Astaghfar Ki Dua

October 11th, 2022

Bashar yani insan ko apne gunahon ki ALLAH Rabbul ‘Izzat se astaghfar ki dua ke zariye dil se mafi mangte rahna chahiye. 

Astaghfar Ki Dua Jisne Parhi Zindagi Bhar Ke Gunah Maaf Hue

Har insan ne kabhi na kabhi apni zindagi me gunah kiye hi hote hai. Masla ye nahi hai balki ye hai ke ALLAH Ta’ala ki bargah me sachche dil se taubah karlo. ALLAH Ta’ala maaf karne wala Ghafoorur-Raheem hai.

Insan hai hi ghaltiyaon ka putla. Aur duniya-e-faani mein taqwa aur parhezgaari itni asan nahi. Yu samajh lo kaanton bhara raasta hai aur daaman bachakar chalna hai.

Sachi Tauba Kaise Kare?

Sachchi Taubah Kaisi Honi Chahiye?

Jab aap kisi se muhabbat karein aur wo apko dhokha de aur jhut bole. Qadam-qadam par apki nafarmani kare. Apko dil ko thes pahunchata rahe.

To ap koshish to yahi karenge ke uski ghaltiyon ko dar guzar karein. Magar kab tak?

Jab wohi ek hi ghalti dohrata rahe, mafi mangkar bhi apko dhokha deta rahe. To wo din door nahi jab aap apni zindagi se use dafah kar denge. Jabki aapne use kabhi khoob toot kar chaha tha. Yahan→ Rabbighfir Warham Wa Anta Khairur Rahemeen dekhiye!

ALLAH Ta’ala farmate hai ke gunah ho jaye to mere samne sachchi taubah karlo.

  • Sachchi taubah use kehte hai ke jisme dil se us gunah ka ehsas ho.
  • Sachchi taubah use kehte hai ke jisme us gunah ko kabhi na karne ka ALLAH Ta’ala se sachcha wada ho.
  • Sachchi taubah wo hoti hai ke jisme nadamat ho, sharmindgi ho. Balki us sharmindgi ke ehsas mein khud ki zaat ko bashar haqeer samajhne lage.

Sun lo! kyonke insan jab khud ko haqeer (bahot bura aur chhota) samajhne lagta hai to ALLAH Jalla Shanahu usse muhabbat kar uska darja buland kar deta hai.

Bilkul aise hi ALLAH Rabbul ‘Izzat hamse maa se bhi zyada yani 70 maao ke barabar muhabbat karta hai. Jiska ham ghuman bhi nahi kar sakte. Itni nematon ka ham shukr ada bhi nahi kar sakte. Balki ada karne ki niyyat karna to door ham shikayatein karne lagte hai.

Taubah Aur shukrguzari ka apasi rishta hai.

ALLAH Ta’ala ki Shukr Guzari ka Waqiyah

Jab insan ko ye ehsas ho jaye ke wo ALLAH Jalla shanahu ki nematon ka shukr ada qatayi nahi kar sakta. Asal mein wahi sachchi shukrguzari kehlati hai.

Jab ki yun to hamara rom-rom bhi shukr ada kare to bhi in nematon ka shukr ada nahi kiya ja sakta hai.

Hazrat Rabiya Basri R.A. jo badi ‘ibadat guzar aur ALLAH Ta’ala ki nek bandi thi.

Ek waqiyah pesh karta hoon thoda-bahot lafzon me idhar-udhar ho jaye to ALLAH Ta’ala mujhe maaf kare. Ek mafhoom hai.

Aap R.A. ne ek din ek shakhs ko sar par patti bandhe guzarte hue dekha.

Aap R.A. ne us shakhs se farmaya,

Ae naujawan tu sar par patti bandhe hue kyon ja raha hai.

Us shakhs ne kaha:

Mere sar mein bahot dard hai aur is dard se main bahot pareshan haal hoon.

