ALLAH Ko Razi Karne Ki Dua

September 10th, 2022

Kitna khushnaseeb hai wo musalmaan jisne ALLAH ko razi karne ka socha. To aise hi emaan walon ke liye ye ALLAH ko razi karne ki dua hai. Jiske bare mein tafseel se is post aage baat hogi.

ALLAH Ko Razi Karne Ki Dua

Koyi khas shaskh agar aapse naraz ho jaye to kya aapko bechaini nahi hoti?

Hoti hai na?

Use manane ke liye aap kya kuch nahi karte. Har wo mumkin koshish karte hai jisse wo khas insan apse khush ho jaye.

Har koyi kisi na kisi ko razi karne mein laga hai. Miyan ko apni biwi ki narazgi ki fikar mein hai. Mulazim apne malik ko khush karna chahta hai.

Log unlogon se banane mein lage hai jinse unhe fayeda hai. Jo audhe mein bade hai. Lekin kabhi yeh socha hai ke agar ALLAH Ta’ala apse naraz ho jaye to kya hoga?

Kabhi yeh fikr huyi hai ke jisne ham sabko banaya, pure qayanat ko sirf 6 dino mein banaya, is pure qayanat ka malik-o-khaliq agar wo naraz ho gaya to kya hoga? Aur kaise use manaya jaye?

Agar socha hai to khush ho jayiye. Kyunki isi ghauron fikar mein ALLAH ki raza chhupi huyi hai.

Jo ALLAH se darta hai asal mein wahi ALLAH ko razi karta hai.

Jisne ALLAH Subhan Wa Ta’ala se muhabbat ki hogi, use hi ALLAH paak ki raza aur narazgi ki fikar lagi rahti hai.

Wo jo bhi kaam karta hai uske dil mein har waqt yeh khayal zarur ata hai. Kya mere is kaam se mera Rab mujhse khush ho raha hoga. Kahin isme uski narazgi to nahi chhupi? Uska dil isi bat ko sabse pahle tawajjoh deta hai.

Sach janiye to isi fikar mein momin ki bhalayi hai, ke wo ALLAH ki khushnoodi ke bare mein sochta hai aur isi me fikarmand rahta hai.

ALLAH Pak aise hi logo ko dekh kar razi hota hai. Aur farishton se us insan ka zikr bhi karta hai. Yaqeen maniye farishton ki majlis mein usi ka charcha aam hota hai. Apas mein sargoshi hone lagti hai.

ALLAH Se Taalluq Banana

Kabhi ALLAH paak se ta’alluq banane ki koshish ki jo shehenshahon ka shehenshah adshahon ka badshah hai?

Agar aap kisi ins yani insan ko bar-bar lagatar har chhoti-chhoti baat karte rahenge to ek waqt esa ayega ke wo bhi aapse ukta jayega.

Lekin ALLAH Pak apne pyare bandon ki har ek chhoti se chhoti baat bhi sunna pasand karta hai. Sawal bas uske parhezgar aur muttaqi hone ka hai.

Lekin hamara Rab ek dafa mein sare jahan ke logon ki sari duayen sun leta hai. Yahi to uski qudrat hai jo insan ke dil-o-dimagh ki soch mein nahi samati.

Mangna hai to usse mango jiske khazane mein kisi chiz ki kami nahi hai. Jo mangne par khush aur na mangne par naraz hota hai. Dua hi to momin ka hathiyar hai.

To naa mang kar apne Rab ko naraz kyun karen?

Apne ALLAH Ko Razi kaise Kiya Jaye?

Sabse pehle apne tamam gunahon se taubah karein. Dil hi dil mein apne gunahon ke liye sharmindagi zahir karein.Use kabhi nahi karne ka ALLAH Jalla Jalaaluhu se ahad karen.

Yeh sare zameen-o-asmaan ALLAH se kehte hai ke “aye ALLAH Tu kahe to in gunahagaaro ko halaaq kardun”.

Lekin ALLAH Pak ko to bas hamari sachchi taubah ka intezaar hota hai.

Subhan ALLAH, kya aapko naaz nahi hota ke ALLAH Rabbul ‘Izzat apki taubah ke intezaar mein hai?

To us Ghafoorur-Raheem ko kyon intezar karwate hai.

