brothers and sisters.

  2. Maariya on said:

    Assalamualaikum Imran bhai.Mein bahot bar TO BREAK HARAM RELATIONSHIP wala wazifa mere bhai ke liye ki ..but results nahi mil rahe jain .Urgent Wish(HASBUN ALLAHU WANE’MAL WAKEEL )wazifa me aur meri ammi abhi start karliye but permission manga nahi dekhi thi sir Please hame IJAZAT dein and mere bhai ke liye dua ki jiye sir wo 16 years is hai ek married aurat 30 yrs k Sarah haram relationship me hai.ghar ko bhi nahi aata sir.please dua Karen sir mera Bhai us aurat ko chorh dein.ammi abbu ke paas laut aajaye..Aap bahot nek hai apki dua bahot jald QUBUL hogi. MAY Allah bless u abundantly Sir.

    • Aapko ijazat hai sis wazifa parhne ki. Kamil yaqeen ke sath parhiye. ALLAH Ta’ala aapki pareshani door kare, aameen.

  3. shaikh arif on said:

    assalamualaikum imran bhai mai apni pasand ki shadi aur parents ko razi kerne ke liye shura AL ASR padra hu kya mai is wazife ke saat kohi aur wazifa padsakta hu kya plz bataye mujko aur parents ko jaldse jald razi kerne ka wazifa bi batye aur dua ki gujaris hai bhai plzzzz … assalamualikum

    • Ji bhai aap sath me jo chahe wo wazifa parh sakte hain.

Apne sawal yahan puchiye!