1 to 6 Kalma in Hindi

1 to 6 Kalma in Hindi

मज़हब-ए-इस्लाम में 6 कलिमे है और इन्ही कलिमात पर एक ईमानवाले की ज़िन्दगी गुज़रती है| चलिए वो 1 से 6 कलिमे (1 to 6 Kalma in Hindi) कौन से है जानते है|

1 to 6 Kalma in Hindi | छः कलिमे हिंदी में

हदीस

“रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया जिसका आखरी कलमा ला इलाहा इल्लल्लाह हो वो जन्नत मैं दाखिल होगा।”

अबू दावूद | रियाज़ अस सालिहीन न. 917

यहाँ→Bidat Kya Hai? देखिए|

1. पहला कलिमा (तय्यब)

“ला इलाहा इल्लाह मुहम्मदुर्र-रसूलुल्लाह”

तर्जुमा

“अल्लाह के सिवा कोई म’अबूद नहीं और हज़रत मुहम्मद सलल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल है।”

हदीस

अबू सईद खुद्रि र.अ. बयान करते है के रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया:

“अपने मरने वालों को ला इलाहा इल्लल्ला पढ़ने की तलकीन करो”

मुस्लिम | रियाज़ अस सालिहीन न. 918

यहाँ→Eid Ke Din Padhne Ki Dua देखिए|

2. दूसरा कलिमा (शहादत)

“अश-हदु अंल्ला इलाहा इल्लल्लाहु वह्-दहू ला शरी-क लहू व अश हदु अन्ना मु’हम्मदन ‘अब्दुहू व रसूलुहु।”

“मैं गवाही देता हूँ के अल्लाह के सिवा कोई म’अबूद नहीं। वह अकेला है उसका कोई शरीक नहीं। और मैं गवाही देता हूँ कि (हज़रत) मुहम्मद सलल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह के नेक बन्दे और आखिरी रसूल है।”

 

हदीस

रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया

“जिस नफ्स को भी इस हाल में मौत आये की वो इस बात की गवाही देता हो की:

अल्लाह के सिवा कोई म’अबुद नही और मैं (मुहम्मद ﷺ) अल्लाह का रसूल हु और ये गवाही दिल के यकीन से हो तो अल्लाह सुभानहु उसकी मगफिरत फरमा देगा।”

सुनन इब्न माजह न. 677 | हसन

3. तीसरा कलिमा तमजीद

“सुबहानल्लाही वल हम्दु लिल्लाहि वला इलाहा इल्लल्लाहु वल्लाहु अकबर वला हौला वला क़ूव्वता इल्ला बिल्लाहिल ‘अलिय्यिल ‘अज़ीम।”

तर्जुमा

“अल्लाह पाक है और सब तारीफें अल्लाह ही के लिए है और अल्लाह के सिवा कोई म’अबूद नहीं। इबादत के लायक तो सिर्फ अल्लाह है और अल्लाह सबसे बड़ा है और किसी में न तो ताकत है न बल लेकिन ताकत और बल तो अल्लाह ही में है जो बहुत शान वाला और बड़ा है।”

4. चौथा कलिमा तौहीद

“ला इलाहा इल्ललाहू वह दहू ला शरी-क लहू लहुल मुल्कू व लहुल हम्दु युह यी व युमीतु व-हुवा हय्युल ला य-मूतु ‘अ-ब-दन ‘अ-ब-दा| ज़ुल जलाली वल इकराम| बि-यदीहिल ख़ैर| व-हुवा ‘अला कुल्लि शैय-इन क़दीर।”

यहाँ→Miswak Ke 70 Fayde देखिए|

तर्जुमा

“अल्लाह के सिवा कोई म’अबूद नहीं इबादत के लायक, वह एक है, उसका कोई साझीदार नहीं, सबकुछ उसी का है। और सारी तारीफ़ें उसी अल्लाह के लिए है। वही जिलाता है और वही मारता है। और वोह ज़िन्दा है, उसे हरगिज़ कभी मौत नहीं आएगी। वोह बड़े जलाल और बुज़ुर्गी वाला है। अल्लाह के हाथ में हर तरह कि भलाई है और वोह हर चीज़ पर क़ादिर है।”

