Char Qul in Hindi Tarjuma

November 4th, 2022

पढ़िए क़ुरआन-ए-पाक के चार क़ुल हिन्दी तर्जुमा के साथ| Quran-e-pak ke Char Qul in Hindi tarjuma ke sath.

Char Qul in Hindi चारों क़ुल हिन्दी में

Char Qul in Hindi Tarjuma | चार (4) क़ुल हिन्दी तर्जुमा के साथ

सूरह काफिरून हिन्दी में तर्जुमा के साथ

Sabse pahla Qul Shareef Ki Surah hai Surah Al-Kafiroon Hindi Tarjuma Ke Saath

सबसे पहला क़ुल शरीफ की सूरह है सूरह अल-काफ़िरून इसमें कुल 6 आयात है| चलिए सूरह काफिरून को हिंदी में तर्जुमा के साथ पढ़ते है|

“क़ुल-या अय्यु-हल का-फिरून,

“आप कह दीजिये ए काफिरों (ईमान से इनकार करने वालों),

ला ‘आ-बुदु मा-त’अ बुदून,

ना तो मैं उस की इबादत करता हूँ जिस की तुम पूजा करते हो,

वला अन्तुम ‘आबिदूना मा-अ’अबुद,

और न तुम उसकी इबादत करते हो जिसकी मैं इबादत करता हूँ,

वला-अना ‘आबिदुम-मा अ’अबत-तुम,

और न मैं उसकी इबादत करूंगा जिसको तुम पूजते हो,

वला अन्तुम ‘आ-बिदूना मा अ’अबुद,

और न तुम (मौजूदा सूरते हाल के हिसाब से) उस खुदा की इबादत करने वाले हो जिसकी मैं इबादत करता हूँ,

लकुम दी-नुकुम वलि-यदीन। “

तो तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन और मेरे लिए मेरा दीन”।

यहाँ→ सूरह बक़राह हिंदी में देखिये|

सूरह अल-इख़लास हिंदी में तर्जुमा के साथ

क़ुल हुवल्लाहू अ’हद,

आप कह दीजिये कि अल्लाह एक है,

अल्लाहुस-समद,

अल्लाह बेनियाज़ है,

लम यलिद वलम यू-लद,

वो न किसी का बाप है न किसी का बेटा,

व-लम य-कुंल्लहू कुफु-वन अ-‘हद।

और न कोई उस के बराबर है।

सूरह काफिरून और सूरह इख़लास की फ़ज़ीलत हदीस में

हदीस न. 1 

हज़रत अबू हरैराह र. अ. से रिवायत है के, “रसूल अल्लाह ﷺ ने फजर की दो रक’अतों में सुरह अल-काफिरून और सुरह अल-इख़लास पढ़ी”।

सहीह मुस्लिम

हदीस न. 2

इब्न अब्बास र. अ. से रिवायत है के, रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“इधा ज़ुलज़िलात क़ुर’आन के आधे हिस्से के बराबर है, सुरह अल-इख़लास तिहाई क़ुरआन के बराबर है और अल-काफिरून चौथाईं क़ुरआन के बराबर है”।

जमी’अ अत-तिर्मिज़ी न. 2894

सूरह इख़लास की फ़ज़ीलत के बारे में 2 हदीस ऊपर भी दी हुई है| इसके इलावा सुरह इख़लास पढ़ने के बहुत फायदे हदीस-ए-मुबारिका से साबित है।

आप ﷺ सुरह अल-इख़लास, सुरह अन-नास और सुरह अल-फलक़ हर रात पढ़कर हाथों पर दम कर के चेहरे से ले कर बदन पर फेर लेते थे।

इससे ये भी साबित होता है के इन सूरतों को पढ़ने से बदन हर बीमारी, परेशानी, तकलीफों और नज़रे बद से मेहफ़ूज़ रहती है।