Ro lo uske samne jisko haqiqat mein tumhare ansuon ki qadar hai.

ALLAH Ko Qurbani Pasand Hai

ALLAH Azzawajal ko khush karne ke liye sabse pahle un chizon ki qurbani deni padegi jo apki pasandida hai. Aur ALLAH Pak ko napasand.

Tawbah Ka Darwaza Khula Hai

Ek waqiya hai:

Ek dafa Hazrat Moosa ‘AlayhisSalaam ke zamane mein qahat saali parhi yani sookha, barish nahi ho rahi thi.

To Moosa ‘AlayhisSalaam apni qaum ke logo ko le kar ALLAH ke samne dua ke liye khade ho gaye, dhoop aur tez ho gayi.

Phir ALLAH ne farmaya “Aye Moosa yeh jo log khade hai unme se ek insan 40 saalo se mera nafarmaan hai. Use nikalne ko keh, to barish ho jayegi.

Tab Hazrat Moosa ‘AlayhisSalaam ne awaz lagayi aur kaha tum me se jo bhi ALLAH ka nafarmaan raha hai, wo safah se nikal jaye.

Wo insan ghabra gaya aage dekha, pichhe dekha, dayen dekha, bayen dekha koyi nahi nikla.

Phir usne dil hi dil mein ALLAH ko pukaara aur fariyad ki “Aye ALLAH mai tera nafarmaan raha hun, aj meri izzat bacha le mai apne gunahon se taubah karta hun”.

Achanak zor dar barish hone lagi.

Phir Hazrat Moosa ‘AlayhisSalaam ne ALLAH se puccha “Ya ALLAH koyi bhi is safah se nahi nikla phir bhi barish ho gayi?

Phir ALLAH ne farmaya “mere us nafarmaan bande ne taubah ke sath mujhse sulah kar li.

Usi ke sabab ye qahatsaali hui aur ab usi ki tauba ke sabab maine barish ‘ata farmayi!

Phir Hazrat Moosa ‘AlayhisSalaam ne puchha

“Wo shakhs kaun tha?”

ALLAH ne farmaya “jab nafarmaan tha tab beparda nahi kiya, ab wo mera dost ho gaya, ab kaise beparda kardun”. Subhan ALLAH!

Usne ALLAH se muhabbat mein aa kar taubah nahi ki aur na hi apne gunahon ke pachtawe mein aa kar taubah ki.

Balki usne to apni izzat bachane ke liye ALLAH ke aage apne gunahon ko dubara na duhrane ka ahad kiya aur taubah ki.

Phir bhi ALLAH Ta’ala ne uski fariyadrasi ki aur usko beparda kiye bina hi barish kardi.

Isliye astaghfaar ki kasrat ke sath tawbah kiya karein. Jab bhi koyi gunah ho jaye jane ya anjane mein fauran taubah karein. ALLAH Ta’ala ke samne hazir ho jaye aur ro-ro kar apne qalb yani dil ko dhokar saaf kar lijiye.

  • Haraam Rishta dhire-dhire apke imaan ko khokhla kar deta hai.

Isliye sirf wahi rishta banaye jisme ALLAH ki khushnudi ho.