Bas, ye sunna tha ke Hazrat Rabiya Basri R.A. ne us shakhs se farmaya:

Itne saal jab tu sehatmand tha to tune kabhi ALLAH Ta’ala se USKI nematon ki shukrguzari nahi ki. Aur aaj jab thoda sa sar mein dard hua to tune shikayat karna shuru kar diya. Yahan→ 12 Rabi ul Awal Kya Hai dekhiye!

Aj hamara yahi haal hai.

Baharhaal ALLAH Rabbul ‘Izzat ki shukr guzari karte raho. Jaan-boojh kar ya anjane mein. Chhup kar ya khule aam, raat ke andheron mein ya din ke ujalo mein. Tanhayi mein ya bheed mein jo bhi jitne bhi sagheera aur kabeera gunah ham karte hai. Hamein unki mafi talab karte rahna chahiye.

Hazrat Hassan Basree Rahmatullah ‘Alayhe se ek shakhs ne jab usne apni kayi pareshaniyon aur musibaton ka tazkirah kiya. To Unhone sab ka hal ek hi batlaya.

Wo hai Astaghfar.

Astaghfaar se rizq mein kushadgi, barish ki kasrat, qahat saali khatm hoti hai. Ghar abad hote hai. ALLAH T’ala ki khushnoodi hasil hoti hai. Balaye, musibatein aur tamam aafaton se mehfooz rahte hai.

Astaghfar Ki Dua Kaise Padhein?

Huzoor-e-Akram ﷺ ne masnoon astaghfar ke kalimat bataye hai. Jinko padh kar ALLAH Tabarak Wa Ta’ala ke bargah mein sajda rez ho kar nihayati sharmindagi ke sath agar aap apne gunahon ki mu’afi mangege to ALLAH Subhan Wa Ta’ala aapko zarur mu’af farma dega. Insha ALLAH

Jab bhi dil mein khyal aye ke bahut gunahgar hon. Bahut sare gunahon ke bojh se dil bhar gaya hai. To kiska intezar karna.

Fauran wuzu kar lein aur jaa-e-namaz bichha lein aur apne 1-1 gunah ke bare me soche.

Tasavvur karein, sharminda hoyen. Jaise kal maidan-e-mahshar mein Apne Parwardigaar ke huzoor aap khade honge.

Sabke saamne khaate khole jayenge, kaha jayega peechhe mud ke dekh. To log, uske gunah par jo usne duniya mein chhup kar kare the, uspar hasenge.

Us zaat ki qasam jisne hamein paida kiya hai, rona khud ba khud ajayega. Aur wohi ansu ALLAH Ghafoorur Raheem ko bahot pasand hai.

Bas ke phir unhi gunahon ki mafi mil jaye sochte hue, rote hue, gidgidate huye, astaghfar Ki Kasrat shuru karden.

ALLAH Jalla Jalaaluhoo, zaroor maf karega, Insha ALLAH. Yahan→ Tera Teji Kyon Manate Hain? dekhiye!

Astaghfar Ki Fazilat

Astaghfar ki bahut sari fazilatein yani fayde janna bhi Aapke liye behad zaruri hai. Zindagi mein agar bahut sari pareshaniyon musibaton ka samna karna pad raha ho.

Jisse nikalna mushkil hi nahi namumkin lag raha ho. To astaghfar kasrat shuru kar den. ALLAH un sari musubaton ko door hi nahi balke Aapki zindagi ko khushiyun se bhar dega. Insha ALLAH

1. Bakshish Ka Sabab:

ALLAH Ta’ala Qur’an mein farmata hai;

“Apne rab se mu’afi mango, wo bahut bakshne wala hai”.