हदीस न. 3

‘आइशा र. अ. ने बयान किया के,

“नबी-ए-करीम ﷺ जब भी रात को सोने के लिए जाते तो अपने दोनो हाथ मल कर उसपर सुरह अल-इख़लास, सुरह अल-फलक़ और सुरह अन-नास पढ़ कर फूंक मरते और फिर अपने जिस के जिस हिस्से पर भी हाथ फेरते, अपने सर, चेहरे और जिस्म के सामने से शुरू करते हुए रगड़ने के क़ाबिल, वो तीन बार ऐसा करते थे”।

सहीह अल-बुखारी, न. 5017

एक बार सुरह अल-इखलास पढ़ने का सवाब क़ुरआन पाक के एक तिहाई हिस्सा पढ़ने के बराबर है।

हदीस न. 4

अबू स’ईद ख़ुद्रि र. अ. रिवायत करते है के, नबी-ए-करीम ﷺ ने अपने सहाबी से फरमाया के, “क्या तुममें से किसी के लिए एक रात में क़ुरआन पाक का एक तिहाई हुस्सा पढ़ना मुमकिन है?

ये अमल उनके (सहाबी) लिए मुश्किल थी तो उन्होंने (सहाबी) कहा के “या रसूल अल्लाह ﷺ।

हममें से कौन ऐसा करने की ताक़त रखता है?

अल्लाह के रसूल ﷺ ने जवाब दिया:

“अल्लाह बे-नियाज़ मालिक जिस की तमाम मख़लूकात को ज़रूरत है ” (सूरह अल-इख़लास) एक तिहाई क़ुरआन के बराबर है”।

सहीह अल-बुखारी, न. 5015

जी हाँ, सूरह अल-इखलास की मुहब्बत जन्नत में जाना आसान बना देगी। साथ ही शिर्क से भी बचाये गी। इंशा अल्लाह|

सूरह अल-इख़लास से मुहब्बत करने वालों को जन्नत मिलेगी

हदीस न. 5 

अनस र. अ. ने बयान किया के, एक आदमी ने अर्ज़ किया: या रसूल अल्लाह ﷺ, मुझे सुरह अल-इख़लास से मुहब्बत है।

फिर आप ﷺ ने फरमाया:

“तुम्हारी इस सुरह से मुहब्बत तुम्हे जन्नत में दाख़िल करेगी”।

अत-तिर्मिज़ी

रियाज़ अल-सालिहीन न. 1013

सुरह अल-फलक़ हिंदी में तर्जुमा के साथ

क़ुल ‘अ-ऊ-ज़ु बि-रब्बिल फलक़,

“कह दीजिये मैं सुबह के रब की पनाह मांगता हूँ,

मिन शर-री मा ख़लक़,

तमाम मख़लूक़ात के शर से,

व-मिन शर-री ग़ा-सिकिन इज़ा वक़ब,

और अँधेरी रात के शर से जब कि उस की तारीक़ी फ़ैल जाये,

व-मिन शर-रिन नफ़-फ़ा-साती फ़िल-उक़द,

और उन औरतों के शर से जो गिरहों में फूंक मारती है,

व-मिन शर-रि ‘हा-सि-दिन इज़ा ‘हसद”

और हसद करने वाले के शर से जब वो हसद करने लगे।

सुरह अल-नास हिंदी में तर्जुमा के साथ

क़ुल ‘अ-ऊ-ज़ु बि-रबबिन नास

कह दीजिये कि पनाह में आता हूँ तमाम लोगो के परवर दिगार की,

मलि-किन-नास,

लोगो के बादशाह की,

इला-हिन-नास,

लोगो के मा’अ-बूद की,

मिन शर-रिल वस-वा-सिल ख़न-नास, अल्लज़ी यु-वस विसु फी सुदू-रिन-नास,

वस्वसा डालने वाले खन्नास के शर से, जो लोगो के सीनो में वस्वसा डालता है,

मिनल जिन-नति वन-नास,

जिन्नात में से ख़्वाह (और) आदमियों में से।”

सुरह अल-फलक़ और सुरह अन-नास पढ़ने के फायदे क्या है?