  • ALLAH ki makhlooq ke sath hamesha narmi ka ikhtiyar karein. Apne akhlaq ko shafqat wala rakhein. Kisi ka dil na dukhaye.
  • Halaal rizq kamaye aur khaye. Koyi aisa kaam na karein jo apke rizq ko haraam bana de.
  • Har muamle mein ALLAH ki madad mange. Yaha tak apke ghar namak bhi khatm ho to ALLAH se mange. Jis qadar Hazrat ‘Isa A.S. ALLAH Pak se manga karte the. Iska zikr Surah Al-Maidah ki ayat number 114 mein hai. Fir dekhiyega ALLAH kaise apke liye hazaron madadgaar bhej denge. Yahan Har Tarah Ki Khujli Door Karne Ki Dua dekhiye!
  • Musibat mein sabr karein. ALLAH paak apne pyare bando ko azamata hai. Har tarah se azmata hai. Isliye musibat me sabr se kaam len aur ALLAH Ta’ala ke darwaze par dastak dete rahe.
  • Jis bhi haal mein rahein hamesha ALLAH paak ka shukar ada karte rahe. Kabhi na shukri na karein ap nahi jante apke haq mein kya bahter hai. Lekin ALLAH Ta’ala khoob janne wala hai ke apko kya, kab aur kitna dena hai. Yahan ALLAHumma A’inni Ala Zikrika Wa Shukrika dekhiye!
  • Agar ALLAH ki narazgi se bachna hai to sadaqah dete rahe. Sadaqah dene se ALLAH paak ka ghazab (ghussa) thanda hota hai. ALLAH Pak ka ghazab uski rahma par ghalib hai.
  • Nifli ibadatin se bhi Rabbul Alamin se nazdiki rishta joda ja sakta hai.
  • Ek muttaqi parhezgar momin hi ALLAH ko razi karta hai. Isliye har chiz mein pahezgari karein namehram se pardah karein chahe wo mard ho ya aurat apne izzat-o-aabruh ki hifazat har musalmaan ka farz hai.
  • ALLAH Pak ke nek bandon ne apne upar halal ko bhi haram bana liya. Yani ALLAH Pak ki wahi n’emat ko istimal mein liya jiski zindagi jeene mein zarurat thi. Mitti ke kachche gharon mein apni zindagiyan guzar di. Apne pas koi sarmaya nahi rakha.

ALLAH Ko Razi Karne Ki Dua Padhne Ka Tareeqa

Yeh dua aap jab mann chahe padh sakte hai. Chahen to har namaz ke baad jitni bhi t’aadaad mein padhlen. Sawab mein izafah hi hoga Insha ALLAH.

ALLAH Ko Razi Karne Ki Dua

ALLAH Ko Razi Karne Aur Narazgi Se Bachne Ki Dua

اللَّهُمَّ إِنِّي أَعُوذُ بِرِضَاكَ مِنْ سَخَطِكَ، وَبِمُعَافَاتِكَ مِنْ عُقُوبَتِكَ، وأَعُوذُ بِكَ مِنْكَ، لَا أُحْصِي ثَنَاءً عَلَيْكَ، أَنْتَ كَمَا أَثْنَيْتَ عَلَى نَفْسِكَ

Allaahumma ‘innee ‘a’oothu biridhaaka min sakhatika, wa bimu’aafaatika min ‘uqoobatika, wa ‘a’oothu bika minka, laa ‘uhsee thanaa’an ‘alayka, ‘Anta kamaa ‘athnayta ‘alaa nafsika

xxxxxxx

O Allah, I seek refuge with Your Pleasure from Your anger. I seek refuge in Your forgiveness from Your punishment. I seek refuge in You from You. I cannot count Your praises, You are as You have praised Yourself

Ae ALLAH! Main TERI Razamandi Ke Zariye TERI Narazi Se Panah Mangta Hun, Aur TERI M’afi Ke Zariye TERI Sazaon Se Panah Mangta Hun, Aur TERE Raham-o-Karam Ke Zariye TERE Ghaiz-o-Ghazab Se Panah Mangta Hun, Main TERI ‘Hamd-o-Sana Ko Shumar Nahi Kar Sakta, TU Wesa Hai Jaisa Ki TUNE Khud Apni T’areef Ki Hai.

Abu Dawud, Ibn Majah, An-Nasa’i, At-Tirmizi, Ahmad.

See Al-Albani, Saheeh At-Tirmizi 3/180, Saheeh Ibn Majah 1/194, and ‘Irwa’ul-Ghalil. 2/ 175.

ALLAH Ki Narazgi Mein Hi Raza Chhupi Hai

Kuch log yeh samajhte hai ke unki zindagi dukhon bhari isliye hai kyunki ALLAH unse naraz hai.

Lekin yeh soch lena ke ALLAH mujhse khafa hai isliye etni musibatein aa rahi hai. Ye hamesha sahi nahi hota. Baaz auqat ALLAH apne pyare bandon ka sakht imtihan liya karta hai. Kyonke maine ye bhi parha hai ke ALLAH Pak farmata hai. Kya tumhe lagta hai ke jannat tumhe asani se mil jayegi. Yahan Miswak Ke 70 Fayde dekhiye!