हदीस

अबू हरैराह र.अ. से रिवायत है के रसूल अल्लाह ﷺ ने फरमाया जिस शख्स ने

“ला इलाहा इल्ललाहू वह दहू ला शरी-क लहू लहुल मुल्कू व लहुल हम्दु व-हुवा ‘अला कुल्लि शैय-इन क़दीर”

कहा उसको सौ मरतबा सवाब मिलेगा, दस बंदों को आज़ाद करने का उतना ही अज़र मिलेगा और उसके हिसाब से सौ गुनाह मिटा दिया जायेंगे और ये (उसके क़ौल) उसदिन उसके लिए शैतान से ढाल होगा, रात तक और कोई उससे बेहतर अमल नही कर सकेगा सिवाए उसके जो उससे ज़्यादा करता (पढ़ता) है।”

सहीह अल-बुखारी न. 6403

5. पांचवाँ कलिमा अस्तग़फार

“अस्तग़ फिरुल्लाहा रब्बी मिन कुल्ली ज़म्बिन अज़-नब-तुहू अ-म-दन अव ख़-त-अन सिर्रन अव ‘अला निय-तंव-व-अतूबू इलैयह मिनज़ मिनज्ज़-ज़म्बिल्लज़ी अ’अ’लमु व मिनज़ मिनज्ज़-ज़म्बिल्लज़ी ला अ’अ’लमु इन्नका अन्ता अल्लामुल ग़ुयूबी व सत्तारिल उयूबि व ग़फ्फारूज़-ज़ूनूबि वला हवला वला क़ूव्वता इल्ला बिल्लाहिल ‘अलिय्यिल ‘अज़ीम।”

तर्जुमा

“मै अपने परवरदिगार (अल्लाह) से अपने तमाम गुनाहो कि माफ़ी मांगता हुँ जो मैंने जान-बूझकर किये या भूल कर किये, छिप कर किये या खुल्ला किये और तौबा करता हूँ मैं उस गुनाह से, जो मैं जनता हूँ और उस गुनाह से जो मैं नहीं जानता। या अल्लाह बेशक़ तू गेब कि बाते जानने वाला और ऐबों को छिपाने वाला है और गुनाहो को बख्शने वाला है और (हम में) गुनाहो से बचने और नेकी करने कि ताक़त नहीं अल्लाह के बगैर जो के बहुत बुलंदि वाला है।”

6. छठा कलिमा रद्दे कुफ्र

“अल्लाहुम्मा इन्नी आ’ऊ ज़ुबिका मिन अन उशरिका बिका शय अंव- व अना अ’अ-लमु बिही व अस्तग़फिरुका लिमा ला अ’अ-लमु बिही तुब्तु ‘अन्हु वतबर्रातु मिनल कुफरी वश-शिरकी वल किज़्बी वल ग़ीबती वल बिद’अति वन्नमीमति वल-फवाहिशी वल बुहतानी वल म’आसी कुल्लिहा व अस्लमतु व आमनतु व अक़ूलू ला इलाहा इल्लल्लाहु मुहम्मदुर्र रसूलुल लाह।”

तर्जुमा

“ऐ अल्लाह बेशक मैं तेरी पनाह मांगता हूँ इस से के मैं जानते हुए किसी चीज़ को तेरा शरीक बनाऊ और बख्शीस मांगता हूँ। तुझसे उसकी जिसको मैं नहीं जानता और मैंने उस से तौबाह की और मै बेज़ार हुआ कुफ़्र से और शिर्क से और झूठ से और बोहतान से और तमाम गुनाहों से और इस्लाम लाया मैं और ईमान लाया मैं और मैं कहता हूं के अल्लाह के सिवा कोई माबूद नही मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व सलल्लम अल्लाह के प्यारे रसूल है।”

यहाँ→नूह अ.स. की दुआ देखिए|

1 to 6 Kalma In Roman

Hadees

Abu Saeed Khudri R.A. bayan karte gai ke Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya:

“Apne marne walon ko ‘Laa ILaaha iLLaLah’ padhne ki talkeen karo.”