सूरह अल-फलक़ और सुरह अन-नास पढ़ने की फ़ज़ीलत

हदीस- न.1

अब्दुल्लाह बिन खबीब र. अ. ने बयान किया के, रसूल अल्लाह ﷺ ने मुझसे फरमाया:

“सूरह अल-इख़लास और म’अउज़तीन (सूरह अल-फलक़ और सुरह अन-नास तीन (3) मरतबा फजर और शाम में पढ़ो, ये तुम्हारे लिए हर लिहाज़ से काफी है”।

अबू दावूद, अत-तिर्मिज़ी

रियाज़ अल-सालिहीन, न. 1456

Surah Al-Kaafiroon in Roman English with Translation

“Qul Yaa-ayyu-hal kaafiroon,

“Aap keh dijiye, ae kafiron (imaan se inkaar karne walon),

Laa ‘Aa-budu Maa ta’a bu-doon,

Na to mai uski ibadat karta hun jiski tum puja karte ho,

Walaa An-tum ‘Aabi doo-na Maa ‘Aa-bud,

Aur na tum Uski ibaadat karte ho Jiski mai ibadat karta hun,

Walaa anaa ‘aa bidum-maa ‘abat-tum,

Aur na mai uski ibadat karunga jisko tum pujte ho,

Walaa An-tum ‘aabi-doo-na maa ‘aabud,

Aur na tum (maujoda surte haal ke hisab se) Uski Khuda ki ibadat karne wale ho jiski mai ibadat karta hun,

Lakum dee-nu-kum wali-ya deen”.

To tumhare liye tumhara deen aur mere liye mera deen”.

Yahan→ What is Shirk Meaning in Islam in Hindi dekhiye

Surah Al-Ikhlas in Roman English with Translation

Qul hu-wALLAHu a’Had,

“Aap keh dijiye ki ALLAH EK hai,

ALLAHus-Samad,

ALLAH be-niyaz hai,

Lam-ya Lid, walam-yoo Lad, Walam-ya kul-Lahu,

Wo uski koi aulad hai aur na wo kisi ki aulad hai

ku-fuwan a’had.

Aur na koyi USKE baraabar hai”.

Yahan→Surah Yaseen in Hindi Tarjuma dekhiye

Surah Ikhlas aur Surah Kafiroon Ki Fazilat

सूरह काफिरून और सूरह इख़लास की फ़ज़ीलत हदीस में

Hadees No. 1 

Hazrat Abu Hurairah R. A. se riwayat hai ke, “Rasool ALLAH ﷺ ne fajar ki do rak’aton mein Surah Al-Kafiroon aur Suarh Al-Iklaas padhein”.

Saheeh Muslim

Hadees No. 2

Ibn Abbas R. A. se riwayat hai ke, Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Idha Zulzilat Qur’an ke aadhe hisse ke baraabar hai, Surah Al-Iklaas tihayi Qur’an ke baraabar hai aur Al-Kafiroon chauthayi Qur’an ke baraabar hai”.

Jami’a At Tirmidhi no. 2894

Surah Ikhlas Ki fazilat ke bare me 2 Hadees upar di hui hai. Iske ilawa Surah Ikhlas parhne ke bahut fayde hadees se sabit bhi hai.

Ap Surah Ikhlas, Surah An-Nas Aur Surah Al-Falaq har rat parhkar hathon par dam karke chehre se lekar badan par pher lete the.

Isse ye bhi sabit hota hai ke in suraton ko parhne se badan ki bimari, pareshani aur nazre bad se hifazat milti hai.

Hadees No. 3

‘Ayesha R. A. ne bayan kiya ke,

“Nabi-e-Kareem ﷺ jab bhi raat ko sone ke liye jate to apne dono hath mal kar uspar Surah Al-Ikhlaas, Surah Al-Falaq aur Surah An-Naas padh kar phunk marte aur phir apne jism ke jis hisse par bhi hath pherte. Apne sar chehre aur jism ke saamne se shuru karte huye lagadne ke qaabil, wo teen bar aisa karte the”.