Surah Al-Nuh ayat #10

2.Astaghfar Azaab Se Bachati Hai

ALLAH Ta’ala Qur’an mein farmata hai: “Aur ALLAH unko azaab nahi denge jab tak wo maghfirat talab karte rahenge”

Surah Al-Anfaal ayat #33

3. Burayiyon Ko ALLAH Nekiyon Mein Badal Dega

ALLAH Ta’ala Qur’an mein farmata hai: “Jis shakhs ne taubah ki aur imaan qubool kiya aur nek kaam kiye to un logon ki burayiyon ko ALLAH nekiyon se badal dega aur ALLAH to bada bakshne wala meharbaan hai”

Surah Al-Furqaan ayat #70

Astaghfar Ki Duayein

Astaghfar ki dua jo hadees se sabit hai yaha ham pesh karenge. Aur inki fazilat-o-barkat se ALLAH Ta’ala apki bakshish farma dega ba-sharte aapne dil se taubah ki ho aur apne gunahon par sharminda ho. Yahan→ Allahumma Inni As’aluka Al Afiyah Full Dua dekhiye!

 

Dua #1

“Astaghfirullah Astaghfirullah Astaghfirullah”.

“Mai ALLAH se mu’afi mangta hun”.

Saheeh Muslim: #1316- #1337

Aap ﷺ jab bhi namaz padh kar salaam pherte to ek martaba ALLAHu Akbar aur teen (3) martaba “Astaghfirullah Astaghfirullah Astaghfirullah” padha karte.

Dua #2

“Astaghfirullah Rabbi Min Kullay Zambin Aznabtuho Amadan Ao Khat An Sirran Ao Alaniatan Wa Atoobo ilaihe Minaz-Zambil Lazee Aalamo Wa Minaz-Zambil-Lazee La-Aalamo innaka Anta-Allamul Ghuyoobi Wa Sattaarul ‘Uyoobi Wa Ghaffaruz-Zunoobi Wala Hawla Wala Quwwata illa billahil ‘Aliyyil ‘Azeem”.

“I seek forgiveness from ALLAH, who is my Creator and Cherisher, from every sin I committed knowingly or unknowingly, secretly or openly. I also seek His forgiveness for all sins which I am aware of or am not aware of. Certainly, You (O ALLAH!), are The Knower of the hidden and The Concealer of mistakes and The Forgiver of sins. And there is no power and no strength except with ALLAH, The Most High, The Most Great”.

“Main ALLAH se maafi mangta hun jo mera rabb hai, apne har us gunah se jo maine jan boojhkar kiya ya bhul kar kiya, chhup kar kiya ya zahiran kiya. Aur main uski baargah me tauba karta hu us gunah se jisko main janta hun aur us gunah se bhi main jisko nahi janta. Ae ALLAH beshak tu ghaibo ko janne wala hai aur ‘aibo ko chhupane wala aur gunahon ko bakhshne wala hai. Aur gunah se bachne ki taakat aur neki karne ki quwwat nahi magar ALLAH ki madad se jo bahot buland azmatwala hain”.

“मैं अल्लाह से माफ़ी मांगता हूँ जो मेरा रब्ब है, अपने हर उस गुनाह से जो मैंने जान बूझकर किया या भूल कर किया, छुप कर किया या ज़ाहिरन किया| और मैं उसकी बारगाह में तौबा करता हूँ उस गुनाह से जिसको मैं जानता हूँ और उस गुनाह से भी मैं जिसको नहीं जानता| ऐ अल्लाह बेशक तू ग़ाइबो को जानने वाला है और ‘ऐबों को छुपाने वाला और गुनाहों को बख़्शने वाला है| और गुनाह से बचने की ताक़त और नेकी करने की क़ूव्वत नहीं मगर अल्लाह की मदद से जो बहुत बुलन्द अज़मत वाला हैं”|

Dua #3

Astaghfar Ki Dua Hindi Me

“Astaghfirullah al-lazi la ilaha illa Huwal-Hayyul-Qayyum wa atubu ilaih”.

Tarjuma: “Mai maghfirat mangta hun ALLAH se jiske siwa koyi m’abood bar’haq nahi hai jo zinda hai aur har chiz ka nigahbaan hai aur mai isi ki taraf ruj’oo karta hun”.