Jitna ALLAH Pak se muhabbat karoge jitna ALLAH Pak ke qareeb jaoge is zindagi mein imtihan utna hi sakht hote chale jayega. ALLAH Ta’ala ki dosti yuhi kisi ko hasil nahi hoti. Janna hai to parho un ALLAH ke waliyon ke bare me jinhone sakht se sakht imtihan bhi diye. Magar haq ki raah nahi chhodi.

ALLAH Pak jinse naraz ho jata hai unse sajde ki taufeeq chheen leta hai aur unhe duniya mein hi maal-o-daulat dekar uljhaye rakhta hai.

Jinse ALLAH Pak razi hota hai unhe apne aage jhukne ki aur khud se lau lagane ki jaddo jahad mein mashgool kar deta hai. Phir wo raat ko qayaam karte hai jabki poori duniya soti rahti hai.

ALLAH Kab Khush Hota Hai?

ALLAH khush hota hai to duniya aur akhirat dono sawar jati hai. Yaha tak ke qabr mein bhi ALLAH Ta’ala ki raza sukoon ka bayis ban jati hai.

Haalhi mein ek waqyah pesh aya jiski khabar akhbaron ki surkhiyan ban chuki thi.

Maharashtra ke Pusad Tahseel ke Wanwarla gaon mein rahne wali aurat (Haleema Bi Sheikh Haneef) jo khud Qur’an ki tilawat karti thi, sath hi ghareeb bachcho ko Qur’an padhati thi. Jiske wo paise bhi nahi liya karti thi.

Yeh hi nahi gaon mein jab kisi aurat ka inteqal hota tha tab Islami taur tariqe ke sath ghusl karwati thi.

Unka inteqal 14 April 2014 mein hua tha. Abhi isi hafte kisi shakhs ke inteqal par uski qabr khodte huye unke (Haleema Bi Sheikh Haneef) ke qabr me roshni nazar ayi. Yahan dekhiye! Cheenk Aane Ke Baad Ki Dua

Tab logo ne mitti hata kar dekha to qafan par mamuli mitti lagi huyi thi baki jism waise ka waisa hi tha. Na kafan ka kuch bigda na jism ka. Jabki dafnaye 8 saal 4 mahine se bhi zyada ho chuke the.

Phir logo ne dubara dafna diya. Aur hairat ka mahaul ban gaya.

Log yeh soch-soch hairan ho rahe the ke 8 saalon mein unke jism ka ek hissa bhi nahi gala. Yaha tak ke unke jism par jo kafan thi wo bhi sahi salamat thi. Subhan ALLAH.

Aisa hi hota hai jab ALLAH apne bando se razi hota hai. Use duniya mein bhi mutma’een rakhta hai. Qabr mein bhi apne noor phaila deta hai.

Insha ALLAH, akhirat mein bhi bahtareen sila dene wala hai. Beshaq ALLAH apne bando ko ummeed se badh kar dene wala hai.

Apni Akhirat Banaye! Sawab Kamaye! Apno Tak Pahunchaye! Share Karen!

Agar apko post pasand aye to apno se share zarur kijiyega.

अल्लाह को राज़ी करने की दुआ

कितना ख़ुशनसीब है वो मुसलमान जिसने अल्लाह को राज़ी करने का सोचा। तो ऐसे ही इमान वालों के लिए ये अल्लाह को राज़ी करने की दुआ है। जिसके बारे में तफ़्सील से इस पोस्ट में आगे बात होगी। यहाँ शादी के लिए राज़ी करने की दुआ देखिए|

अल्लाह को राज़ी करने की दुआ

कोई ख़ास इंसान अगर आपसे नाराज़ हो जाए तो क्या आपको बेचैनी नही होती?

होती है न?

उसे मनाने के लिए आप क्या कुछ नही करते। हर वो मुमकिन कोशिश करते है जिससे वो खास इंसान आपसे खुश हो जाए।

हर कोई किसी न किसी को राज़ी करने में लगा है। मियाँ को अपनी बीवी की नाराज़गी की फ़िकर में है। मुलाज़िम अपने मालिक को खुश करने चाहते है।

लोग उन लोगों से बनाने में लगे है जिनसे उन्हे फायेदा है। जो औहदो में बड़े है। लेकिन कभी ये सोचा है के अगर अल्लाह त’आला आपसे नाराज़ हो जाए तो क्या होगा?