Saheeh Al-Bukhari, no. 5017

Ek bar Surah Ikhlas parhne ka sawab Quran pak ke ek tihayi hissa parhne ke barabar hai.

Hadees No. 4

Abu S’aeed Khudri R. A. riwayat karte hai ke, Nabi-e-Kareem ﷺ ne apne Sahabi se farmaya ke, “Kya tumme se kisi ke liye ek raat mein Qur’an paak ka ek tihayi hissa padhna mumkin hai?

Ye amal unke (Sahabi) liye mushkil thi to unhone (Sahabi) kaha ke “Ya Rasool ALLAH ﷺ !

Ham mein se kon aisa karne ki taqat rakhta hai?

ALLAH ke Rasool ﷺ ne Jawab diya:

“ALLAH beniyaz maalik jis ki tamaam makhloqaat ko zarurat hai” (Surah Al-Iklaas) ek tihayi Qur’an ke baraabar hai”.

Saheeh Al-Bukhari, no. 5015

Surah Ikhlas Se Muhabbat Karne Walon Ko Jannat Milegi

Hadees No. 5

Anas R. A. ne bayan kiya ke, ek aadmi ne arz kiya: Ya Rasool ALLAH ﷺ! Mujhe Surah Al-Iklaas se mohabbat hai. Phir Aap ﷺ ne farmaya:

“Tumhari is Surah se muhabbat tumhe jannat mein dakhil karegi”.

At-Tirmidhi

Riyaz Al-Saliheen no. 1013

Surah Al-Falaq Roman English Translation Ke Sath

Qul a’oozu bi-Rabbil falaq,

Keh dijiye mai subah ke RAB ki panah mangta hun,

Min shar-ri maa khalaq,

Tamaam makhloqaat ke shar se,

Wa min shar-ri ‘Ghaa-sikin izaa waqab,

Aur andheri raat ke shar se jab ki us ki tareeki phail jaye,

Wa min sharrin-naf-faa saati fil-‘uqad,

Aur un aurton ke shar se jo girho mein phunk marti hai,

Wa min sharri ‘Haa-si-din iza ‘Hasa-d”.

Aur hasad karne walon ke shar se jab wo hasad karne lage”

Surah Al-Naas in Roman English with Translation

Qul a-‘oozu bi rabbin-naas,

Keh dijiye ki panah mein ata hun tamaam logon ke Parwardigar ki,

Malikin-naas,

Logo ke Badshaah ki,

ilaa-hin-naas,

Logo ke maa’a-bood ki,

Min shar-ril was-waasil khannaas,

Waswasa dalne wale khannaas ke shar se,

Allazi yuwas-wiso fee sudoo-rin-Naas,

Jo logo ke sino mein waswasa dalta hai,

minal jinnati wannaas.

Jinnat mein se khwah (aur) aadmiyon mein se.

Surah Al-Falaq Aur Surah Naas Ki Fazilat

Hadees No. 1

Abdullaah bin Khabeeb R. A. ne bayan kiya ke, Rasool ALLAH ﷺ ne mujhse farmaya:

“Surah Al-Ikhlaas aur m’auzteen (Surah Al-Falaq aur Surah Al-Naas) teen (3) martaba fajar aur shaam mein padho, ye tumhare liye har lihaaz se kafi hai”.

Abu Dawood, At-Tirmidhi

Riyaz Al-Saliheen, no. 1456

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

2 Comments

  1. Aoa Bhai Meri sister ky risty aty hn lkn dekh k koi jawab ni deta na inkar krty hn na han krty hn or bt khtm hu jti h yhi same mery Bhai ka b haal hai ..Bhai ka rista gairo ma hu jy kiu k family ma issues hn ..or behn ka b rista a jy dono ka acha sa .. or out of family ay ..

Apne sawal yahan puchiye!