Sunan Abu Dawud Hadees #1517

Dua #4

“Astaghfirullah Rabbi Min Kulli Zambinw Wa Atoobu ilayh”.

“Main ALLAH Ta’ala se gunahon ki maafi chahta hu jo mera rab hai, jiski taraf mujhe lautkar jana hai”.

Aap chahen Sayyad-ul-Astaghfar ka wird bhi kar sakte hai jo du’aon ki mu’afi ke du’a ka sardaar (leader) hai.

Astaghfar y’ani gunaho ki mu’afi ki dua ke liye astaghfar ki dua mein koyi bhi ek dua ko Aap sone se theek pahle das (10) martaba padh kar soyen.

Agar ap chaahe to pure din mein jitna zyada chahe utni bar padh sakte hai. Har namaz ke baad bhi in duaaon mein se koyi bhi ek dua ya sari dua bhi Aap padh sakte hai. Yahan→ Isale Sawab Ka Tariqa Aur Fazilat dekhiye!

Aur phir gunahon se parhez karne ka a’had kar ke mu’afi ki dua apne lafzon bhi kijiye.
Insha ALLAH tamam gunahon se mu’afi mil jayegi, Ameen.

Insha ALLAH apke gunah mu’af ho jayenge, Ameen. Ya phir Aap chahen to pure din bhar mein kam se kam ek sau (100) martaba rozana Astaghfaar ki jo upar di hui dua hai usme se koyi bhi ek dua padhiye ya sari duayen bhi padh sakte hai.

In duaon ko apne tamam sagira aur kabira gunahon ki mu’afi ki niyat se wird kijiye. Aur kabhi ye gunah zindagi mein dubara na dohrane ka pakka irada kar ke ALLAH Azzawajal se a’had kijiye aur wada kijiye. Aur aage kabhi ise mustaqbil mein na dhohraye.

Insha ALLAH apke tamam gunah mu’af ho jayenge, chahe maazi mein apne kitne hi bade gunah kyu na kiye ho.

ALLAH Ta’ala se hamesha mu’afi ki ummeed rakhiye wo Ra’hmaan hai wo Gafurrur Ra’heem hai. Apke gunahon se kayi martaba zyada ALLAH ki rehmat hai, beshaq. Wo taubah karne walon ko pasand karta hai.

Dua #5 Sayyidul Astaghfaar

Sayyidul Astaghfar yani astaghfar mein sabse azeem aur unki sargana sadar dua hai. Ye hadees-e-mubarika se sabit bhi hai.

Shaddad bin Aus Radi ALLAHu ‘Anhu ne farmaya:

Nabi-e-Kareem ﷺ ne irshad farmaya, ” Sabse behtareen dua maghfirat mangne ke liye (Syed-ul-Istighfar) kahna hai:

‘ALLAHumma Anta Rabbi, la ilaha illa Anta, khalaqtani wa ana ‘abduka, wa ana ‘ala ‘ahdika wa wa’dika mastata’tu, a’udhu bika min sharri ma sana’tu, abu’u laka bini’matika ‘alayya, wa abu’u bidhanbi faghfir li, fa innahu la yaghfirudh-dhunuba illa Anta.

Saheeh Al-Bukhari, Hadees Volume #8 Book#75, Number #318

Sayyidul Astaghafar fazilat aur fayde ko tafseel se jaanne ke liye is link par click kijiye→ Sayyidul Istighfar Dua In Hadith

Agar Aapko hamari yeh post pasand aayi to sadqa-e-jariya ke niyyat aur ALLAH Ta’ala se nekiyan pane ki niyyat se apne pyaron se zarur share kijiyega.