कभी ये फ़िक्र हुई है जिसने हम सबको बनाया, पूरे क़ायनात को सिर्फ 6 दिनों में बनाया, इस पूरे क़ायनात का मालिक-ओ-ख़ालिक़ अगर वो नाराज़ हो गया तो क्या होगा? और कैसे उसे मनाये जाए?

अगर सोचा है तो खुश हो जाइये। क्योंकि इसी फ़िक्र में अल्लाह की रज़ा छुपी हुई है।

जो अल्लाह से डरता है असल में वही अल्लाह को राज़ी करता है। यहाँ दूध पीने की दुआ देखिए|

जिसने अल्लाह सुबहानहु व-त’आला से मुहब्बत की होगी, उसे ही अल्लाह पाक की रज़ा और नाराज़गी की फ़िकर लगी रहती है।

वो जो भी काम करता है उसके दिल में हर वक़्त ये ख़्याल ज़रूर आता है। क्या मेरे इस काम से मेरा रब मूझसे खुश हो रहा होगा? कहीं इसमे उसकी नाराज़गी तो नही छुपी? उसका दिल इसी बात को सबसे पहले तवज्जोह देता है।

सच जानिए तो इसी फ़िक्र में मोमिन की भलाई है, के वो अल्लाह की खुशनूदि के बारे में सोचता है और इसी में फ़िक्रमन्द रहता है।

अल्लाह पाक ऐसे ही लोगो को देख कर राज़ी होता है। और फरिश्तों से उस इंसान का ज़िक्र भी करता है। यक़ीन मानिये फरिश्तों की मजलिस में उसी का चर्चा आम होता है। आपस में सरगोशी होने लगती है।

अल्लाह से त’आल्लुक़ बनाना

कभी अल्लाह पाक से त’आल्लुक़ बनाने की कोशिश की जो शहनशाहों का शहनशाह और बादशाहों का बादशाह है?

अगर आप किसी किसी इंसान को बार-बार लगातार हर छोटी-छोटी बात परेशान करते रहेंगे तो एक वक़्त ऐसा आयेगा के वो भी आपसे उखड़ जायेगा। लेकिन अल्लाह पाक अपने प्यारे बंदों की हर एक छोटी से छोटी बात भी सुन्ना पसंद करता है। सवाल बस उसके परहेज़गार और मुत्तक़ि होने का है।

लेकिन हमारा रब एक दफा में सारे जगह के लोगों की सारी दुआएं सुन लेता है। यही तो उसकी क़ुदरत है जो इंसान के दिल-ओ-दिमाग़ की सोच में नही समाती।

मांगना है तो उससे मांगो जिसे खज़ाने में किसी चीज़ की कमी नही है। जो मांगने पर खुश और न मांगने पर नाराज़ होता है। दुआ ही तो मोमिन का हथियार है।

तो ना मांग कर अपने रब को नाराज़ क्यों करें? यहाँ मिस्वाक के 70 फायदे  देखिए|

अपने अल्लाह राज़ी कैसे किया जाए?

सबसे पहले अपने तमाम गुनाहों से तौबाह् करें। दिल ही दिल में अपने गुनाहों के लिएर शर्मिंदगी ज़ाहिर करें। उसे कभी नही करने का अल्लाह से अहद करें।

यह सारे ज़मीन और आसमान अल्लाह से कहते है के “ऐ अल्लाह तू कहे तो इन गुनाहगारों को हलाक़ कर दूँ”।

लेकिन अल्लाह पाक को तो बस हमारी सच्ची तौबाह् का इंतज़ार होता है।

सुबहान अल्लाह, क्या आपको नाज़ नही होता के अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त आपकी तौबाह् के इंतज़ार में है?

तो उस ग़फुरुर-रहीम को क्यों इंतज़ार करवाते है।

रो लो उसके सामने जिसको हक़ीक़त में तुम्हारे आंसुओं की क़दर है।

अल्लाह को क़ुरबानी पसंद है

अल्लाह सुबहानहु व-त’आला को खुश करने के लिए सबसे पहले उन चीजों की क़ुरबानी देनी पड़ेगी जो आपकी पसंदीदा है। और अल्लाह पाक को नापसंद।

तौबाह् का दरवाज़ा खुला है।

एक वाक़िया है:

एक दफा हज़रत मूसा ‘अलयहिस् सलाम के ज़माने में क़हत् साली पढ़ी यानी सूखा, बारिश नही हो रही थी।

तो मूसा ‘अलयहिस् सलाम अपनी क़ौम के लोगो को ले कर अल्लाह के सामने दुआ के लिए खड़े हो गए, धूप और तेज़ हो गयी।

फिर अल्लाह ने फरमाया “ऐ मूसा यह जो लोग खड़े है उनमे से एक इंसान 40 सालों से मेरा नाफ़रमान है। उसे निकलने को कह, तो बारिश हो जायेगी।

तब हज़रत मूसा ‘अलयहिस सलाम ने आवाज़ लगाई और कहा तुम मे से जो भी अल्लाह का नाफ़रमान रहा है, वो सफ़ेह से निकल जाए। वो इंसान घबरा गया आगे देखा, पीछे देखा, दाएं देखा बाएँ देखा कोई नही निकला।

फिर उसने दिल ही दिल में अल्लाह को पुकारा और फरियाद की “ऐ अल्लाह मैं तेरा नाफ़रमान रहा हूँ, आज मेरी इज़्ज़त बचा ले मैं अपने गुनाहों से तौबाह् करता हूँ”।

अचानक ज़ोर दार बारिश होने लगी।

फिर हज़रत मूसा ‘अलयहिस् सलाम ने अल्लाह से पूछा “या अल्लाह कोई भी इस सफ़ेह से नही निकला फिर भी बारिश हो गयी?

फिर अल्लाह ने फरमाया “मेरे उस नाफ़रमान बंदे ने तौबाह के साथ मुझे दुलाह कर ली।

उसी के सबब ये क़हत् साली और अब उसी की तौबाह् के सबब मैंने बारिश ‘अता फरमयी।

फिर हज़रत मूसा ‘अलयहिस् सलाम ने पूछा ” वो शख़्स कौन था?”

अल्लाह ने फरमाया “जब नाफ़रमान था तब बेपरदा नही किया, अब वो मेरा दोस्त हो गया, अब कैसे बेपरदा करदूँ”, सुबहान अल्लाह

उसने अल्लाह से मुहब्बत में आ कर तौबाह् नही की और न ही अपने गुनाहों के पछ्तावे में आ कर तौबाह् की।

बल्कि उसने तो अपनी इज़्ज़त बचाने के लिए अल्लाह के आगे अपने गुनाहों को दुबारा न दुहराने का अहद किया और तौबाह् की।

फिर भी अल्लाह त’आला ने उसकी फरियादरासि की और उसको बेपरदा किये बिना ही बारिश करदी।

इसलिए अस्तग़फ़ार की कसरत के साथ तौबाह् किया करें। जब भी कोई गुनाह हो जाए जाने या अंजाने में फ़ौरन तौबाह् करें। अल्लाह त’आला के सामने हाज़िर हो जाए और रो-रो कर अपने क़ल्ब यानी दिल को धोकर साफ कर लीजिये।

हराम रिश्ता धीरे-धीरे आपके ईमान को खोखला कर देता है।

इसलिए सिर्फ वही रिश्ता बनाये जिसमे अल्लाह की खुशनूदि हो।

अल्लाह की मख़लूक़ के साथ हमेशा नर्मी का इख़्तियार करें। अपने अख़लाक़ को शफक़त वाला रखें। किसी का दिल न दुखाये|

हलाल रिज़्क़ कमाए और खाये।

हर मु’आमले में अल्लाह की मदद मांगे। यहाँ तक के आपके घर में नामक भी ख़तम हो तो अल्लाह से मांगे। जिस क़दर हज़रत ‘ईसा आ. स. अल्लाह पाक से मंगा करते थे। इसका ज़िक्र सूरह अल-मैदाह की आयात नम्बर 114 में है।

फिर देखिये अल्लाह कैसे आपके लिए हज़ारों मददग़ार भेज देंगे। यहाँ ग़ुस्ल करने की दुआ और निय्यत  देखिए|

मुसीबत में सब्र करें। अल्लाह पाक अपने प्यारे बंदो को अज़माता है। हर तरह से आज़माता है। इसलिए मुसीबत में सब्र से काम लें और अल्लाह त’आला के दरवाज़े पर दस्तक देते रहे।

जिस भी हाल में रहें हमेशा अल्लाह पाक का शुकर अदा करते रहे। कभी नशुक्री न करे। आप नही जानते आपके हक़ में का बहतर है। लेकिन अल्लाह त’आला खूब जानने वाला है के आपको क्या, कब और कितना देना है।

अगर अल्लाह की नाराज़गी से बचना है तो सदक़ाह देने से अल्लाह पाक का ग़ज़ब (ग़ुस्सा) ठंडा होता है। अल्लाह पाक का ग़ज़ब उसकी रहम पर ग़ालिब है।

निफ्लि इबादत से भी रब्बुल ‘आलामिन से नज़दीकी रिश्ता जोड़ा जा सकता है।

एक मुत्तक़ि परहेज़ग़ार मोमिन ही अल्लाह को राज़ी करता है। इसलिए हर चीज़ में परहेज़गंरी करें नामेहरम् से पर्दा करें चाहे वो मर्द हो या औरत अपने इज़्ज़त-ओ-आबरू की हिफाज़त हर मुसलमान का फ़र्ज़ है।

अल्लाह पाक के नेक बंदो ने अपने उपर हलाल को भी हराम बना लिया। यानी अल्लाह पाक की वही न’एमत को इस्तिमाल मे लिया जिसकी जिंदगी जीने में ज़रूरत थी। मिट्टी के कच्चे घरों में अपनी ज़िंदगिया गुज़ार दी। अपने पास कोई सरमाया नही रखा|

अल्लाह को राज़ी करने की दुआ पढ़ने का तरीक़ा

यह दुआ आप जब मन चाहे पढ़ सकते है। चाहें तो हर नमाज़ के बाद जितनी भी त’आदाद में पढलें। सवाब में इज़ाफह ही होगा इंशा अल्लाह

अल्लाह को राज़ी करने और नाराज़गी से बचने की दुआ

اللَّهُمَّ إِنِّي أَعُوذُ بِرِضَاكَ مِنْ سَخَطِكَ، وَبِمُعَافَاتِكَ مِنْ عُقُوبَتِكَ، وأَعُوذُ بِكَ مِنْكَ، لَا أُحْصِي ثَنَاءً عَلَيْكَ، أَنْتَ كَمَا أَثْنَيْتَ عَلَى نَفْسِكَ
तर्जुमा:

ऐ अल्लाह! मैं तेरी रज़ामन्दी के ज़रिये तेरी नाराज़ी से पनाह मांगता हूँ, और तेरी म’आफी के ज़रिये तेरी सज़ाओं से पनाह मांगता हूँ, और तेरे रहम-ओ-करम के ज़रिये तेरे ग़ैज़-ओ-ग़ज़ब से पनाह मांगता हूँ, मैं तेरी ‘हम्द-ओ-सना को शुमार नहीं कर सकता, तू वैसा है जैसा की तूने खुद अपनी ता’अ-रीफ की है|

हवाला:
अदू दावूद, इब्न माजह, अन-नसा’इ, अत-तिर्मिथि, अहमद।
अल-अल्बानी, सहीह इब्न माजह 1/194, और ‘इरवा’उल-ग़लील। 2/ 175

अल्लाह की नाराज़गी में ही रज़ा छुपी है

कुछ लोग ये समझते है के उनकी जिंदगी दुखों भरी इसलिए है क्योंकि अल्लाह उनसे नाराज़ है। लेकिन ये सोच लेना के अल्लाह मुझे ख़फ़ा है इसलिए इतनी मुसीबतें आ रही है।

ये हमेशा सही नही होता। बाज़ औक़ात अल्लाह अपने प्यारे बंदों का सख़्त इम्तिहान लिया करता है। क्योंकि मैंने ये भी पढ़ा है के अल्लाह पाक फरमाता है। क्या तुम्हे लगता है के जन्नत तुम्हे आसानी से मिल जायेगी।