Muslim | Riyaz As Saliheen no. 918

1. Pehla Kalima

“Laaa Ilaaha Illa-llaahu Muhammadur-Rasoolu-llaah”

Tarjuma

“ALLAH ke siwa koi ibadat ke layeq nahi, Mu’hammad ﷺ ALLAH ke Rasool hain.”

Hadees

“Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya jiska akhri kalma Laa ILaaha iLLaLLah ho wo jannat mein dakhil hoga.”

Abu Dawud | Riyaz As Saliheen no. 917

2. Dusra Kalima Shahadat

“Ash-hadu Anl-laaa Ilaaha Illa-llaahu Wahdahoo Laa Shareeka Lahoo Wa-Ash-hadu Anna Muhammadan ‘Abduhoo Wa Rasooluhu.”

Tarjuma

“Main gawaahi deta hun ke ALLAH ke siwa koi Ma’abud nahi, WO Tanha hai, USKA koi Shareek nahi, aur main gawaahi deta hun ke beshak Mu’hammad ﷺ USKE Bande aur Rasool hain.”

Yahan→Murgi Zibah Karne Ki Dua dekhiye!

Hadees

Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya

“Jis nafs ko bhi is haal mein maut aaye ki wo is baat ki gawahi deta ho ki:

ALLAH ke siwa koyi m’aabud nahi aur mai (Muhammad ﷺ) ALLAH ka rasool hun aur ye gawahi dil ke yakeen se ho to ALLAH Subhanahu uski maghfirat farma dega.”

Sunan Ibn Majah no. 677 | Hasan

3. Teesra Kalima Tamjeed

“Subhaanallaahi Walhamdu Lillaahi Walaaa Ilaaha Illallaahu WALLAHu Akbar. Walaa Hawla Walaa Quwwata Illaa Billaahil ‘Aliyyil ‘Azeem.”

Tarjuma

“ALLAH Pak hai aur sab Tareef ALLAH hi ke liye hai aur ALLAH ke siwa koi Ma’abud nahi aur ALLAH bahut Bada hai, gunaho se bachne ki taqat aur neki karne ki taufeeq ALLAH hi ki taraf se hai Jo bahut buland ‘Azmat Wala hai.”

 

4. Choutha Kalima Tauheed

“Laaa Ilaaha Illa-llaahu Wahdahoo Laa Shareeka-lahoo Lahu-l Mulku Walahu-l Hamdu Yuhyee Wayumeetu Wahuwa Hayyu-l Laa Yamootu Abadan Abada. Dhu-l Jalaali Wal Ikraam. Biyadihil Khair. Wahuwa Alaa Kulli Shai-‘in Qadeer.”

“ALLAH ke siwa koi Ma’abud nahi WO Tanha hai USKA koi Shareek nahi, USI ke liye Baadshaahi hai aur USI ke liye Tareef hai, Wahi Zindah Karta hai aur Maarta hai, Aur WO Zindah hai aur USKO hargiz kabhi maut nahi aayegi, Bade Jalaal aur Buzurgi WALA hai, USKE Haath me Bhalayi hai aur WO Har Shay par Qaadir hai.”

यहाँ→12 Rabi ul Awal Kya Hai देखिए|

Hadees

Abu Hurairah R.A. se riwayat hai ke Rasool ALLAH ﷺ ne farmaya jis shaksh ne

“La ilaha illal-lah wahdahu la sharika lahu, lahu-l-mulk wa lahul- hamd wa huwa ‘ala kulli shai’in qadir,”

Kaha usko sau martaba sawab milega, das bandon ko azaad karne ka utna hi ajar milega aur uske hisaab se sau gunah mita diye jayenge aur ye (uska qaul) usdin uske liye shaitan se dhal hoga, raat tak aur koyi usse behtar amal nahi kar sakega siwaye uske jo usse zyada karta hai.”