अस्तग़फ़ार की दुआ

बशर यानी इंसान को अपने गुनाहों की अल्लाह रब्बुल ‘इज़्ज़त से अस्तग़फ़ार् की दुआ के ज़रिये दिल से माफी मांगते रहना चाहिए। हर इंसान ने कभी न कभी अपनी जिंदगी में गुनाह किये ही होते है। मसला ये नही है बल्कि ये है के अल्लाह त’आला की बरगाह मे सच्चे दिल से तौबह करलो। अल्लाह त’आला माफ करने वाला ग़फूरूर रहीम है।

अस्तग़फ़ार की दुआ जिसने पढ़ी जिंदगी भर के गुनाह माफ हुए

इंसान है ही ग़लतियों का पुतला। और दुनिया-ए-फ़ानी में तक़्वा और परहेज़गारी इतनी आसान नही। यूँ समझ लो कांटों भरा रास्ता है और दामन बचा कर चलना है।य ख

यहाँ→सर दर्द की दुआ  देखिए|

सच्ची तौबा कैसे करे?

सच्ची तौबाह् कैसी होनी चाहिए?

जब आप किसी से मुहब्बत करें और वो आपको धोखा दे और झूठ बोले। क़दम-क़दम पर आपकी नाफरमानी करे। आपके दिल को ठेस पहुँचाता रहे।

तो आप कोशिश तो या करेंगे के उसकी ग़लतियों को दर गुज़र करें। मगर कब तक?

जब वही एक ही ग़लति दोहराते रहे, माफी मांगकर भी आपको धोखा देता रहे। तो वो दिन दूर नही जब आप अपनी जिंदगी से उसे दफह कर देंगे। जबकि आपने उसे कभी खूब टूट कर चाहा था।

अल्लाह त’आला फरमाते है के गुनाह हो जाये तो मेरे सामने सच्ची तौबाह् करलो।

सच्ची तौबाह् उसे कहते है के जिसमे दिल से उस गुनाह का एहसास हो। सच्ची तौबाह् उसे कहते है के जिसमे उस गुनाह को कभी न करने का अल्लाह त’आला से सच्चा वादा हो। यहाँ→बाज़ार में जाने की दुआ देखिए|

सच्ची तौबाह् वो होती है के जिसमे नदामत हो, शरमिनदगी हो। बल्कि उस शर्मिंगदी के एहसास में खुद की ज़ात को बशर हक़ीर समझने लगे।

सुनलो! क्योंके इंसान जब खुद को हक़ीर (बहुत बुरा और छोटा) समझने लगता है तो अल्लाह जल्ला शानहु उस्से मुहब्बत कर उसका दर्जा बुलंद कर देता है।

बिल्कुल ऐसे ही अल्लाह रब्बुल ‘इज़्ज़त हमसे माँ से भी ज्यादा यानी 70 माँओ के बराबर मुहब्बत करता है। जिसका हम ग़ुमान भी नही कर सकते। इतनी नेमतों का हम शुकर अदा भी नही कर सकते। बल्कि अदा करने की निय्यत करना तो दूर हम शिकायतें करने लगते है।

तौबाह और शुकरगुज़ारी का आपसी रिश्ता है।

अल्लाह त’आला की शुकर गुज़ारी का वाक़ियाह् जब इंसान को ये एहसास हो जाए के वो अल्लाह जल्ला शा-नहु की नेमतों का शुकर अदा क़तई नही कर सकता। असल में वही सच्ची शुकरगुज़ारी कहलाती है।

यहाँ→रुज्जत ख़त्म करने का वज़ीफ़ा देखिए|

जब की यूँ तो हमारा रोम-रोम भी शुकर अदा करे तो भी इन नेमतों का शुकर अदा नही किया जा सकता है।

हज़रत राबिया बसरी र. अ. जो बड़ी ‘इबादत गुज़ार और अल्लाह त’आला की नेक बंदी थी।

एक वाक़ियाह् पेश करता हूँ थोड़ा-थोड़ा लफ़्ज़ों में इधर-उधर हो जाये तो अल्लाह त’आला मुझे माफ करे।

एक मफ़हूम है:

आप र. अ. ने एक दिन एक शख्स को सर पर पट्टी  बंधे गुज़रते हुए देखा।

हज़रत राबिया बसरी र. अ. ने उस शख्स से फरमाया,

ऐ नौजवान तू सर पर पट्टी बंधे हुए क्यों जा रहा है।

उस शख्स ने कहा:

मेरे सर में बहुत दर्द है और इस दर्द से मैं बहुत परेशान हाल हूँ।

बस, ये सुनना था के हज़रत राबिया बसरी र. अ. ने उस शख्स से फरमाया:

इतने साल जब तु सेहतमंद था तो तूने कभी अल्लाह त’आला से उसकी नेमतों की शुकरगुज़ारी नही की। और आज जब थोड़ा सा सर में दर्द हुआ तो तूने शिकायत करना शुरू कर दिया।

आज हमारा यही हाल है।

यहाँ→ग़ुस्ल करने की दुआ और निय्यत  देखिए|

बहरहाल अल्लाह रब्बुल ‘इज़्ज़त की शुक्र गुज़ारी करते रहो। छुप कर या खुले आम, रात के अंधेरों में या दिन के उजालों में।

तन्हाई में या भीड़ में जो भी जितने भी सगीरा और कबीरा गुनाह हम करते है। हमें उनकी माफी तलब करते रहना चाहिए।

हज़रत हस्सन बसरी र. अ. से एक शख्स ने जब उसने अपनी कई परेशानियों और मुसीबतों का तज़्किरह् किया। तो उन्होंने सब का हाल एक ही बतलाया।

वो है अस्तग़फ़ार।

अस्तग़फ़ार से रिज़्क़ में कुशादगी, बारिश की कसरत, क़हत् साली खत्म होती है। घर आबाद होते है। अल्लाह त’आला की खुशनूदि हासिल होती है। बलाये, मुसीबतें और तमाम आफ़तों से मेहफ़ूज़ रहते है।

अस्तग़फ़ार की दुआ कैसे पढ़े?

यूं तो अस्तग़फार की दुआ पढ़ने का कोई ख़ास तरीक़ा नहीं है| लेकिन हम हुज़ूर ﷺ की बताई जो दुआ है उसी को आजिज़ हो कर पढ़ेंगे तो इंशा अल्लाह माफ़ी ज़रूर मिलेगी|

हुज़ूर-ए-अकरम ﷺ ने मसनून अस्ताग़हफ़ार के कलिमात बताये है। जिनको पढ़ कर अल्लाह तबारक व त’आला की बरग़ाह में सजदा रेज़ हो कर निहायती शर्मिंदगी के साथ अगर आप अपने गुनाहों की मु’अफि मांगेंगे तो अल्लाह सुब-हानहू वा त’आला आपको ज़रूर मु’आफ फरमा देगा। इंशा अल्लाह|

जब भी दिल में ख़्याल आये के मैं बहुत गुनाहगार हूँ। बहुत सारे गुनाहों के बोझ से दिल भर गया है। तो क्यों इंतेज़ार करना?

फ़ौरन वुज़ू कर लें और जा-ए-नमाज़ बिछा लें और अपने 1-1 गुनाहों के बारे में सोचें।

तसव्वुर करें, शर्मिंदा होयें।

जैसे का मैदान-ए-महशर में आपने परवरदिगार के हुज़ूर आप खड़े होंगे।

सबके सामने खाते खोले जायेंगे, कहा जायेगा पीछे मुड़ के देख। तो लोग, उसका गुनाह पर जो उसने दुनिया में छुपा कर करें थे, उसपर हसेंगे।

उस ज़ात की क़सम जिसने हमें पैदा किया है, रोना खुद बा खुद आजायेगा। और वही आंसू अल्लाह ग़फूरूर रहीम को बहुत पसंद है।

बस के फिर उन्ही गुनाहों की माफ़ी मिल जाए सोचते हुए, रोते हुए, गिड़गिड़ाते हुए, अस्तग़फ़ार की कसरत शुरू करदें।

अल्लाह जल्ला जलालुहू, ज़रूर माफ करेगा, इंशा अल्लाह|

यहाँ→ क़ब्र पर मिटटी डालने की दुआ देखिए|

अस्तग़फार की फ़ज़ीलत

अस्तग़फार की बहुत सारी फजिलत यानी फायदे जानने भी आपके लिए बेहद ज़रूरी है। जिंदगी में अगर बहुत सारी परेशानियों मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा हो।

जिससे निकलना मुश्किल ही नही नामुमकिन लग रहा हो। तो अस्तगहफार की कसरत शुरू कर दें। अल्लाह उन सारी मुसीबतों को दूर ही नही बल्के आपकी जिंदगी को खुशियों से भर देगा। इंशा अल्लाह

1. बख़्शिश का सबब

अल्लाह त’आला क़ुर’आन शरीफ की आयत में फरमाता है: “अपने रब से मु’आफि मांगो, वो बहुत बख़्शने वाला है”|

सुरत अल-नूह आयत #10

2. अस्तग़फार अज़ाब से बचाती है

अल्लाह त’आला क़ुर’आन में फरमाता है:

” और अल्लाह उनको अज़ाब नही देंगे जब तक वो मग़फिरत तलब करते रहेंगे”|

सूरत अल-अनफ़ाल आयत #33

3. बुराईयों को अल्लाह नेकियों में बदल देगा

अल्लाह त’आला क़ुर’आन में फरमाता है:

“जिस शख्स ने तौबाह की और इमान कुबूल किया और नेक काम किये तो उन लोगों की बुराईयों को अल्लाह नेकियों से बदल देगा और अल्लाह तो बड़ा बख़्शने वाला मेहेरबान है”.

सूरत अल-फ़ुरक़ान आयत #70

अस्तग़फार की दुआएं

अस्तग़फार की दुआ जो हदीस से साबित है यहाँ हम पेश करेंगे। और इनकी फज़ीलत-ओ-बरकत से अल्लाह त’आला आपकी बख़्शिश फरमा देगा बा-शरते आपने दिल से तौबा की दुआ की हो और अपने गुनाहों पर शरमिंदा हो।

अस्तगफार की दुआ #1

“अस्तग़फिरुल्लाह, अस्तग़फिरुल्लाह, अस्तग़फिरुल्लाह”

“मैं अल्लाह से मु’आफी मांगता हूँ”|

सहीह मुस्लिम: #1316 – #1337

आप ﷺ जब भी नमाज़ पढ़ कर सलाम फेरते तो एक मरतबा अल्लाहु अकबर और तीन (3) मरतबा “अस्तग़फीरुल्लाह, अस्तग़फीरुल्लाह, अस्तग़फीरुल्लाह” पढ़ा करते।

यहाँ→ रब्बना तुज़िग़ क़ुलूबना दुआ देखिए|

अस्तग़फार की दुआ #2

ये दुआ ऊपर रोमन में पढ़िए

“मैं अल्लाह से माफ़ी मांगता हूँ जो मेरा रब्ब है, अपने हर उस गुनाह से जो मैंने जान बूझकर किया या भूल कर किया, छुप कर किया या ज़ाहिरन किया| और मैं उसकी बारगाह में तौबा करता हूँ उस गुनाह से जिसको मैं जानता हूँ और उस गुनाह से भी मैं जिसको नहीं जानता| ऐ अल्लाह बेशक तू ग़ाइबो को जानने वाला है और ‘ऐबों को छुपाने वाला और गुनाहों को बख़्शने वाला है| और गुनाह से बचने की ताक़त और नेकी करने की क़ूव्वत नहीं मगर अल्लाह की मदद से जो बहुत बुलन्द अज़मत वाला हैं”|

अस्तग़फार की दुआ #3

“अस्तग़-फिरुल्लाह अल-लज़ी ला इलाहा इल्ला हुवल-हय्यूल क़य्यूमु वा अतुबु इ-लैह”।

तर्जुमा:”मै मगफिरत मांगता हूँ अल्लाह से जिसके सिवा कोई म’अबूद बर’हक़ नही है जो ज़िंदा है और हर चीज़ का निगाहबान है और मै इसी की तरफ रूज’ऊ करता हूँ”।

सुनन अबू दावूद हदीस #1517

अस्तग़फार की दुआ #4

” अस्तग़-फ़िरुल्लाहे रब्बी मिन कुल्ली ज़म्बि-यू वा अतू-बु इ-लैह”

“मैं अल्लाह त’आला से गुनाहों की माफी चाहता हूँ जो मेरा रब है, जिसकी तरफ मुझे लौटकर जाना है”।

आप चाहें सैय्यद-उल-अस्तग़फ़ार का विर्द भी कर सकते है जो दुआओं की मु’आफी के दु’आ का सरदार (लीडर) है।

अस्तग़फ़ार यानी गुनाहों की मु’अफी की दुआ के लिए अस्तग़फ़ार की दुआ में कोई भी एक दुआ को आप सोने से ठीक पहले दस (10) मरतबा पढ़ कर सोयें।

अगर आप चाहते तो पूरे दिन में जितना ज़्यादा चाहे उतनी बार पढ़ सकते है। हर नमाज़ के बाद भी इन दु’आओं में से कोई भी एक दुआ या सारी दुआ भी आप पढ़ सकते है।

और फिर गुनाहों से परहेज़ करने का अ’हद कर के मु’आफि की दुआ अपने लफ़्ज़ों में भी कीजिये।

इंशा अल्लाह तमाम गुनाहों से मु’आफि मिल जायेगी, अमीन।

इंशा अल्लाह आपके गुनाह मु’आफि हो जायेंगे, अमीन।

या फिर आप चाहें तो पूरे दिन भर में कम से कम एक सौ (100) मरतबा रोज़ाना अस्तग़फ़ार की जो उपर दी हुई दुआ है उसमे से कोई भी एक दुआ पढ़िये या सारी दुआयें भी पढ़ सकते है।

इन दुआओं को अपने तमाम सगीरा कबीरा गुनाहों की मु’आफि की निय्यत से विर्द कीजिये।और कभी ये गुनाह जिंदगी में न दोहराने का वादा कीजिये।

इंशा अल्लाह आपके तमाम गुनाह मु’आफि हो जायेंगे, चाहे माज़ी में अपने कितने ही बड़े गुनाह क्यों न किये हो।

अल्लाह त’आला से हमेशा मु’आफि की उम्मीद रखिये वो र’हमान है वो गफूरूर र’हीम है। आपके गुनाहों से कई मरतबा ज़्यादा अल्लाह की रहमत है, बेशक। वो तौबा करने वालों को पसंद करता है।

दुआ #5 सय्यद-उल-अस्तग़फार

सय्यद-उल-अस्तग़फार यानी अस्तग़फार में सबसे अज़ीम और उनकी सरगाना सादर दुआ है। ये हदीस-ए-मुबारिका से साबित भी है।

शद्दाद बिन औस र. अ. ने फरमाया:

नबी-ए-करीम ﷺ ने इरशाद फरमाया:

सबसे बेहतरीन दुआ मगफ़िरत मांगने के लिए (सय्यद-उल-इस्तग़फ़ार) कहना है:

सहीह अल-बुखारी, हदीस #318, बुक #75

अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आइ तो सदक़ा-ए-जारिया और अल्लाह त’आला से नेकियाँ पाने की निय्यत से अपने प्यारों को ज़रूर शेयर कीजिये।

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

Apne sawal yahan puchiye!