जितना अल्लाह पाक से मुहब्बत करोगे जितना अल्लाह पाक के क़रीब जाओगे और जिंदगी में इम्तिहान उतना ही सख़्त होते चला जायेगा। अल्लाह त’आला की दोस्ती युही किसी को हासिल नही होती। जानना है तो पढ़ो उन अल्लाह के वलियों के बारे में जिन्होंने सख़्त से सख़्त इम्तिहान भी दिये। मगर हक़ की राह नही छोड़ी।

अल्लाह पाक जिनसे नाराज़ हो जाता है उनसे सजदे की तौफीक़ छीन लेता है और उन्हे दुनिया में ही माल-ओ-दौलत देकर उलझाए रखता है।

जिनसे अल्लाह पाक राज़ी होता है उन्हे अपने आगे झुकने की और ख़ुद से लौ लगाने की जददो जहद में मशरूफ कर देता है। फिर वो रात को क़याम करते है जबकि पूरी दुनिया सोती रहती है। यहाँ इसाल-ए-सवाब का तरीक़ा और फ़ज़ीलत देखिए|

अल्लाह कब खुश होता है?

अल्लाह पाक अपने जिस बन्दे से खुश होता है तो उसकी दुनिया और आख़िरत् दोनो सवर जाती है। यहाँ तक के क़ब्र में भी अल्लाह त’आला की रज़ा सुकून का बाईस बन जाती है।

हालही में एक वाक़्या पेश आया जिसकी ख़बर अख़बारों की सुर्खियां बन चुकी थी।

महारास्ट्र के पुसाद तहसील के वनवर्ला गाँव में रहने वाली औरत (हलीमा बी शेख़ हनीफ) जो खुद कुरान की तिलावत करती थी, साथ ही ग़रीब बच्चों को कुरान पढ़ाती थी। जिसके वो पैसे भी नही लिया करती थी।।

यह ही नही गाँव में जब किसी औरत का इंतेक़ाल होता था तब इस्लामी तौर तरीक़े के साथ ग़ुस्ल करवाती थी।

उनका इंतेक़ाल 14 अप्रिल 2014 में हुआ था। अभी इसी हफ्ते किसी शख़्स के इंतेक़ाल पर उसकी क़ब्र खोदते हुए उनका (हलीमा बी) के क़ब्र मे रौशनी नज़र आये।

तब लोगो ने मिट्टी हटा कर देखा तो कफन पर मामूली मिट्टी लगी हुई थी बाकी जिस्म वैसे का वैसा ही था। न कफन का कुछ बिगडा न जिस्म का। जबकि दफनाए 8 साल 4 महीने से भी ज़्यादा हो चुके थे।

फिर लोगो ने दुबारा दफना दिया, और हैरत का माहौल बन गया।

लोग ये सोच-सोच कर हैरान हो रहे थे के 8 सालों में उनका जिस्म का एक हिस्सा भी नही गला, यहाँ तक के उनके जिस्म पर जो कफन थी वो भी सही सलामत थी। सुभान अल्लाह

ऐसा ही होता है जब अल्लाह अपने बंदो से राज़ी होता है। उसे दुनिया में भी मुतम’ईन रखता है। क़ब्र में भी अपना नूर फैला देता है।

इंशा अल्लाह, आख़िरत् में भी बेहतरीन सिला देने वाला है। बेशक अल्लाह अपने बंदों को उम्मीद से बढ़ कर देने वाला है।

अपनी आख़िरत् बनाये, सवाब कमाए, अपनों तक पहुंचाए और शेयर करें।

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो अपनों से शेयर ज़रूर कीजियेगा।

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

4 Comments

  1. Naureen on said:

    Mera sawal ye h k men Alhumdulillah 5 times namaz prhte hu tahajud guzaar b hu lkn pata nh kyn me jo b dua me mangte hu muje nh miltaa h aisa kyn?ek br nh kae br aisa hua h k jo mnga wo nh mila mangti b pure yakin se hu Allah ki hamdo sana b krte hu astagfaar b prhte hu zyada se zyada lkn jo b mnga h eo door chlata jata h is ki waja kya hoskte h?

  2. Afrin mulla on said:

    assalamu alaikum. Plz sir PCOD ke cure liye koi dua ho toh bata dijiye. Plz it’s very badly needed.. 🙏

Apne sawal yahan puchiye!