Saheeh Al-Bukhari no. 6403

5. Panchwa Kalima Astaghfaar

Astaghfiru-llaaha Rabbi Min Kulli Dhambin Adhnabtuhoo ‘Amadan Aw Khata-an Sirran Aw ‘Alaaniyata-wn Wa-atoobu Ilaihi Min-adh Dhambi-l Ladhee A’lamu Wamina-dh Dhambi-l Ladhi Laaa A’lamu Innaka Anta ‘Allaamu-l Ghuyoobi Wasattaaru-l ‘Uyoobi Wa Ghaffaaru-dh Dhunubi Walaa Hawla Walaa Quwwata Illaa Billaahi-l ‘Aliyyil ‘Azeem.

Tarjuma

“Main ALLAH se maafi mangta hun Jo Mera Parwardigar hai, har gunah se jo maine jaan boojh kar ya bhool kar ya chhup kar ya zahir ho kar kiya, aur main USKI Bargah me tauba karta hun us gunah se jisko main janta hun aur us gunah se jisko main nahi janta, Ae ALLAH! Beshak TU Ghaibon ka Janne WALA aur ‘Aibon ka Chhupaane WALA aur gunahon ka Bakhshane WALA hai aur gunahon se bachne ki taqat aur neki karne ki taufeeq sirf ALLAH hi ki taraf se hai, Jo Bahut Buland aur ‘Azmat WALA hai.”

6. Chatha Kalima Radd-e-Kufr

Allaa-humma Inneee A’udhu-bika Min An Ushrika Bika Shay-awn Wa-ana A’lamu Bihee Wa-astaghfiruka Limaa Laaa A’lamu Bihee Tubtu ‘Anhu Wata-barraatu Mina-l Kufri Wash-shirki Wal-kidhbi Wal-gheebati Wal-bid’ati Wan-nameemati Wal-fawahishi Wal-buhtaani Wal-m’aasi Kulli-haa Wa-Aslamtu Wa-aqoolu Laaa Ilaaha Illa-llaahu Muhammadu-r Rasoolu-llah.

Tarjuma

“Ae ALLAH! main TERI panah mangta hun is bat se ke main kisi shay ko TERA Shareek banaon jaan boojh kar aur bakhshish mangta hun TUJH se us (shirk) ki jisko main nahi janta aur maine usse taubah ki aur bezaar hua kufr se aur shirk se aur jhoot se aur gheebat se aur bid’at se aur chughli se aur behayaiyun se aur bauhtaan se aur tamam gunahon se aur main Islam laya aur main kahta hun ke ALLAH ke siwa koi ‘ibadat ke layeq nahi aur Mu’hammad ﷺ ALLAH ke Rasool hain.”

Agar aapko hamari post pasand aaye to apno se zarur share kijiyega.

Agar apko post pasand aye to apno se share zarur kijiyega.
अपने प्यारों से शेयर कर सवाब-ए-जारिया ज़रूर कमायें|

Join ya ALLAH Community!

FaceBook→ yaALLAHyaRasul

Subscribe to YouTube Channel→ yaALLAH Website Official

Instagram par Follow Kijiye instagram.com/yaALLAH.in

3 Comments on “1 to 6 Kalma in Hindi”

  1. Aslam alikum.
    Sir i am to much distrub suddenly my all famliy is against me and they wants me to do not get married the person i like .
    I want any wazifa to make them agree . They dont like him becasue he is poor and his father left her mom in his childhood .
    This is so ilogical things i am suffering from all these things i have sent text at instagram but no body replied me its been 2 weeks .
    I am to much distub i like him we wants to live our life on base of islam only nikha.
    Please help me to and give me any wazifa .
    Please reply me on my email id .
    jaminai87@yahoo.com

  2. Assalamvalekum bhai, bhai mujhe aisa koi dua or wazifa bataiye jisse meri job permanent ho aur muje hike ya promotion mile. My bohut tension me hu aur mere problems khatam ho.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *